Look Inside
Maiyadas Ki Madi
Maiyadas Ki Madi
Maiyadas Ki Madi
Maiyadas Ki Madi

Maiyadas Ki Madi

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Maiyadas Ki Madi

Maiyadas Ki Madi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘मय्यादास की माड़ी’ में दाख़‍िल होने का एक ख़ास मतलब है, यानी पंजाब की धरती पर एक ऐसे कालखंड में दाख़‍िल होना, जबकि सिक्ख-अमलदारी को उखाड़ती हुई ब्रिटिश-साम्राज्यशाही दिन-ब-दिन अपने पाँव फैलाती जा रही थी।
भारतीय इतिहास के इस अहम बदलाव को भीष्म जी ने एक क़स्बाई कथाभूमि पर चित्रित किया है और कुछ इस कौशल से कि हम जन-जीवन के ठीक बीचोबीच जा पहुँचते हैं। झरते हुए पुरातन के बीच लोग एक नए युग की आहटें सुनते हैं, उन पर बहस-मुबाहसा करते हैं और चाहे-अनचाहे बदलते चले जाते हैं—उनकी अपनी निष्ठाओं, कदरों, क़ीमतों और परम्‍पराओं पर एक नया रंग चढ़ने लगता है। इस सबके केन्द्र में है दीवान मय्यादास की माड़ी, जो हमारे सामने एक शताब्दी पहले की सामन्‍ती अमलदारी, उसके सड़े-गले जीवन-मूल्यों और हास्यास्पद हो गए ठाठ-बाट के एक अविस्मरणीय ऐतिहासिक प्रतीक में बदल जाती है। इस माड़ी के साथ दीवानों की अनेक पीढ़ियाँ और अनेक ऐसे चरित्र जुड़े हुए हैं जो अपने-अपने सीमित दायरों में घूमते हुए भी विशेष अर्थ रखते हैं—इनमें चाहे सामन्‍ती धूर्तता और दयनीयता की पराकाष्ठा तक पहुँचा दीवान धनपत और उसका बेटा हुकूमतराय हो, राष्ट्रीयता के धूमिल आदर्शों से उद्वेलित लेखराज हो, बीमार और नीम-पागल कल्ले हो, साठसाला बूढ़ी भागसुद्धी हो या फिर विचित्र परिस्थितियों में माड़ी की बहू बन जानेवाली रुक्मो हो—जो कि अन्‍ततः एक नए युग की दीप-शिखा बनकर उभरती है।
वस्तुतः भीष्म जी का यह उपन्यास एक हवेली अथवा एक क़स्बे की कहानी होकर भी बहते काल-प्रवाह और बदलते परिवेश की दृष्टि से एक समूचे युग को समेटे हुए है और उनकी रचनात्मकता को एक नई ऊँचाई सौंपता है। ‘mayyadas ki madi’ mein dakh‍il hone ka ek khas matlab hai, yani panjab ki dharti par ek aise kalkhand mein dakh‍il hona, jabaki sikkh-amaldari ko ukhadti hui british-samrajyshahi din-ba-din apne panv phailati ja rahi thi. Bhartiy itihas ke is aham badlav ko bhishm ji ne ek qasbai kathabhumi par chitrit kiya hai aur kuchh is kaushal se ki hum jan-jivan ke thik bichobich ja pahunchate hain. Jharte hue puratan ke bich log ek ne yug ki aahten sunte hain, un par bahas-mubahsa karte hain aur chahe-anchahe badalte chale jate hain—unki apni nishthaon, kadron, qimton aur param‍paraon par ek naya rang chadhne lagta hai. Is sabke kendr mein hai divan mayyadas ki madi, jo hamare samne ek shatabdi pahle ki saman‍ti amaldari, uske sade-gale jivan-mulyon aur hasyaspad ho ge thath-bat ke ek avismarniy aitihasik prtik mein badal jati hai. Is madi ke saath divanon ki anek pidhiyan aur anek aise charitr jude hue hain jo apne-apne simit dayron mein ghumte hue bhi vishesh arth rakhte hain—inmen chahe saman‍ti dhurtta aur dayniyta ki parakashtha tak pahuncha divan dhanpat aur uska beta hukumatray ho, rashtriyta ke dhumil aadarshon se udvelit lekhraj ho, bimar aur nim-pagal kalle ho, sathsala budhi bhagsuddhi ho ya phir vichitr paristhitiyon mein madi ki bahu ban janevali rukmo ho—jo ki an‍tatः ek ne yug ki dip-shikha bankar ubharti hai.
Vastutः bhishm ji ka ye upanyas ek haveli athva ek qasbe ki kahani hokar bhi bahte kal-prvah aur badalte parivesh ki drishti se ek samuche yug ko samete hue hai aur unki rachnatmakta ko ek nai uunchai saumpta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products