BackBack
-11%

Log Bistron Per

Kashinath Singh

Rs. 495 Rs. 441

खाँटी माटी के कथाकार हैं काशीनाथ सिंह। कथा साहित्य में ‘अकहानी’, ‘सचेतन कहानी’, ‘समान्तर कहानी’ आदि आन्दोलनों के काल से गुज़रे काशीनाथ सिंह ने भीड़ में होते हुए अपनी लीक स्वयं बनाई है। जो लोक रचा है उसका यथार्थ अपनी भाषा, शिल्प, कथ्य और दृष्टि में विश्वसनीय तो है ही,... Read More

BlackBlack
Description

खाँटी माटी के कथाकार हैं काशीनाथ सिंह। कथा साहित्य में ‘अकहानी’, ‘सचेतन कहानी’, ‘समान्तर कहानी’ आदि आन्दोलनों के काल से गुज़रे काशीनाथ सिंह ने भीड़ में होते हुए अपनी लीक स्वयं बनाई है। जो लोक रचा है उसका यथार्थ अपनी भाषा, शिल्प, कथ्य और दृष्टि में विश्वसनीय तो है ही, विलक्षण भी है।
एक सेवानिवृत्त व्यक्ति की नज़र से देखी-लिखी गई कहानी ‘सुख’ सामाजिक यथार्थ को व्यक्त करनेवाली एक अलग कहानी है तो ‘संकट’ एक ऐसे फौजी चरित्र की कथा जो अपनी वासना की पूर्ति न होने पर कई मानसिक तनावों में घिरता और घेरते चला जाता है।
‘एक बूढ़े की कहानी’ एक नाबालिग लडक़ी से बलात्कार की बेहद मार्मिक कथा है। ‘चोट’ में जाति के अहं को जिस पैनी दृष्टि के साथ रचा गया है, वह बदलते युग में वर्ण से जुड़ी कई गिरहों को खोलने में मदद करती है। जबकि ‘सुबह का डर’ मनुष्यता और पुलिसिया आतंक के बीच फँसे लोगों के डर के संजाल की कहानी है।
देखें तो, काशीनाथ सिंह के दो संग्रहों ‘लोग बिस्तरों पर’ और ‘सुबह का डर’ से शामिल कहानियों की इस एक जिल्द में ‘बैलून’ जैसी प्रेम कहानी है तो मौत के प्रति चिन्ता और चिन्तन के खोखलेपन से पर्दा हटाती ‘चायघर में मृत्यु’ जैसी कहानी भी। ‘आखिरी रात’ में दाम्पत्य जीवन के आर्थिक तनाव की कथा है, ‘अपने घर का देश’ में बदलते मूल्यों का गहन अंकन तो निरन्तर छीजती संवेदना का एक त्रासद रूप रचती पुस्तक की शीर्षक कहानी ‘लोग बिस्तरों पर’।
निस्सन्देह, काशीनाथ सिंह का यह कहानी-संग्रह महत्त्वपूर्ण ही नहीं, अपने समय की एक दस्तावेज़ भी है। Khanti mati ke kathakar hain kashinath sinh. Katha sahitya mein ‘akhani’, ‘sachetan kahani’, ‘samantar kahani’ aadi aandolnon ke kaal se guzre kashinath sinh ne bhid mein hote hue apni lik svayan banai hai. Jo lok racha hai uska yatharth apni bhasha, shilp, kathya aur drishti mein vishvasniy to hai hi, vilakshan bhi hai. Ek sevanivritt vyakti ki nazar se dekhi-likhi gai kahani ‘sukh’ samajik yatharth ko vyakt karnevali ek alag kahani hai to ‘sankat’ ek aise phauji charitr ki katha jo apni vasna ki purti na hone par kai mansik tanavon mein ghirta aur gherte chala jata hai.
‘ek budhe ki kahani’ ek nabalig ladqi se balatkar ki behad marmik katha hai. ‘chot’ mein jati ke ahan ko jis paini drishti ke saath racha gaya hai, vah badalte yug mein varn se judi kai girhon ko kholne mein madad karti hai. Jabaki ‘subah ka dar’ manushyta aur pulisiya aatank ke bich phanse logon ke dar ke sanjal ki kahani hai.
Dekhen to, kashinath sinh ke do sangrhon ‘log bistron par’ aur ‘subah ka dar’ se shamil kahaniyon ki is ek jild mein ‘bailun’ jaisi prem kahani hai to maut ke prati chinta aur chintan ke khokhlepan se parda hatati ‘chayghar mein mrityu’ jaisi kahani bhi. ‘akhiri rat’ mein dampatya jivan ke aarthik tanav ki katha hai, ‘apne ghar ka desh’ mein badalte mulyon ka gahan ankan to nirantar chhijti sanvedna ka ek trasad rup rachti pustak ki shirshak kahani ‘log bistron par’.
Nissandeh, kashinath sinh ka ye kahani-sangrah mahattvpurn hi nahin, apne samay ki ek dastavez bhi hai.