BackBack

Mamooli Cheezon Ka Devata

Arundhati Roy

Rs. 695

एक विशुद्ध व्यावहारिक अर्थ में तो शायद यह कहना सही होगा कि यह सब उस समय शुरू हुआ, जब सोफ़ी मोल आयमनम आई। शायद यह सच है कि एक ही दिन में चीज़ें बदल सकती हैं। कि चंद घंटे समूची ज़िन्दगियों के नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं। और यह... Read More

HardboundHardbound
Description

एक विशुद्ध व्यावहारिक अर्थ में तो शायद यह कहना सही होगा कि यह सब उस समय शुरू हुआ, जब सोफ़ी मोल आयमनम आई। शायद यह सच है कि एक ही दिन में चीज़ें बदल सकती हैं। कि चंद घंटे समूची ज़िन्दगियों के नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं। और यह कि जब वे ऐसा करते हैं, उन चंद घंटों को किसी जले हुए घर से बचाए गए अवशेषों की तरह—करियाई हुई घड़ी, आँच लगी तस्वीर, झुलसा हुआ फ़र्नीचर—खंडहरों से समेटकर उनकी जाँच-परख करनी पड़ती है। सँजोना पड़ता है। उनका लेखा-जोखा करना पड़ता है।
छोटी-छोटी घटनाएँ, मामूली चीज़ें, टूटी-फूटी और फिर से जोड़ी गईं। नए अर्थों से भरी। अचानक वे किसी कहानी की निर्वर्ण हड्डियाँ बन जाती हैं।
फिर भी, यह कहना कि वह सब कुछ तब शुरू हुआ जब सोफ़ी मोल आयमनम आई, उसे देखने का महज़ एक पहलू है।
साथ ही यह दावा भी किया जा सकता था कि वह प्रकरण सचमुच हज़ारों साल पहले शुरू हुआ था। मार्क्सवादियों के आने से बहुत पहले। अंग्रेज़ों के मलाबार पर क़ब्ज़ा करने से पहले, डच उत्थान से पहले, वास्को डी गामा के आगमन से पहले, ज़मोरिन की कालिकट विजय से पहले।
किश्ती में सवार ईसाइयत के आगमन और चाय की थैली से चाय की तरह रिसकर केरल में उसके फैल जाने से भी बहुत पहले हुई थी।
कि वह सब कुछ दरअसल उन दिनों शुरू हुआ जब प्रेम के क़ानून बने। वे क़ानून जो यह निर्धारित करते थे कि किस से प्रेम किया जाना चाहिए, और कैसे।
और कितना।
बहरहाल, व्यावहारिक रूप से एक नितान्त व्यावहारिक दुनिया में...वह दिसम्बर उनहत्तर का (उन्नीस सौ अनुच्चरित था) एक आसमानी नीला दिन था। एक आसमानी रंग की प्लिमथ, अपने टेलफ़िनों में सूरज को लिए, धान के युवा खेतों और रबर के बूढ़े पेड़ों को तेज़ी से पीछे छोड़ती कोचीन की तरफ़ भागी जा रही थी... Ek vishuddh vyavharik arth mein to shayad ye kahna sahi hoga ki ye sab us samay shuru hua, jab sofi mol aayamnam aai. Shayad ye sach hai ki ek hi din mein chizen badal sakti hain. Ki chand ghante samuchi zindagiyon ke natijon ko prbhavit kar sakte hain. Aur ye ki jab ve aisa karte hain, un chand ghanton ko kisi jale hue ghar se bachaye ge avsheshon ki tarah—kariyai hui ghadi, aanch lagi tasvir, jhulsa hua farnichar—khandahron se sametkar unki janch-parakh karni padti hai. Sanjona padta hai. Unka lekha-jokha karna padta hai. Chhoti-chhoti ghatnayen, mamuli chizen, tuti-phuti aur phir se jodi gain. Ne arthon se bhari. Achanak ve kisi kahani ki nirvarn haddiyan ban jati hain.
Phir bhi, ye kahna ki vah sab kuchh tab shuru hua jab sofi mol aayamnam aai, use dekhne ka mahaz ek pahlu hai.
Saath hi ye dava bhi kiya ja sakta tha ki vah prakran sachmuch hazaron saal pahle shuru hua tha. Marksvadiyon ke aane se bahut pahle. Angrezon ke malabar par qabza karne se pahle, dach utthan se pahle, vasko di gama ke aagman se pahle, zamorin ki kalikat vijay se pahle.
Kishti mein savar iisaiyat ke aagman aur chay ki thaili se chay ki tarah riskar keral mein uske phail jane se bhi bahut pahle hui thi.
Ki vah sab kuchh darasal un dinon shuru hua jab prem ke qanun bane. Ve qanun jo ye nirdharit karte the ki kis se prem kiya jana chahiye, aur kaise.
Aur kitna.
Baharhal, vyavharik rup se ek nitant vyavharik duniya mein. . . Vah disambar unhattar ka (unnis sau anuchchrit tha) ek aasmani nila din tha. Ek aasmani rang ki plimath, apne telafinon mein suraj ko liye, dhan ke yuva kheton aur rabar ke budhe pedon ko tezi se pichhe chhodti kochin ki taraf bhagi ja rahi thi. . .

