BackBack
-11%

Mera Lahuluan Punjab

Khushwant Singh, Tr. Usha Mahajan

Rs. 225 Rs. 200

बैसाख की पहली तिथि पंजाबी पंचांग के अनुसार नववर्ष दिवस के रूप में मनाई जाती है। इसी दिन 13 अप्रैल, 1978 को जरनैल सिंह भिंडरावाले ने धूम-धड़ाके से पंजाब के रंगमंच पर पदार्पण किया। इस घटना से न केवल पंजाब के जन-जीवन में तूफ़ान आया बल्कि पूरे देश के लिए... Read More

BlackBlack
Description

बैसाख की पहली तिथि पंजाबी पंचांग के अनुसार नववर्ष दिवस के रूप में मनाई जाती है। इसी दिन 13 अप्रैल, 1978 को जरनैल सिंह भिंडरावाले ने धूम-धड़ाके से पंजाब के रंगमंच पर पदार्पण किया। इस घटना से न केवल पंजाब के जन-जीवन में तूफ़ान आया बल्कि पूरे देश के लिए इसके दूरगामी परिणाम हुए। पूरा पंजाब अशान्त और आतंकवाद के हाथों क्षत-विक्षत हो गया और धीरे-धीरे यह समस्या इतनी पेचीदा बन गई कि देश की अखंडता के लिए यह सचमुच का ख़तरा बनती दिखाई दी। सुप्रसिद्ध लेखक और पत्रकार खुशवंत सिंह की प्रस्तुत पुस्तक सुस्पष्ट रूप से इस समस्या का इतिहास दर्शाती है, स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद पंजाबियों के गिले-शिकवों और असन्तोष का विवरण देती है, और सभी प्रमुख घटनाओं पर रोशनी डालती है।
लेखक का व्यक्तिगत जुड़ाव पुस्तक को विशेष प्रामाणिकता प्रदान करता है, जो लगभग इसके प्रत्येक पृष्ठ पर प्रकट है। इसमें लेखक ने एक तरफ़ पंजाब की राजनीति तथा दूसरी ओर केन्द्र सरकार द्वारा जानबूझकर खेले जानेवाले शरारतपूर्ण राजनीतिक खेलों पर अपने विचार प्रकट किए हैं। इसका परिणाम यह हुआ कि भारत के सबसे उन्नतिशील राज्य की प्रगति के मार्ग में गत्यवरोध आ गया, यहाँ की कृषि और औद्योगिक अर्थव्यवस्था तहस-नहस होने लगी, इसका प्रशासन और न्यायपालिका पंगु बनकर रह गए। जो लोग इस गत्यवरोध को अधिक गहराई से समझना चाहते हैं, उनके लिए यह पुस्तक अवश्य पठनीय है। Baisakh ki pahli tithi panjabi panchang ke anusar navvarsh divas ke rup mein manai jati hai. Isi din 13 aprail, 1978 ko jarnail sinh bhindravale ne dhum-dhadake se panjab ke rangmanch par padarpan kiya. Is ghatna se na keval panjab ke jan-jivan mein tufan aaya balki pure desh ke liye iske durgami parinam hue. Pura panjab ashant aur aatankvad ke hathon kshat-vikshat ho gaya aur dhire-dhire ye samasya itni pechida ban gai ki desh ki akhandta ke liye ye sachmuch ka khatra banti dikhai di. Suprsiddh lekhak aur patrkar khushvant sinh ki prastut pustak suspasht rup se is samasya ka itihas darshati hai, svtantrta-prapti ke baad panjabiyon ke gile-shikvon aur asantosh ka vivran deti hai, aur sabhi prmukh ghatnaon par roshni dalti hai. Lekhak ka vyaktigat judav pustak ko vishesh pramanikta prdan karta hai, jo lagbhag iske pratyek prishth par prkat hai. Ismen lekhak ne ek taraf panjab ki rajniti tatha dusri or kendr sarkar dvara janbujhkar khele janevale shararatpurn rajnitik khelon par apne vichar prkat kiye hain. Iska parinam ye hua ki bharat ke sabse unnatishil rajya ki pragati ke marg mein gatyavrodh aa gaya, yahan ki krishi aur audyogik arthavyvastha tahas-nahas hone lagi, iska prshasan aur nyaypalika pangu bankar rah ge. Jo log is gatyavrodh ko adhik gahrai se samajhna chahte hain, unke liye ye pustak avashya pathniy hai.