Look Inside
Mahuacharit
Mahuacharit
Mahuacharit
Mahuacharit

Mahuacharit

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mahuacharit

Mahuacharit

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वरिष्ठ कथाकार काशीनाथ सिंह का उपन्यास ‘महुआचरित’ जीवन के अपार अरण्य में भटकती इच्छाओं का आख्यान है। मध्यवर्गीय समाज की सच्चाइयों को लेखक ने विशिष्ट कथा-रस के साथ प्रकट किया है। यह उपन्यास जिस शिल्प में अभिव्यक्त हुआ है, वह कथा-संसार में एक नया प्रस्थान निर्मित करता है। छोटे-बड़े किंचित् असमाप्त अपूर्ण वाक्य संकेतों की ओर उन्मुख विवरण और बहुअर्थी बिम्ब इस रचना को महत्त्वपूर्ण बनाते हैं। महुआ की सहेली है उसके मकान की छत जहाँ वह खुलती, खिलती और खेलती है। यह कल्पना ही अपने आपमें अनूठी और व्यंजक है।
कहना न होगा कि ‘महुआचरित’ को ‘वृत्तान्त का अन्त’ करती कथा-रचना के रूप में रेखांकित किया जा सकता है।
अस्सी साल के स्वतंत्रता सेनानी पिता की पुत्री महुआ की देहासक्ति से विवाह तक की यात्रा और फिर उसमें जागता अस्मिता-बोध—इस कथा को लेखक ने समुचित सामाजिक सन्दर्भों के साथ प्रस्तुत किया है। स्त्री-विमर्श की अनुगूँज के बावजूद यह प्रश्न आकार लेता है, ‘ऐसा क्या है देह में कि उसका तो कुछ नहीं बिगड़ता/लेकिन मन का सारा रिश्ता-नाता तहस-नहस हो जाता है।’
सघन संवेदना और सर्वथा नवीन संरचना से समृद्ध ‘महुआचरित’ उपन्यास निश्चित रूप से पाठकों की आत्मीयता अर्जित करेगा। Varishth kathakar kashinath sinh ka upanyas ‘mahuachrit’ jivan ke apar aranya mein bhatakti ichchhaon ka aakhyan hai. Madhyvargiy samaj ki sachchaiyon ko lekhak ne vishisht katha-ras ke saath prkat kiya hai. Ye upanyas jis shilp mein abhivyakt hua hai, vah katha-sansar mein ek naya prasthan nirmit karta hai. Chhote-bade kinchit asmapt apurn vakya sanketon ki or unmukh vivran aur bahuarthi bimb is rachna ko mahattvpurn banate hain. Mahua ki saheli hai uske makan ki chhat jahan vah khulti, khilti aur khelti hai. Ye kalpna hi apne aapmen anuthi aur vyanjak hai. Kahna na hoga ki ‘mahuachrit’ ko ‘vrittant ka ant’ karti katha-rachna ke rup mein rekhankit kiya ja sakta hai.
Assi saal ke svtantrta senani pita ki putri mahua ki dehasakti se vivah tak ki yatra aur phir usmen jagta asmita-bodh—is katha ko lekhak ne samuchit samajik sandarbhon ke saath prastut kiya hai. Stri-vimarsh ki anugunj ke bavjud ye prashn aakar leta hai, ‘aisa kya hai deh mein ki uska to kuchh nahin bigadta/lekin man ka sara rishta-nata tahas-nahas ho jata hai. ’
Saghan sanvedna aur sarvtha navin sanrachna se samriddh ‘mahuachrit’ upanyas nishchit rup se pathkon ki aatmiyta arjit karega.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products