BackBack
-11%

Lokayat

Devi Prasad Chattopadhyay

Rs. 750 Rs. 668

Rajkamal Prakashan

यह पुस्तक प्राचीन भारतीय भौतिकवाद की मार्क्सवादी व्याख्या प्रस्तुत करती है। पाश्चात्य व्याख्याताओं ने भारतीय दर्शन के इस सशक्त पक्ष की प्रायः उपेक्षा की है। उनकी उपनिवेशवादी इतिहास-दृष्टि इस बात को बराबर रेखांकित करती रही है कि भारतीय दर्शन की मूल चेतना पारलौकिक और आध्यात्मिक है। उसमें जीवन तथा जगत... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Philosophy
Description

यह पुस्तक प्राचीन भारतीय भौतिकवाद की मार्क्सवादी व्याख्या प्रस्तुत करती है। पाश्चात्य व्याख्याताओं ने भारतीय दर्शन के इस सशक्त पक्ष की प्रायः उपेक्षा की है। उनकी उपनिवेशवादी इतिहास-दृष्टि इस बात को बराबर रेखांकित करती रही है कि भारतीय दर्शन की मूल चेतना पारलौकिक और आध्यात्मिक है। उसमें जीवन तथा जगत के यथार्थ को महत्‍त्‍वहीन माना गया है अथवा उसकी उपेक्षा की गई है।
देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय ने प्राचीन ग्रन्‍थों, पुरातात्त्विक और नृतत्त्‍वशास्त्रीय प्रमाणों और ऐतिहासिक साक्ष्यों के आधार पर इस बात का खंडन किया है। उनका कहना है कि प्राचीन भारत में लौकिकवाद और अलौकिकवाद, दोनों ही मौजूद थे। राजसत्ता के उदय के बाद शासक वर्ग ने लौकिक चिन्‍तन को अपने स्वार्थ के लिए नेपथ्य में डाल दिया तथा पारलौकिक चिन्‍तन को बढ़ावा दिया और भारतीय चिन्‍तन की एकमात्र धारा के रूप में उसे प्रतिष्ठा दिलाई। इसलिए प्राचीन भारत के लौकिक चिन्‍तन को समझे बिना हमारी इतिहास-दृष्टि हमेशा धुँधली रहेगी।
यह पुस्तक इतिहास, दर्शन, भारतीय साहित्य और संस्कृति में दिलचस्पी रखनेवाले जिज्ञासुओं के लिए समान रूप से उपयोगी है। इस पुस्तक का विश्व की सभी प्रमुख भाषाओं में अनुवाद हो चुका है। Ye pustak prachin bhartiy bhautikvad ki marksvadi vyakhya prastut karti hai. Pashchatya vyakhyataon ne bhartiy darshan ke is sashakt paksh ki prayः upeksha ki hai. Unki upaniveshvadi itihas-drishti is baat ko barabar rekhankit karti rahi hai ki bhartiy darshan ki mul chetna parlaukik aur aadhyatmik hai. Usmen jivan tatha jagat ke yatharth ko mahat‍‍vahin mana gaya hai athva uski upeksha ki gai hai. Deviprsad chattopadhyay ne prachin gran‍thon, puratattvik aur nritatt‍vashastriy prmanon aur aitihasik sakshyon ke aadhar par is baat ka khandan kiya hai. Unka kahna hai ki prachin bharat mein laukikvad aur alaukikvad, donon hi maujud the. Rajsatta ke uday ke baad shasak varg ne laukik chin‍tan ko apne svarth ke liye nepathya mein daal diya tatha parlaukik chin‍tan ko badhava diya aur bhartiy chin‍tan ki ekmatr dhara ke rup mein use pratishta dilai. Isaliye prachin bharat ke laukik chin‍tan ko samjhe bina hamari itihas-drishti hamesha dhundhali rahegi.
Ye pustak itihas, darshan, bhartiy sahitya aur sanskriti mein dilchaspi rakhnevale jigyasuon ke liye saman rup se upyogi hai. Is pustak ka vishv ki sabhi prmukh bhashaon mein anuvad ho chuka hai.