Mere Priya

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mere Priya

Mere Priya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रज़ा साहब जब 2010 के अन्त में अपने जीवन का आख़िरी चरण बिताने दिल्ली आ गए तो अपने साथ पुस्तकों, कैटलॉगों व अन्य काग़ज़ात का एक बड़ा संग्रह भी लाए। इस सारी सामग्री को एकत्र और व्यवस्थित कर रज़ा अभिलेखागार बनाया जा रहा है। जो काग़ज़ात हमें मिले उनमें रज़ा के कलाकार-मित्रों के कई पत्र भी मिले हैं। इनमें मक़बूल फिदा हुसेन, फ्रांसिस न्यूटन सूज़ा, के.एच. आरा, रामकुमार, कृष्ण खन्ना और तैयब मेहता शामिल हैं। उनके पत्राचार में निजी, कलात्मक, सामाजिक आदि कई विषयों पर लिखा गया है और उन्हें पढ़ने से एक मूर्धन्य कलाकार की संघर्ष-गाथा के कई पहलू समझ में आते हैं। उस परिवेश, उन मित्रों और उनके सम्बन्धों पर भी रोशनी पड़ती है जिन्होंने रज़ा को एक व्यक्ति और कलाकार के रूप में विकसित होने में भूमिका निभाई। यह एक तरह का अनौपचारिक रिकॉर्ड भी है जो हमें बताता है कि हमारे कुछ कला-मूर्धन्य अपने समय कैसे देख-समझ रहे थे, उनकी उत्सुकताएँ और बेचैनियाँ क्या थीं और एक विकासशील सौन्दर्य-बोध कैसे आकार ले रहा था।
इस पत्राचार को क्रमश: कुछ पुस्तकों में प्रकाशित करने का इरादा है। इस सीरीज़ में पहली पुस्तक रज़ा और कृष्ण खन्ना के पत्राचार की है। सौभाग्य से इन दोनों ने एक-दूसरे के पत्र सँभालकर रखे। दो मूर्धन्य कलाकारों के बीच यह पत्र-संवाद बिरला है और इसे हिन्दी अनुवाद में प्रकाशित करते हमें प्रसन्नता है।
—अशोक वाजपेयी Raza sahab jab 2010 ke ant mein apne jivan ka aakhiri charan bitane dilli aa ge to apne saath pustkon, kaitalaugon va anya kagzat ka ek bada sangrah bhi laye. Is sari samagri ko ekatr aur vyvasthit kar raza abhilekhagar banaya ja raha hai. Jo kagzat hamein mile unmen raza ke kalakar-mitron ke kai patr bhi mile hain. Inmen maqbul phida husen, phransis nyutan suza, ke. Ech. Aara, ramakumar, krishn khanna aur taiyab mehta shamil hain. Unke patrachar mein niji, kalatmak, samajik aadi kai vishyon par likha gaya hai aur unhen padhne se ek murdhanya kalakar ki sangharsh-gatha ke kai pahlu samajh mein aate hain. Us parivesh, un mitron aur unke sambandhon par bhi roshni padti hai jinhonne raza ko ek vyakti aur kalakar ke rup mein viksit hone mein bhumika nibhai. Ye ek tarah ka anaupcharik rikaurd bhi hai jo hamein batata hai ki hamare kuchh kala-murdhanya apne samay kaise dekh-samajh rahe the, unki utsuktayen aur bechainiyan kya thin aur ek vikasshil saundarya-bodh kaise aakar le raha tha. Is patrachar ko krmash: kuchh pustkon mein prkashit karne ka irada hai. Is siriz mein pahli pustak raza aur krishn khanna ke patrachar ki hai. Saubhagya se in donon ne ek-dusre ke patr sanbhalakar rakhe. Do murdhanya kalakaron ke bich ye patr-sanvad birla hai aur ise hindi anuvad mein prkashit karte hamein prsannta hai.
—ashok vajpeyi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products