Mere Dil Mere Musafir

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Mere Dil Mere Musafir

Mere Dil Mere Musafir

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

फ़ैज़ को ज़िन्दगी और सुन्दरता से प्यार है—भरपूर प्यार, और इसीलिए जब उन्हें मानवता पर मौत और बदसूरती की छाया मँडराती दिखाई देती है, वह उसको दूर करने के लिए बड़ी-से-बड़ी आहुति देने से भी नहीं चूकते। उनका जीवन इसी पवित्र संघर्ष का प्रतीक है और उनकी शाइरी इसी का संगीत।
‘मेरे दिल मेरे मुसाफ़िर’ फ़ैज़ अहमद ‘फ़ैज़’ की नज़्मों और ग़ज़लों का संग्रह है। इस संग्रह की ख़ासियत यह है कि रचनाओं को उर्दू और नागरी दोनों लिपियों में रखा गया है। अपनी रचनात्मक भावभूमि पर इस संग्रह की कविताएँ फ़ैज़ के ‘जीवन-काल के विभिन्न चरणों की प्रतीक हैं और यह चरण उनके पूरे जीवन और पूरी कविता के चरित्र का ही स्वाभाविक अंग है।’ इंसान और इंसानियत के हक़ में उन्होंने एक मुसलसल लड़ाई लड़ी है और अवाम के दु:ख-दर्द और उसके ग़ुस्‍से को दिल की गहराइयों में डूबकर क़लमबन्द किया है। इसके लिए हुक्मरानों का हरेक कोप और हर सज़ा क़बूल करते हुए आजीवन क़ुर्बानियाँ दीं।
ज़ाहिरा तौर पर उनकी शायरी सच्चे इंसानों की हिम्मत, इंसानियत से उनके प्यार और एक ख़ूबसूरत भविष्य के लिए जीत के विश्वास से पैदा हुई है; और इसीलिए उनकी आवाज़ दुनिया के हर संघर्षशील आदमी की ऐसी आवाज़ है ‘जो क़ैदख़ानों की सलाख़ों से भी छन जाती है और फाँसी के फन्दों से भी गूँज उठती है।’ Faiz ko zindagi aur sundarta se pyar hai—bharpur pyar, aur isiliye jab unhen manavta par maut aur badsurti ki chhaya mandrati dikhai deti hai, vah usko dur karne ke liye badi-se-badi aahuti dene se bhi nahin chukte. Unka jivan isi pavitr sangharsh ka prtik hai aur unki shairi isi ka sangit. ‘mere dil mere musafir’ faiz ahmad ‘faiz’ ki nazmon aur gazlon ka sangrah hai. Is sangrah ki khasiyat ye hai ki rachnaon ko urdu aur nagri donon lipiyon mein rakha gaya hai. Apni rachnatmak bhavbhumi par is sangrah ki kavitayen faiz ke ‘jivan-kal ke vibhinn charnon ki prtik hain aur ye charan unke pure jivan aur puri kavita ke charitr ka hi svabhavik ang hai. ’ insan aur insaniyat ke haq mein unhonne ek musalsal ladai ladi hai aur avam ke du:kha-dard aur uske gus‍se ko dil ki gahraiyon mein dubkar qalamband kiya hai. Iske liye hukmranon ka harek kop aur har saza qabul karte hue aajivan qurbaniyan din.
Zahira taur par unki shayri sachche insanon ki himmat, insaniyat se unke pyar aur ek khubsurat bhavishya ke liye jit ke vishvas se paida hui hai; aur isiliye unki aavaz duniya ke har sangharshshil aadmi ki aisi aavaz hai ‘jo qaidkhanon ki salakhon se bhi chhan jati hai aur phansi ke phandon se bhi gunj uthti hai. ’

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products