BackBack
-11%

Komal Gandhar

Rs. 250 Rs. 223

उस्ताद विलायत ख़ाँ अप्रतिम सितार वादक थे। उनके बजाने-गाने की कई कथाएँ भी किंवदन्तियों की तरह प्रचलित हैं। वह ओज, सरसता, सूक्ष्मतम ध्वनि तरंगों और माधुर्य के धनी थे। जिन्होंने उनको सुना है—आमने-सामने बैठकर—वे तो उनके ‘बजाने की छवि’ को भी याद करते हैं, सिर्फ़ उनके सुरों को ही नहीं।... Read More

Description

उस्ताद विलायत ख़ाँ अप्रतिम सितार वादक थे। उनके बजाने-गाने की कई कथाएँ भी किंवदन्तियों की तरह प्रचलित हैं। वह ओज, सरसता, सूक्ष्मतम ध्वनि तरंगों और माधुर्य के धनी थे। जिन्होंने उनको सुना है—आमने-सामने बैठकर—वे तो उनके ‘बजाने की छवि’ को भी याद करते हैं, सिर्फ़ उनके सुरों को ही नहीं। यहाँ हम लेखक और संगीतविद् शंकरलाल भट्टाचार्य द्वारा मूल रूप से बांग्ला भाषा में उस्ताद विलायत ख़ाँ की आत्मकथा के तैयार किए गए वार्तालेख के साथ उन पर एकाग्र तीन आलेखों को सुपरिचित आलोचक और अनुवादक रामशंकर द्विवेदी के अनुवाद में प्रस्तुत कर रहे हैं। पहले दो आलेख, क्रमश: दो संगीत-पारखियों नीलाक्ष दत्त और आशीष चट्टोपाध्याय के हैं, तीसरा बांग्ला के विख्यात कवि जय गोस्वामी का है। तीनों आलेख अपने-अपने ढंग से विलायत ख़ाँ के सितार के गुणों को तो उभारते ही हैं, उनके व्यक्तित्व की भी एक झलक प्रस्तुत करते हैं। नीलाक्ष दत्त के आलेख में तो स्वयं विलायत ख़ाँ के सितार की बनावट-बुनावट, और उसे बजाने की तकनीक की भी चर्चा है। इन आलेखों में उन कई सामान्य श्रोताओं की भी एक मर्मभरी उपस्थिति है, जो मानो उनके सितार के पीछे 'पागल' ही तो थे।
सामान्य श्रोताओं से लेकर गुणी संगीत पारखियों, समीक्षकों, लेखकों-कवियों-कलाकारों, बुद्धिजीवियों तक में संगीत के प्रति यह जो अनुराग रहा है, वह इस आत्मकथा को पढ़कर भी जाना जा सकता है। कहना न होगा कि ‘कोमल गांधार' पठनीय ही नहीं, बल्कि संग्रहणीय पुस्तक भी है।
“उस्ताद विलायत ख़ाँ भारतीय शास्त्रीय संगीत की एक विभूति थे। उनकी दो सौ अट्ठाइस पृष्ठों में फैली आत्मकथा के साथ-साथ इस पुस्तक में परिशिष्ट के रूप में नीलाभ दत्त, आशीष भट्टाचार्य और प्रसिद्ध बांग्ला कवि जय गोस्वामी द्वारा उन पर लिखे निबन्ध भी शामिल किए गए हैं। यह मूल्यवान उपक्रम प्रयत्नपूर्वक किया है संगीतविद् शंकरलाल भट्टाचार्य ने। हिन्दी में एक महान संगीतकार से सम्बन्धित ऐसी दुर्लभ सामग्री को लाने की ज़िम्मेदारी पूरी की है वरिष्ठ विद्वान, रसिक और अनुवादक डॉ. रामशंकर द्विवेदी ने। आत्मकथा, निबन्ध, लेखन और अनुवाद सभी सृजन और संगीत के गहरे और निश्छल प्रेमवश किए गए हैं। रज़ा पुस्तक माला 'कोमल गांधार' को बहुत प्रसन्नता और कृतज्ञता के साथ प्रस्तुत कर रही है।"
—अशोक वाजपेयी Ustad vilayat khan aprtim sitar vadak the. Unke bajane-gane ki kai kathayen bhi kinvdantiyon ki tarah prachlit hain. Vah oj, sarasta, sukshmtam dhvani tarangon aur madhurya ke dhani the. Jinhonne unko suna hai—amne-samne baithkar—ve to unke ‘bajane ki chhavi’ ko bhi yaad karte hain, sirf unke suron ko hi nahin. Yahan hum lekhak aur sangitvid shankarlal bhattacharya dvara mul rup se bangla bhasha mein ustad vilayat khan ki aatmaktha ke taiyar kiye ge vartalekh ke saath un par ekagr tin aalekhon ko suparichit aalochak aur anuvadak ramshankar dvivedi ke anuvad mein prastut kar rahe hain. Pahle do aalekh, krmash: do sangit-parakhiyon nilaksh datt aur aashish chattopadhyay ke hain, tisra bangla ke vikhyat kavi jay gosvami ka hai. Tinon aalekh apne-apne dhang se vilayat khan ke sitar ke gunon ko to ubharte hi hain, unke vyaktitv ki bhi ek jhalak prastut karte hain. Nilaksh datt ke aalekh mein to svayan vilayat khan ke sitar ki banavat-bunavat, aur use bajane ki taknik ki bhi charcha hai. In aalekhon mein un kai samanya shrotaon ki bhi ek marmabhri upasthiti hai, jo mano unke sitar ke pichhe pagal hi to the. Samanya shrotaon se lekar guni sangit parakhiyon, samikshkon, lekhkon-kaviyon-kalakaron, buddhijiviyon tak mein sangit ke prati ye jo anurag raha hai, vah is aatmaktha ko padhkar bhi jana ja sakta hai. Kahna na hoga ki ‘komal gandhar pathniy hi nahin, balki sangrahniy pustak bhi hai.
“ustad vilayat khan bhartiy shastriy sangit ki ek vibhuti the. Unki do sau atthais prishthon mein phaili aatmaktha ke sath-sath is pustak mein parishisht ke rup mein nilabh datt, aashish bhattacharya aur prsiddh bangla kavi jay gosvami dvara un par likhe nibandh bhi shamil kiye ge hain. Ye mulyvan upakram pryatnpurvak kiya hai sangitvid shankarlal bhattacharya ne. Hindi mein ek mahan sangitkar se sambandhit aisi durlabh samagri ko lane ki zimmedari puri ki hai varishth vidvan, rasik aur anuvadak dau. Ramshankar dvivedi ne. Aatmaktha, nibandh, lekhan aur anuvad sabhi srijan aur sangit ke gahre aur nishchhal premvash kiye ge hain. Raza pustak mala komal gandhar ko bahut prsannta aur kritagyta ke saath prastut kar rahi hai. "
—ashok vajpeyi