BackBack
-11%

Lahron Ke Rajhans

Mohan Rakesh

Rs. 395 Rs. 352

‘लहरों के राजहंस’ में एक ऐसे कथानक का नाटकीय पुनराख्यान है जिसमें सांसारिक सुखों और आध्यात्मिक शान्ति के पारस्परिक विरोध तथा उनके बीच खड़े हुए व्यक्ति के द्वारा निर्णय लेने का अनिवार्य द्वन्द्व निहित है। इस द्वन्द्व का एक दूसरा पक्ष स्त्री और पुरुष के पारस्परिक सम्बन्धों का अन्तर्विरोध है।... Read More

BlackBlack
Description

‘लहरों के राजहंस’ में एक ऐसे कथानक का नाटकीय पुनराख्यान है जिसमें सांसारिक सुखों और आध्यात्मिक शान्ति के पारस्परिक विरोध तथा उनके बीच खड़े हुए व्यक्ति के द्वारा निर्णय लेने का अनिवार्य द्वन्द्व निहित है। इस द्वन्द्व का एक दूसरा पक्ष स्त्री और पुरुष के पारस्परिक सम्बन्धों का अन्तर्विरोध है। जीवन के प्रेम और श्रेय के बीच एक कृत्रिम और आरोपित द्वन्द्व है, जिसके कारण व्यक्ति के लिए चुनाव कठिन हो जाता है और उसे चुनाव करने की स्वतंत्रता भी नहीं रह जाती। चुनाव की यातना ही इस नाटक का कथा-बीज और उसका केन्द्र-बिन्दु है। धर्म-भावनाओं से प्रेरित इस कथानक में उलझे हुए ऐसे ही अनेक प्रश्नों का नए भाव-बोध के परिवेश में परीक्षण किया गया है। सुन्दरी के रूपपाश में बँधे हुए अनिश्चित, अस्थिर और संशयी मतवाले नन्द की यही स्थिति होनी थी कि नाटक का अन्त होते-होते उसके हाथों में भिक्षापात्र होता और धर्म-दीक्षा में उसके केश काट दिए जाते।
‘लहरों के राजहंस’ के कथानक को आधुनिक जीवन के भावबोध का जो संवेदन दिया गया है, वह इस ऐतिहासिक कथानक को रचनात्मक स्तर पर महत्त्वपूर्ण बनाता है। वास्तव में, ऐतिहासिक कथानकों के आधार पर श्रेष्ठ और सशक्त नाटकों की रचना तभी हो सकती है, जब नाटककार ऐतिहासिक पात्रों और कथा-स्थितियों को ‘अनैतिहासिक’ और ‘युगीन’ बना दे तथा कथा के अन्तर्द्वन्द्व को आधुनिक
अर्थ-व्यंजना प्रदान कर दे।
सभी देशों के नाटक-साहित्य के इतिहास में विभिन्न युगों में जब भी श्रेष्ठ ऐतिहासिक नाटकों की रचना हुई है, तब नाटककारों ने प्राचीन कथानकों को नई दृष्टि से देखा है और उनको नई अर्थ-व्यंजनाएँ दी हैं। उसी परम्परा में मोहन राकेश का यह नाटक भी है जो अध्ययन-कक्षों तथा रंगशालाओं में पाठकों और दर्शकों, दोनों को रस देता है। ‘lahron ke rajhans’ mein ek aise kathanak ka natkiy punrakhyan hai jismen sansarik sukhon aur aadhyatmik shanti ke parasprik virodh tatha unke bich khade hue vyakti ke dvara nirnay lene ka anivarya dvandv nihit hai. Is dvandv ka ek dusra paksh stri aur purush ke parasprik sambandhon ka antarvirodh hai. Jivan ke prem aur shrey ke bich ek kritrim aur aaropit dvandv hai, jiske karan vyakti ke liye chunav kathin ho jata hai aur use chunav karne ki svtantrta bhi nahin rah jati. Chunav ki yatna hi is natak ka katha-bij aur uska kendr-bindu hai. Dharm-bhavnaon se prerit is kathanak mein uljhe hue aise hi anek prashnon ka ne bhav-bodh ke parivesh mein parikshan kiya gaya hai. Sundri ke ruppash mein bandhe hue anishchit, asthir aur sanshyi matvale nand ki yahi sthiti honi thi ki natak ka ant hote-hote uske hathon mein bhikshapatr hota aur dharm-diksha mein uske kesh kaat diye jate. ‘lahron ke rajhans’ ke kathanak ko aadhunik jivan ke bhavbodh ka jo sanvedan diya gaya hai, vah is aitihasik kathanak ko rachnatmak star par mahattvpurn banata hai. Vastav mein, aitihasik kathankon ke aadhar par shreshth aur sashakt natkon ki rachna tabhi ho sakti hai, jab natakkar aitihasik patron aur katha-sthitiyon ko ‘anaitihasik’ aur ‘yugin’ bana de tatha katha ke antardvandv ko aadhunik
Arth-vyanjna prdan kar de.
Sabhi deshon ke natak-sahitya ke itihas mein vibhinn yugon mein jab bhi shreshth aitihasik natkon ki rachna hui hai, tab natakkaron ne prachin kathankon ko nai drishti se dekha hai aur unko nai arth-vyanjnayen di hain. Usi parampra mein mohan rakesh ka ye natak bhi hai jo adhyyan-kakshon tatha rangshalaon mein pathkon aur darshkon, donon ko ras deta hai.