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126708406
Pages 296p
Publishing Year

Mamooli Cheezon Ka Devata

एक विशुद्ध व्यावहारिक अर्थ में तो शायद यह कहना सही होगा कि यह सब उस समय शुरू हुआ, जब सोफ़ी मोल आयमनम आई। शायद यह सच है कि एक ही दिन में चीज़ें बदल सकती हैं। कि चंद घंटे समूची ज़िन्दगियों के नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं। और यह कि जब वे ऐसा करते हैं, उन चंद घंटों को किसी जले हुए घर से बचाए गए अवशेषों की तरह—करियाई हुई घड़ी, आँच लगी तस्वीर, झुलसा हुआ फ़र्नीचर—खंडहरों से समेटकर उनकी जाँच-परख करनी पड़ती है। सँजोना पड़ता है। उनका लेखा-जोखा करना पड़ता है।
छोटी-छोटी घटनाएँ, मामूली चीज़ें, टूटी-फूटी और फिर से जोड़ी गईं। नए अर्थों से भरी। अचानक वे किसी कहानी की निर्वर्ण हड्डियाँ बन जाती हैं।
फिर भी, यह कहना कि वह सब कुछ तब शुरू हुआ जब सोफ़ी मोल आयमनम आई, उसे देखने का महज़ एक पहलू है।
साथ ही यह दावा भी किया जा सकता था कि वह प्रकरण सचमुच हज़ारों साल पहले शुरू हुआ था। मार्क्सवादियों के आने से बहुत पहले। अंग्रेज़ों के मलाबार पर क़ब्ज़ा करने से पहले, डच उत्थान से पहले, वास्को डी गामा के आगमन से पहले, ज़मोरिन की कालिकट विजय से पहले।
किश्ती में सवार ईसाइयत के आगमन और चाय की थैली से चाय की तरह रिसकर केरल में उसके फैल जाने से भी बहुत पहले हुई थी।
कि वह सब कुछ दरअसल उन दिनों शुरू हुआ जब प्रेम के क़ानून बने। वे क़ानून जो यह निर्धारित करते थे कि किस से प्रेम किया जाना चाहिए, और कैसे।
और कितना।
बहरहाल, व्यावहारिक रूप से एक नितान्त व्यावहारिक दुनिया में...वह दिसम्बर उनहत्तर का (उन्नीस सौ अनुच्चरित था) एक आसमानी नीला दिन था। एक आसमानी रंग की प्लिमथ, अपने टेलफ़िनों में सूरज को लिए, धान के युवा खेतों और रबर के बूढ़े पेड़ों को तेज़ी से पीछे छोड़ती कोचीन की तरफ़ भागी जा रही थी... Ek vishuddh vyavharik arth mein to shayad ye kahna sahi hoga ki ye sab us samay shuru hua, jab sofi mol aayamnam aai. Shayad ye sach hai ki ek hi din mein chizen badal sakti hain. Ki chand ghante samuchi zindagiyon ke natijon ko prbhavit kar sakte hain. Aur ye ki jab ve aisa karte hain, un chand ghanton ko kisi jale hue ghar se bachaye ge avsheshon ki tarah—kariyai hui ghadi, aanch lagi tasvir, jhulsa hua farnichar—khandahron se sametkar unki janch-parakh karni padti hai. Sanjona padta hai. Unka lekha-jokha karna padta hai. Chhoti-chhoti ghatnayen, mamuli chizen, tuti-phuti aur phir se jodi gain. Ne arthon se bhari. Achanak ve kisi kahani ki nirvarn haddiyan ban jati hain.
Phir bhi, ye kahna ki vah sab kuchh tab shuru hua jab sofi mol aayamnam aai, use dekhne ka mahaz ek pahlu hai.
Saath hi ye dava bhi kiya ja sakta tha ki vah prakran sachmuch hazaron saal pahle shuru hua tha. Marksvadiyon ke aane se bahut pahle. Angrezon ke malabar par qabza karne se pahle, dach utthan se pahle, vasko di gama ke aagman se pahle, zamorin ki kalikat vijay se pahle.
Kishti mein savar iisaiyat ke aagman aur chay ki thaili se chay ki tarah riskar keral mein uske phail jane se bhi bahut pahle hui thi.
Ki vah sab kuchh darasal un dinon shuru hua jab prem ke qanun bane. Ve qanun jo ye nirdharit karte the ki kis se prem kiya jana chahiye, aur kaise.
Aur kitna.
Baharhal, vyavharik rup se ek nitant vyavharik duniya mein. . . Vah disambar unhattar ka (unnis sau anuchchrit tha) ek aasmani nila din tha. Ek aasmani rang ki plimath, apne telafinon mein suraj ko liye, dhan ke yuva kheton aur rabar ke budhe pedon ko tezi se pichhe chhodti kochin ki taraf bhagi ja rahi thi. . .