Look Inside
Kroorata
Kroorata
Kroorata
Kroorata
Kroorata
Kroorata

Kroorata

Regular price Rs. 56
Sale price Rs. 56 Regular price Rs. 60
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kroorata

Kroorata

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘क्रूरता’ संग्रह की कविताएँ अपने प्रकाशन के साथ ही ध्यानाकर्षण का केन्द्र बन गई थीं। ये कविताएँ हमारे समय में नागरिक होने के संघर्ष, चेतना और व्यथा को गहरे काव्यात्मक आशयों के साथ विमर्श का विषय बनाती हैं। इसी क्रम में कुमार अंबुज, हिन्दी कविता में पहली बार, ‘क्रूरता’ पद को व्यापक सामाजिक एवं राजनैतिक अर्थों में, ऐतिहासिक समझ के साथ व्याख्यायित और परिभाषित करते हैं। यहीं वे काव्य-विषयों की कोमल और सकारात्मक समझी जानेवाली पदावली की परिधियों को भी तोड़ते हैं।
उचित ही प्रबुद्ध आलोचकों-पाठकों ने इन कविताओं को ‘विडम्बना के नए आख्यान’ तथा ‘विचारधारा के सर्जनात्मक उपयोग’ का उदाहरण माना है। ये कविताएँ भाषा के सम्प्रेषणीय प्रखर मुहावरों, अभिव्यक्ति के संयम और वर्णन की चुम्बकीय शक्ति के लिए भी पहचानी गई हैं। कवि-कर्म की नई चुनौतियों का स्वीकार यहाँ स्पष्ट है। ये कविताएँ हमारे समय में उपस्थित तमाम क्रूरताओं की शिनाख़्त करने का गम्भीर दायित्व उठाती हैं। यही कारण है कि वे पाठक की चेतना में प्रवेश कर वैचारिक स्तर पर उद्विग्न करती हैं। सांस्कृतिक प्रतिरोध की दृष्टि से सम्पृक्त ये कविताएँ अनुभवों के वैविध्य और विस्तार में जाकर एकदम अछूते काव्यात्मक वृत्तान्तों को सम्भव करती हैं।
जो कुछ न्यायपूर्ण है, सुन्दर है, सभ्य सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है, उसे पाने की आकांक्षी और पक्षधर ये कविताएँ सहज ही साम्राज्यवादी, औपनिवेशिक, उपभोक्तावादी, साम्प्रदायिक और पूँजीवादी शक्तियों को अपने सूक्ष्म रूप में भी उजागर करती हैं। ‘क्रूरता की संस्कृति’ को चिह्नित करते हुए वे संवेदना, मनुष्यता, लौकिकता और करुणा का विशाल फलक रचती हैं, अपने काव्यात्मक अभीष्ट तक पहुँचती हैं।
मनुष्य समाज के साथ रागात्मक सम्बन्धों के ठोस आधार कुमार अंबुज की निगाह से कभी ओझल नहीं होते हैं, इसलिए उनकी ये कविताएँ सर्जना के नए पड़ावों तक यात्रा करती हैं। इन कविताओं की प्रासंगिकता और प्रतिबद्धता इन्हें नए सिरे से विचारणीय बनाती है। वे इस पक्ष के लिए भी रेखांकित की जाती रही हैं कि हिन्दी कविता का यह नया विकास है, विशेष अर्थ में एक नया प्रस्थान। ‘krurta’ sangrah ki kavitayen apne prkashan ke saath hi dhyanakarshan ka kendr ban gai thin. Ye kavitayen hamare samay mein nagrik hone ke sangharsh, chetna aur vytha ko gahre kavyatmak aashyon ke saath vimarsh ka vishay banati hain. Isi kram mein kumar ambuj, hindi kavita mein pahli baar, ‘krurta’ pad ko vyapak samajik evan rajanaitik arthon mein, aitihasik samajh ke saath vyakhyayit aur paribhashit karte hain. Yahin ve kavya-vishyon ki komal aur sakaratmak samjhi janevali padavli ki paridhiyon ko bhi todte hain. Uchit hi prbuddh aalochkon-pathkon ne in kavitaon ko ‘vidambna ke ne aakhyan’ tatha ‘vichardhara ke sarjnatmak upyog’ ka udahran mana hai. Ye kavitayen bhasha ke sampreshniy prkhar muhavron, abhivyakti ke sanyam aur varnan ki chumbkiy shakti ke liye bhi pahchani gai hain. Kavi-karm ki nai chunautiyon ka svikar yahan spasht hai. Ye kavitayen hamare samay mein upasthit tamam krurtaon ki shinakht karne ka gambhir dayitv uthati hain. Yahi karan hai ki ve pathak ki chetna mein prvesh kar vaicharik star par udvign karti hain. Sanskritik pratirodh ki drishti se samprikt ye kavitayen anubhvon ke vaividhya aur vistar mein jakar ekdam achhute kavyatmak vrittanton ko sambhav karti hain.
Jo kuchh nyaypurn hai, sundar hai, sabhya samajik vikas ke liye aavashyak hai, use pane ki aakankshi aur pakshdhar ye kavitayen sahaj hi samrajyvadi, aupaniveshik, upbhoktavadi, samprdayik aur punjivadi shaktiyon ko apne sukshm rup mein bhi ujagar karti hain. ‘krurta ki sanskriti’ ko chihnit karte hue ve sanvedna, manushyta, laukikta aur karuna ka vishal phalak rachti hain, apne kavyatmak abhisht tak pahunchati hain.
Manushya samaj ke saath ragatmak sambandhon ke thos aadhar kumar ambuj ki nigah se kabhi ojhal nahin hote hain, isaliye unki ye kavitayen sarjna ke ne padavon tak yatra karti hain. In kavitaon ki prasangikta aur pratibaddhta inhen ne sire se vicharniy banati hai. Ve is paksh ke liye bhi rekhankit ki jati rahi hain ki hindi kavita ka ye naya vikas hai, vishesh arth mein ek naya prasthan.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products