Lavanyadevi

Regular price Rs. 181
Sale price Rs. 181 Regular price Rs. 195
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Lavanyadevi

Lavanyadevi

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुसुम खेमानी के उपन्यास ‘लावण्यदेवी’ का कथा-फ़लक इतना विस्तृत है कि इसमें एक कुटुम्ब की पाँच पीढ़ियों की गाथा समाहित है। गाथा इसलिए कि इसमें केवल प्रभावती, ज्योतिर्मयीदेवी, लावण्यदेवी और उनकी सन्तति तथा नाती-पोतों की दास्तान ही नहीं है; बल्कि इनके बहाने जैसे एक पूरे युग और काल के प्रवाह को भाषा में बाँधने की कोशिश की गई है। ऐसी कथा-वस्तु में बिखराव की आशंका बराबर बनी रहती है, लेकिन कुसुम खेमानी ने अपने रचनात्मक कौशल से जैसा कथा-संयोजन किया है, वह देखते ही बनता है। यह हिन्दी का उपन्यास तो है ही, लेकिन इसकी भाषा में बांग्ला और राजस्थानी के शब्दों को इतनी ख़ूबसूरती से पिरोया गया है कि वे कहीं सायास टाँके गए प्रतीत नहीं होते। सामान्यतः हिन्दी के उपन्यासों में एक लोकभाषा या एक प्रान्तीय भाषा के शब्द ही देखने को मिलते हैं। शमशेर ने जो कहीं लिखा है—‘कवि घँघोल देता है व्यक्तियों के चित्र...’ उसी तरह कहा जा सकता है कि कथाकार ने एक भाषा के जल में दो और भाषाओं के रंगों को ‘घँघोल’ दिया है। फिर जो कथा-भाषा तैयार हुई है; उसे एक शब्द में ‘बतरस’ ही कहा जा सकता है। इस दृष्टि से यह हिन्दी का विलक्षण उपन्यास बन पड़ा है।
उपन्यास की कथा में अनेक मोड़ आते हैं। भाषा का प्रवाह तीव्र है और इस कथा-यात्रा में अनुभव के नए और लगभग अछूते प्रदेश उद्घाटित होते चलते हैं। इन कारणों से उपन्यास में ग़ज़ब की पठनीयता आ गई है और ऐसा करना एक समर्थ क़िस्सागो के लिए ही सम्भव था। अपने जीवन के उत्तरार्द्ध में लावण्यदेवी जिस प्रश्न से टकराती हैं, वह मुक्ति का प्रश्न है, किन्तु यह मुक्ति स्वयं तक या अपने प्रियजनों तक सीमित नहीं रहती, बल्कि आगे चलकर मानव मात्र की मुक्ति में बदलती दिखाई देती है। संसार की भौतिकता से घिरी हुई एक आधुनिक कथा नायिका लावण्यदेवी के भीतर भी कहीं गहरे एक देशज अध्यात्म बचा हुआ है, जो उन्हें संन्यास और वैराग्य के लिए विवश करता है, लेकिन यह संन्यास भी कर्म का स्वीकार ही है जिसका प्रमाण लावण्यदेवी का उत्तर जीवन है। दरअसल लावण्यदेवी का व्यक्तित्व कर्म और संघर्ष की धातुओं से ही बना है, किन्तु ये धातुएँ ठोस और जड़ न होकर उच्चतम मूल्यों के ताप में पिघलती भी दिखाई देती हैं। वे अपनी सन्तति को भी निरन्तर संघर्ष और कर्म का ही सन्देश देती हैं। यह कर्म का ‘स्वीकार’ ही है जिसके चलते लावण्यदेवी प्रारब्ध को ख़ारिज करती हैं और जहाँ ख़ारिज नहीं कर पातीं, वहाँ उसके सामने घुटने भी नहीं टेकतीं। लावण्यदेवी का कर्मशील जीवन और उनके सारे फ़ैसले जनहित में किए जाते हैं। इसमें सन्देह नहीं, उच्चवर्ग की पृष्ठभूमि होने के बावजूद यह उपन्यास, इन्हीं मूल्यों के कारण व्यापक पाठक समाज में अपनी प्रासंगिकता बनाए रखने में सफल रहेगा।
—एकान्त श्रीवास्तव Kusum khemani ke upanyas ‘lavanydevi’ ka katha-falak itna vistrit hai ki ismen ek kutumb ki panch pidhiyon ki gatha samahit hai. Gatha isaliye ki ismen keval prbhavti, jyotirmyidevi, lavanydevi aur unki santati tatha nati-poton ki dastan hi nahin hai; balki inke bahane jaise ek pure yug aur kaal ke prvah ko bhasha mein bandhane ki koshish ki gai hai. Aisi katha-vastu mein bikhrav ki aashanka barabar bani rahti hai, lekin kusum khemani ne apne rachnatmak kaushal se jaisa katha-sanyojan kiya hai, vah dekhte hi banta hai. Ye hindi ka upanyas to hai hi, lekin iski bhasha mein bangla aur rajasthani ke shabdon ko itni khubsurti se piroya gaya hai ki ve kahin sayas tanke ge prtit nahin hote. Samanyatः hindi ke upanyason mein ek lokbhasha ya ek prantiy bhasha ke shabd hi dekhne ko milte hain. Shamsher ne jo kahin likha hai—‘kavi ghanghol deta hai vyaktiyon ke chitr. . . ’ usi tarah kaha ja sakta hai ki kathakar ne ek bhasha ke jal mein do aur bhashaon ke rangon ko ‘ghanghol’ diya hai. Phir jo katha-bhasha taiyar hui hai; use ek shabd mein ‘batras’ hi kaha ja sakta hai. Is drishti se ye hindi ka vilakshan upanyas ban pada hai. Upanyas ki katha mein anek mod aate hain. Bhasha ka prvah tivr hai aur is katha-yatra mein anubhav ke ne aur lagbhag achhute prdesh udghatit hote chalte hain. In karnon se upanyas mein gazab ki pathniyta aa gai hai aur aisa karna ek samarth qissago ke liye hi sambhav tha. Apne jivan ke uttrarddh mein lavanydevi jis prashn se takrati hain, vah mukti ka prashn hai, kintu ye mukti svayan tak ya apne priyajnon tak simit nahin rahti, balki aage chalkar manav matr ki mukti mein badalti dikhai deti hai. Sansar ki bhautikta se ghiri hui ek aadhunik katha nayika lavanydevi ke bhitar bhi kahin gahre ek deshaj adhyatm bacha hua hai, jo unhen sannyas aur vairagya ke liye vivash karta hai, lekin ye sannyas bhi karm ka svikar hi hai jiska prman lavanydevi ka uttar jivan hai. Darasal lavanydevi ka vyaktitv karm aur sangharsh ki dhatuon se hi bana hai, kintu ye dhatuen thos aur jad na hokar uchchtam mulyon ke taap mein pighalti bhi dikhai deti hain. Ve apni santati ko bhi nirantar sangharsh aur karm ka hi sandesh deti hain. Ye karm ka ‘svikar’ hi hai jiske chalte lavanydevi prarabdh ko kharij karti hain aur jahan kharij nahin kar patin, vahan uske samne ghutne bhi nahin tektin. Lavanydevi ka karmshil jivan aur unke sare faisle janhit mein kiye jate hain. Ismen sandeh nahin, uchchvarg ki prishthbhumi hone ke bavjud ye upanyas, inhin mulyon ke karan vyapak pathak samaj mein apni prasangikta banaye rakhne mein saphal rahega.
—ekant shrivastav

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products