Look Inside
Manav Samaz
Manav Samaz
Manav Samaz
Manav Samaz

Manav Samaz

Regular price Rs. 349
Sale price Rs. 349 Regular price Rs. 375
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Manav Samaz

Manav Samaz

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मानव समाज से अलग नहीं रह सकता था, अलग रहने पर उसे भाषा से ही नहीं, चिन्तन से भी नाता तोड़ना पड़ता, क्योंकि चिन्तन ध्वनिरहित शब्द है। मनुष्य की हर एक गति पर समाज की छाप है। बचपन से ही समाज के विधि-निषेधों को हम माँ के दूध के साथ पीते हैं, इसलिए हम उनमें से अधिकांश को बंधन नहीं भूषण के तौर पर ग्रहण करते हैं, किन्तु वह हमारे कायिक, वाचिक कर्मों पर पग-पग पर अपनी व्यवस्था देते हैं, यह उस वक़्त मालूम हो जाता है, जब हम किसी को उनका उल्लंघन करते देख उसे असभ्य कह डालते हैं।
सीप में जैसे सीप प्राणी का विकास होता है, उसी प्रकार हर एक व्यक्ति का विकास उसके सामाजिक वातावरण में होता है। मनुष्य की शिक्षा-दीक्षा अपने परिवार, ठाठ-बाट, पाठशाला, क्रीड़ा तथा क्रिया के क्षेत्र में और समाज द्वारा विकसित भाषा को लेकर होती है।
‘मानव समाज’ हिन्दी में अपने ढंग की अकेली पुस्तक है। हिन्दी और बांग्ला पाठकों के लिए यह बहुत उपयोगी सिद्ध हुई है। Manav samaj se alag nahin rah sakta tha, alag rahne par use bhasha se hi nahin, chintan se bhi nata todna padta, kyonki chintan dhvanirhit shabd hai. Manushya ki har ek gati par samaj ki chhap hai. Bachpan se hi samaj ke vidhi-nishedhon ko hum man ke dudh ke saath pite hain, isaliye hum unmen se adhikansh ko bandhan nahin bhushan ke taur par grhan karte hain, kintu vah hamare kayik, vachik karmon par pag-pag par apni vyvastha dete hain, ye us vaqt malum ho jata hai, jab hum kisi ko unka ullanghan karte dekh use asabhya kah dalte hain. Sip mein jaise sip prani ka vikas hota hai, usi prkar har ek vyakti ka vikas uske samajik vatavran mein hota hai. Manushya ki shiksha-diksha apne parivar, thath-bat, pathshala, krida tatha kriya ke kshetr mein aur samaj dvara viksit bhasha ko lekar hoti hai.
‘manav samaj’ hindi mein apne dhang ki akeli pustak hai. Hindi aur bangla pathkon ke liye ye bahut upyogi siddh hui hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products