Koyla Aur Kavitwa : Dinkar Granthmala

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Koyla Aur Kavitwa : Dinkar Granthmala

Koyla Aur Kavitwa : Dinkar Granthmala

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘कोयला और कवित्व' में रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की सन् साठ के बाद रची गई ऐसी कविताएँ हैं जो अपने आधुनिकता-बोध में पारदर्शी तो हैं ही, कला-विन्यास का श्रेष्ठ उदाहरण भी हैं।
इस संग्रह में संकलित है एक विदुषी को लिखा गया कवि का गीत-पत्र–'कला फलाशा से युक्त होती है या वियुक्त और कोयले का उत्पादन बढ़ाने को यदि गीत लिखे जाएँ तो कैसा रहे?' यह गीत-पत्र मात्र पत्र नहीं, कवि के गहन चिन्तन का दस्तावेज़ भी है। और यह चिन्तन-ज़मीन अपनी सम्पूर्णता में इस संग्रह को विशिष्ट भी बनाती है, हमें अपने वर्तमान से जोड़ती भी है।
'कोयला और कवित्व' में संकलित कविताएँ अपने आकार में बहुत बड़ी न होकर भी अपनी प्रकृति में बहुत बड़ी हैं। एक बड़े कालखंड से जुड़ी ये कविताएँ परम्परा और अन्तर्विरोधों से गुज़रते हुए जिस संवाद का निर्वाह करती हैं, वह बहुत बड़ी सृजनात्मकता का प्रतीक है।
हमारे मन और मस्तिष्क को उद्वेलित करनेवाली ये कविताएँ संग्रहणीय भी हैं, और अविस्मरणीय भी। ‘koyla aur kavitv mein ramdhari sinh ‘dinkar’ ki san saath ke baad rachi gai aisi kavitayen hain jo apne aadhunikta-bodh mein pardarshi to hain hi, kala-vinyas ka shreshth udahran bhi hain. Is sangrah mein sanklit hai ek vidushi ko likha gaya kavi ka git-patr–kala phalasha se yukt hoti hai ya viyukt aur koyle ka utpadan badhane ko yadi git likhe jayen to kaisa rahe? ye git-patr matr patr nahin, kavi ke gahan chintan ka dastavez bhi hai. Aur ye chintan-zamin apni sampurnta mein is sangrah ko vishisht bhi banati hai, hamein apne vartman se jodti bhi hai.
Koyla aur kavitv mein sanklit kavitayen apne aakar mein bahut badi na hokar bhi apni prkriti mein bahut badi hain. Ek bade kalkhand se judi ye kavitayen parampra aur antarvirodhon se guzarte hue jis sanvad ka nirvah karti hain, vah bahut badi srijnatmakta ka prtik hai.
Hamare man aur mastishk ko udvelit karnevali ye kavitayen sangrahniy bhi hain, aur avismarniy bhi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products