Laal Pasina

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Laal Pasina

Laal Pasina

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मॉरिशस के यशस्वी कथाकार अभिमन्यु अनत का यह उपन्यास उनके लेखन में एक नए दौर की शुरुआत है। इस उपन्यास में वे देश और काल की सीमाओं में बँधी मानवीय पीड़ा को मुक्त करके साधारणीकरण की जिस उदात्त भूमि पर प्रतिष्ठित कर सके हैं, वह उनके रचनाकार की ही नहीं, समूचे हिन्दी कथा-साहित्य की एक उपलब्धि मानी जाएगी।
मॉरिशस की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर आधारित इस उपन्यास में उन भारतीय मज़दूरों के जीवन-संघर्षों की कहानी है, जिन्हें चालाक फ़्रांसीसी और ब्रिटिश उपनिवेशवादी सोना मिलने के सब्जबाग दिखाकर मॉरिशस ले गए थे। वे भोले-भाले निरीह मज़दूर अपनी ज़रूरत की मामूली-सी चीज़ें लेकर अपने परिवारों के साथ वहाँ पहुँच गए। उन्होंने वहाँ की चट्टानों को तोड़कर समतल बनाया, और उनकी मेहनत से वह धरती रसीले और ठोस गन्ने के रूप में सचमुच सोना उगलने लगी। आज मॉरिशस की समृद्ध अर्थव्यवस्था का आधार गन्ने की यह खेती ही है। लेकिन जिन भारतीयों के खून और पसीने से वहाँ की चट्टानें उपजाऊ मिट्टी के रूप में परिवर्तित हुईं, उन्हें क्या मिला? यह उपन्यास मॉरिशस के इतिहास के उन्हीं पन्नों का उत्खनन है जिन पर भारतीय मज़दूरों का ख़ून छिटका हुआ है, और जिन्हें वक़्त की आग जला नहीं पाई। आज मॉरिशस एक सुखी-सम्पन्न मुल्क के रूप में देखा जाता है। Maurishas ke yashasvi kathakar abhimanyu anat ka ye upanyas unke lekhan mein ek ne daur ki shuruat hai. Is upanyas mein ve desh aur kaal ki simaon mein bandhi manviy pida ko mukt karke sadharnikran ki jis udatt bhumi par prtishthit kar sake hain, vah unke rachnakar ki hi nahin, samuche hindi katha-sahitya ki ek uplabdhi mani jayegi. Maurishas ki aitihasik prishthbhumi par aadharit is upanyas mein un bhartiy mazduron ke jivan-sangharshon ki kahani hai, jinhen chalak fransisi aur british upaniveshvadi sona milne ke sabjbag dikhakar maurishas le ge the. Ve bhole-bhale nirih mazdur apni zarurat ki mamuli-si chizen lekar apne parivaron ke saath vahan pahunch ge. Unhonne vahan ki chattanon ko todkar samtal banaya, aur unki mehnat se vah dharti rasile aur thos ganne ke rup mein sachmuch sona ugalne lagi. Aaj maurishas ki samriddh arthavyvastha ka aadhar ganne ki ye kheti hi hai. Lekin jin bhartiyon ke khun aur pasine se vahan ki chattanen upjau mitti ke rup mein parivartit huin, unhen kya mila? ye upanyas maurishas ke itihas ke unhin pannon ka utkhnan hai jin par bhartiy mazduron ka khun chhitka hua hai, aur jinhen vaqt ki aag jala nahin pai. Aaj maurishas ek sukhi-sampann mulk ke rup mein dekha jata hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products