BackBack
-11%Sold out

Kudrat Rang-Birangi

Rs. 495 Rs. 441

भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रवाह को समझना, किसी नदी के प्रवाह को समझने जैसा ही जटिल है। किसी नदी के उद्गम, उसकी विभिन्न शाखाओं और प्रशाखाओं की भाँति भारतीय शास्त्रीय संगीत के घराने, घरानों का उद्गम, घरानों के स्रष्टा, वाहक, गुरु, परम्परा, राग, रागरूप, श्रुति, स्मृति, आरोह, अवरोह, वादी, विवादी,... Read More

Description

भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रवाह को समझना, किसी नदी के प्रवाह को समझने जैसा ही जटिल है। किसी नदी के उद्गम, उसकी विभिन्न शाखाओं और प्रशाखाओं की भाँति भारतीय शास्त्रीय संगीत के घराने, घरानों का उद्गम, घरानों के स्रष्टा, वाहक, गुरु, परम्परा, राग, रागरूप, श्रुति, स्मृति, आरोह, अवरोह, वादी, विवादी, समवादी इत्यादि शब्दों के चलते ये पूरा विषय आम पाठक के लिए पहली नज़र में अत्यन्त जटिल प्रतीत होता है। लेकिन इस पुस्तक में शताब्दी के श्रेष्ठ कलाकारों और संगीत घराने के इतिहास एवं उनकी विशेषताओं, एक घराने के साथ दूसरे घरानों की तुलना, राग-रागिनियों के सूक्ष्मविश्लेषण आदि विषयों को अत्यन्त रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है।
यह रोचकता ही कुमार प्रसाद मुखर्जी के लेखन की विशेषता है या कहा जा सकता है कि यह उनके लेखन का एक विशेष घराना है। लेखक स्वयं एक संगीत घराने से सम्बन्धित थे और ख़ुद भी विख्यात कलाकार रहे। अपने बचपन के दिनों से ही संगीत के मूर्धन्य विद्वानों को सामने बैठकर सुनने का मौक़ा उन्हें मिला। इसके साथ-साथ वे विदग्ध पाठक और असाधारण गुरु भी थे। प्रस्तुत पुस्तक में उनकी इन सभी प्रतिभाओं की छाप स्पष्ट दिखाई पड़ती है, इसीलिए भारतीय संगीत और उससे जुड़े विभिन्न गम्भीर विषय पाठकों के सामने अत्यन्त सरल रूप में प्रस्तुत होते हैं।
भारतीय शास्त्रीय संगीत के कलाकारों को राजाओं-महाराजाओं का आश्रय प्राप्त था, इसके अलावा संगीत कलाकारों के मनमौजी स्वभाव, उनके जीवन की रोचक घटनाओं के चलते संगीतज्ञ आम जनता के लिए आकर्षण का केन्द्र बने रहते थे। इस पुस्तक में विभिन्न स्थानों पर ऐसी रोचक घटनाओं का वर्णन भी है। लेखक के पिता धूर्जटि प्रसाद मुखोपाध्याय शास्त्रीय संगीत के प्रख्यात आलोचक व लेखक थे। स्वयं भी एक संगीतज्ञ होने के चलते लेखक की यह पुस्तक न केवल भारतीय शास्त्रीय संगीत पर एक प्रामाणिक ग्रन्थ है, बल्कि अपने आपमें भारतीय शास्त्रीय संगीत पर एक ऐतिहासिक दस्तावेज़ भी है। Bhartiy shastriy sangit ke prvah ko samajhna, kisi nadi ke prvah ko samajhne jaisa hi jatil hai. Kisi nadi ke udgam, uski vibhinn shakhaon aur prshakhaon ki bhanti bhartiy shastriy sangit ke gharane, gharanon ka udgam, gharanon ke srashta, vahak, guru, parampra, raag, ragrup, shruti, smriti, aaroh, avroh, vadi, vivadi, samvadi ityadi shabdon ke chalte ye pura vishay aam pathak ke liye pahli nazar mein atyant jatil prtit hota hai. Lekin is pustak mein shatabdi ke shreshth kalakaron aur sangit gharane ke itihas evan unki visheshtaon, ek gharane ke saath dusre gharanon ki tulna, rag-raginiyon ke sukshmvishleshan aadi vishyon ko atyant rochak dhang se prastut kiya gaya hai. Ye rochakta hi kumar prsad mukharji ke lekhan ki visheshta hai ya kaha ja sakta hai ki ye unke lekhan ka ek vishesh gharana hai. Lekhak svayan ek sangit gharane se sambandhit the aur khud bhi vikhyat kalakar rahe. Apne bachpan ke dinon se hi sangit ke murdhanya vidvanon ko samne baithkar sunne ka mauqa unhen mila. Iske sath-sath ve vidagdh pathak aur asadharan guru bhi the. Prastut pustak mein unki in sabhi pratibhaon ki chhap spasht dikhai padti hai, isiliye bhartiy sangit aur usse jude vibhinn gambhir vishay pathkon ke samne atyant saral rup mein prastut hote hain.
Bhartiy shastriy sangit ke kalakaron ko rajaon-maharajaon ka aashray prapt tha, iske alava sangit kalakaron ke manmauji svbhav, unke jivan ki rochak ghatnaon ke chalte sangitagya aam janta ke liye aakarshan ka kendr bane rahte the. Is pustak mein vibhinn sthanon par aisi rochak ghatnaon ka varnan bhi hai. Lekhak ke pita dhurjati prsad mukhopadhyay shastriy sangit ke prakhyat aalochak va lekhak the. Svayan bhi ek sangitagya hone ke chalte lekhak ki ye pustak na keval bhartiy shastriy sangit par ek pramanik granth hai, balki apne aapmen bhartiy shastriy sangit par ek aitihasik dastavez bhi hai.