BackBack

Media Ki Badalti Bhasha

Dr. Ajay Kumar Singh

Rs. 450

हिन्दी भाषा का जो स्वरूप आज हमारे सामने है, उसके निर्माण में लगभग एक हज़ार साल लगे हैं और हम दावे के साथ यह कहने की स्थिति में अब भी नहीं हैं कि यह स्वरूप आख़िरी या स्थिर है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति के कारण मीडिया की हिन्दी भाषा के स्वरूप... Read More

readsample_tab

हिन्दी भाषा का जो स्वरूप आज हमारे सामने है, उसके निर्माण में लगभग एक हज़ार साल लगे हैं और हम दावे के साथ यह कहने की स्थिति में अब भी नहीं हैं कि यह स्वरूप आख़िरी या स्थिर है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति के कारण मीडिया की हिन्दी भाषा के स्वरूप में निरन्तर परिवर्तन हो रहा है। आज हमें ऐसी हिन्दी भाषा की आवश्यकता है जो संस्कृत शब्दों से अलंकृत भी हो और अन्यान्य देशी-विदेशी भाषाओं के सरल, सहज और प्रचलित शब्दों से समृद्ध हो। पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य कर रहे व्यक्तियों एवं पत्रकारिता का प्रशिक्षण ले रहे विद्यार्थियों को भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है। प्रस्तुत पुस्तक में मीडिया की बदलती हिन्दी भाषा का विश्लेषण कर ऐसी हिन्दी भाषा को स्थापित करने का प्रयास किया गया है, जो प्रौद्योगिकी के साथ मिलकर चले और आम जनमानस की भाषा बन सके। Hindi bhasha ka jo svrup aaj hamare samne hai, uske nirman mein lagbhag ek hazar saal lage hain aur hum dave ke saath ye kahne ki sthiti mein ab bhi nahin hain ki ye svrup aakhiri ya sthir hai. Suchna praudyogiki kranti ke karan midiya ki hindi bhasha ke svrup mein nirantar parivartan ho raha hai. Aaj hamein aisi hindi bhasha ki aavashyakta hai jo sanskrit shabdon se alankrit bhi ho aur anyanya deshi-videshi bhashaon ke saral, sahaj aur prachlit shabdon se samriddh ho. Patrkarita ke kshetr mein karya kar rahe vyaktiyon evan patrkarita ka prshikshan le rahe vidyarthiyon ko bhasha ka gyan hona aavashyak hai. Prastut pustak mein midiya ki badalti hindi bhasha ka vishleshan kar aisi hindi bhasha ko sthapit karne ka pryas kiya gaya hai, jo praudyogiki ke saath milkar chale aur aam janmanas ki bhasha ban sake.

Description

हिन्दी भाषा का जो स्वरूप आज हमारे सामने है, उसके निर्माण में लगभग एक हज़ार साल लगे हैं और हम दावे के साथ यह कहने की स्थिति में अब भी नहीं हैं कि यह स्वरूप आख़िरी या स्थिर है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति के कारण मीडिया की हिन्दी भाषा के स्वरूप में निरन्तर परिवर्तन हो रहा है। आज हमें ऐसी हिन्दी भाषा की आवश्यकता है जो संस्कृत शब्दों से अलंकृत भी हो और अन्यान्य देशी-विदेशी भाषाओं के सरल, सहज और प्रचलित शब्दों से समृद्ध हो। पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य कर रहे व्यक्तियों एवं पत्रकारिता का प्रशिक्षण ले रहे विद्यार्थियों को भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है। प्रस्तुत पुस्तक में मीडिया की बदलती हिन्दी भाषा का विश्लेषण कर ऐसी हिन्दी भाषा को स्थापित करने का प्रयास किया गया है, जो प्रौद्योगिकी के साथ मिलकर चले और आम जनमानस की भाषा बन सके। Hindi bhasha ka jo svrup aaj hamare samne hai, uske nirman mein lagbhag ek hazar saal lage hain aur hum dave ke saath ye kahne ki sthiti mein ab bhi nahin hain ki ye svrup aakhiri ya sthir hai. Suchna praudyogiki kranti ke karan midiya ki hindi bhasha ke svrup mein nirantar parivartan ho raha hai. Aaj hamein aisi hindi bhasha ki aavashyakta hai jo sanskrit shabdon se alankrit bhi ho aur anyanya deshi-videshi bhashaon ke saral, sahaj aur prachlit shabdon se samriddh ho. Patrkarita ke kshetr mein karya kar rahe vyaktiyon evan patrkarita ka prshikshan le rahe vidyarthiyon ko bhasha ka gyan hona aavashyak hai. Prastut pustak mein midiya ki badalti hindi bhasha ka vishleshan kar aisi hindi bhasha ko sthapit karne ka pryas kiya gaya hai, jo praudyogiki ke saath milkar chale aur aam janmanas ki bhasha ban sake.

Additional Information
Book Type

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Media Ki Badalti Bhasha

हिन्दी भाषा का जो स्वरूप आज हमारे सामने है, उसके निर्माण में लगभग एक हज़ार साल लगे हैं और हम दावे के साथ यह कहने की स्थिति में अब भी नहीं हैं कि यह स्वरूप आख़िरी या स्थिर है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति के कारण मीडिया की हिन्दी भाषा के स्वरूप में निरन्तर परिवर्तन हो रहा है। आज हमें ऐसी हिन्दी भाषा की आवश्यकता है जो संस्कृत शब्दों से अलंकृत भी हो और अन्यान्य देशी-विदेशी भाषाओं के सरल, सहज और प्रचलित शब्दों से समृद्ध हो। पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य कर रहे व्यक्तियों एवं पत्रकारिता का प्रशिक्षण ले रहे विद्यार्थियों को भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है। प्रस्तुत पुस्तक में मीडिया की बदलती हिन्दी भाषा का विश्लेषण कर ऐसी हिन्दी भाषा को स्थापित करने का प्रयास किया गया है, जो प्रौद्योगिकी के साथ मिलकर चले और आम जनमानस की भाषा बन सके। Hindi bhasha ka jo svrup aaj hamare samne hai, uske nirman mein lagbhag ek hazar saal lage hain aur hum dave ke saath ye kahne ki sthiti mein ab bhi nahin hain ki ye svrup aakhiri ya sthir hai. Suchna praudyogiki kranti ke karan midiya ki hindi bhasha ke svrup mein nirantar parivartan ho raha hai. Aaj hamein aisi hindi bhasha ki aavashyakta hai jo sanskrit shabdon se alankrit bhi ho aur anyanya deshi-videshi bhashaon ke saral, sahaj aur prachlit shabdon se samriddh ho. Patrkarita ke kshetr mein karya kar rahe vyaktiyon evan patrkarita ka prshikshan le rahe vidyarthiyon ko bhasha ka gyan hona aavashyak hai. Prastut pustak mein midiya ki badalti hindi bhasha ka vishleshan kar aisi hindi bhasha ko sthapit karne ka pryas kiya gaya hai, jo praudyogiki ke saath milkar chale aur aam janmanas ki bhasha ban sake.