BackBack
-11%

Mahabharat : Ek Navin Rupantaran

Shiv K. Kumar

Rs. 195 Rs. 174

‘महाभारत’ विश्व-इतिहास का प्राचीनतम महाकाव्य है। होमर की ‘इलियड’ और ‘ओडीसी’ से कहीं ज़्यादा प्रवीणता के साथ परिकल्पित और शिप्लित यह रचनात्मक कल्पना की अद्भुत कृति है। ऋषि वेदव्यास द्वारा ईसा के प्रायः 2000 वर्ष पूर्व रचित इस महाकाव्य में लगभग समस्त मानवीय मनोभावों—प्रेम और घृणा, क्षमा और प्रतिशोध, सत्य... Read More

BlackBlack
Description

‘महाभारत’ विश्व-इतिहास का प्राचीनतम महाकाव्य है। होमर की ‘इलियड’ और ‘ओडीसी’ से कहीं ज़्यादा प्रवीणता के साथ परिकल्पित और शिप्लित यह रचनात्मक कल्पना की अद्भुत कृति है। ऋषि वेदव्यास द्वारा ईसा के प्रायः 2000 वर्ष पूर्व रचित इस महाकाव्य में लगभग समस्त मानवीय मनोभावों—प्रेम और घृणा, क्षमा और प्रतिशोध, सत्य और असत्य, ब्रह्मचर्य और सम्भोग, निष्ठा और विश्वासघात, उदारता और लिप्सा—की सूक्ष्म प्रस्तुति मिलती है।
यों तो ‘महाभारत’ भारतीय मानस में रचा-बसा ग्रन्थ है, पर इसने सम्पूर्ण विश्व के पाठकों को आकर्षित किया है। शायद इसीलिए इस महाकाव्य का रूपान्तर विश्व की सभी प्रमुख भाषाओं में हुआ है। परन्तु विस्मय होता है यह देखकर कि ज़्यादातर रूपान्तरों में इसकी क्षमता का प्रतिपादन एक काव्यात्मक सौन्दर्य और सुगन्ध से समृद्ध कथा के रूप में नहीं हो पाया है। सम्भवतः इसलिए कि लेखकों ने मूलतः इसके कहानी पक्ष को ही प्रधानता दी।...किन्तु इस पुस्तक के लेखक शिव के. कुमार ने इसी कारण इस महाकाव्य में कुछ रंग और सुगन्ध भरने का प्रयास किया है।
यह वस्तुतः ‘महाभारत’ का एक नवीन रूपान्तर है। ‘महाभारत’ एक अद्वितीय रचना है। यह काल और स्थान की सीमाओं से परे है। इसलिए हर युग में इसके साथ संवाद सम्भव है। वर्तमान युग में भी सामाजिक न्याय, राजनीतिक स्वार्थजनित राष्ट्र विभाजन, नारी सशक्तिकरण और राजनेताओं के आचरण के सन्दर्भों में इसका आर्थिक औचित्य है। अंग्रेज़ी से हिन्दी में इस कृति का अनुवाद करते हुए प्रभा के. सिंह ने हिन्दी भाषा की प्रकृति का विशेष ध्यान रखा है। समग्रतः एक अनूठी रचना। ‘mahabharat’ vishv-itihas ka prachintam mahakavya hai. Homar ki ‘iliyad’ aur ‘odisi’ se kahin zyada prvinta ke saath parikalpit aur shiplit ye rachnatmak kalpna ki adbhut kriti hai. Rishi vedavyas dvara iisa ke prayः 2000 varsh purv rachit is mahakavya mein lagbhag samast manviy manobhavon—prem aur ghrina, kshma aur pratishodh, satya aur asatya, brahmcharya aur sambhog, nishtha aur vishvasghat, udarta aur lipsa—ki sukshm prastuti milti hai. Yon to ‘mahabharat’ bhartiy manas mein racha-basa granth hai, par isne sampurn vishv ke pathkon ko aakarshit kiya hai. Shayad isiliye is mahakavya ka rupantar vishv ki sabhi prmukh bhashaon mein hua hai. Parantu vismay hota hai ye dekhkar ki zyadatar rupantron mein iski kshamta ka pratipadan ek kavyatmak saundarya aur sugandh se samriddh katha ke rup mein nahin ho paya hai. Sambhvatः isaliye ki lekhkon ne mulatः iske kahani paksh ko hi prdhanta di. . . . Kintu is pustak ke lekhak shiv ke. Kumar ne isi karan is mahakavya mein kuchh rang aur sugandh bharne ka pryas kiya hai.
Ye vastutः ‘mahabharat’ ka ek navin rupantar hai. ‘mahabharat’ ek advitiy rachna hai. Ye kaal aur sthan ki simaon se pare hai. Isaliye har yug mein iske saath sanvad sambhav hai. Vartman yug mein bhi samajik nyay, rajnitik svarthajnit rashtr vibhajan, nari sashaktikran aur rajnetaon ke aachran ke sandarbhon mein iska aarthik auchitya hai. Angrezi se hindi mein is kriti ka anuvad karte hue prbha ke. Sinh ne hindi bhasha ki prkriti ka vishesh dhyan rakha hai. Samagratः ek anuthi rachna.