Look Inside
Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan
Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan
Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan
Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan

Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan

Regular price Rs. 116
Sale price Rs. 116 Regular price Rs. 125
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan

Manavputra Isa : Jeewan Aur Darshan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विश्वविख्यात चरितावली में मानवपुत्र ईसा का नाम प्रथम पंक्ति में है। उनका जीवन एक स्तर पर जितना सुस्पष्ट और सुलिखित है, उतना ही उसके विविध पक्षों की व्याख्या को लेकर विद्वानों और विचारकों में मतभेद रहा है। वे ईश्वर के बेटे हैं पर मानवपुत्र कहे जाते हैं। इस रूप में लौकिक और अलौकिक संसार को वे बड़ी ख़ूबी से जोड़ते हैं। उनके सीधे-सादे जीवनवृत्त में सृष्टि के अनेक रहस्य अन्तर्निहित हैं। इस स्थिति में ईसा का जीवन आरम्भ से ही बड़े-बड़े जीवनीकारों, दार्शनिकों और कलाकारों के लिए सूक्ष्म जिज्ञासा का विषय रहा है। पश्चिमी संसार की कलाओं का एक बहुत बड़ा भाग ईसा के जीवन-चरित से प्रेरित और प्रभावित है। भारत के बड़े-बड़े मनीषी भी उनके व्यक्तित्व से सीखते हैं। महात्मा गांधी के लिए अत्यन्त प्रेरक प्रसंगों में से एक पर्वत-प्रवचन का रहा है।
ऐसे सरल पर उलझे हुए चरित को लिखना किसी भी लेखक के लिए योग्य चुनौती है। डॉ. रघुवंश ने केवल ईसा की कहानी नहीं कह दी है, वरन् अपनी भाषा में उसका पुनःसृजन किया है। वृत्त, चरित और जीवनी से आगे वह रचनात्मक साहित्य बनने के लिए प्रस्तुत है। इलाहाबाद कैथलिक सैमिनरी के कई विद्वानों ने उसे पढ़ा और देखा है। इस रूप में जहाँ एक ओर उसका साहित्यिक पक्ष विकसित है, वहीं उसका वृत्ताधार प्रामाणिक और परीक्षित, और इन दोनों स्तरों पर वह आकर्षक पाठ्य-सामग्री सिद्ध होगी। Vishvvikhyat charitavli mein manavputr iisa ka naam prtham pankti mein hai. Unka jivan ek star par jitna suspasht aur sulikhit hai, utna hi uske vividh pakshon ki vyakhya ko lekar vidvanon aur vicharkon mein matbhed raha hai. Ve iishvar ke bete hain par manavputr kahe jate hain. Is rup mein laukik aur alaukik sansar ko ve badi khubi se jodte hain. Unke sidhe-sade jivanvritt mein srishti ke anek rahasya antarnihit hain. Is sthiti mein iisa ka jivan aarambh se hi bade-bade jivnikaron, darshanikon aur kalakaron ke liye sukshm jigyasa ka vishay raha hai. Pashchimi sansar ki kalaon ka ek bahut bada bhag iisa ke jivan-charit se prerit aur prbhavit hai. Bharat ke bade-bade manishi bhi unke vyaktitv se sikhte hain. Mahatma gandhi ke liye atyant prerak prsangon mein se ek parvat-pravchan ka raha hai. Aise saral par uljhe hue charit ko likhna kisi bhi lekhak ke liye yogya chunauti hai. Dau. Raghuvansh ne keval iisa ki kahani nahin kah di hai, varan apni bhasha mein uska punःsrijan kiya hai. Vritt, charit aur jivni se aage vah rachnatmak sahitya banne ke liye prastut hai. Ilahabad kaithlik saiminri ke kai vidvanon ne use padha aur dekha hai. Is rup mein jahan ek or uska sahityik paksh viksit hai, vahin uska vrittadhar pramanik aur parikshit, aur in donon stron par vah aakarshak pathya-samagri siddh hogi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products