Koi Takleef Nahin

Regular price Rs. 244
Sale price Rs. 244 Regular price Rs. 263
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Koi Takleef Nahin

Koi Takleef Nahin

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

राजेन्द्र श्रीवास्तव के कहानी-संग्रह 'कोई तकलीफ़ नहीं' की एक कहानी, जिसका शीर्षक 'कहानी' है, में आए कुछ वाक्य हैं—'...मछली का लुत्फ उठाते हुए मैं यही सोच रहा था कि सुख की भी कितनी अलग-अलग क़िस्में हैं। स्वादिष्ट भोजन का सुख अलग, सेक्स का सुख अलग, अच्छी रचना लिखने का सुख अलग। बड़ी ग़ज़ब की वैराइटी है, एक-दूसरे से सर्वथा भिन्न।' जीवन में सुख और दु:ख की न जाने कितनी क़िस्में होती हैं। एक अच्छे रचनाकार को इनकी अचूक पहचान होती है। इन्हीं से मिलकर अनन्तरूपी जीवन की रचना होती है।
राजेन्द्र श्रीवास्तव की कहानियाँ सभ्यता के इस 'अन्तर्विरोधी चरण' में आ चुके समाज की दुखती रगों पर उँगली रखती हैं। यह समाज जो एक साथ सम्पन्न भी है और दरिद्र भी, जीवन्त भी है और मरणासन्न भी। ‘जन्मदिन की पार्टी' में जब विचित्र तरह से व्यंजनों की सूची आती है तब 'भूख' शब्द की उपस्थिति महसूस होती है। ‘तिरस्कार’ की सावित्री, 'साड़ी' की सास-बहू, ‘हार-जीत’ के माहेश्वरी प्रसाद और ‘सम्पन्नता’ के विनायक बाबू जैसे चरित्र जीवन के घात-प्रतिघात से उपजे हैं। मर्म से भरी भाषा ने कहानियों को गति दी है। संग्रह की एक कहानी ‘पूरी लिखी जा चुकी कविता’ का निहितार्थ समझ लें तो जीवन और शब्द का सहजीवी रिश्ता भी जगमगा उठता है। Rajendr shrivastav ke kahani-sangrah koi taklif nahin ki ek kahani, jiska shirshak kahani hai, mein aae kuchh vakya hain—. . . Machhli ka lutph uthate hue main yahi soch raha tha ki sukh ki bhi kitni alag-alag qismen hain. Svadisht bhojan ka sukh alag, seks ka sukh alag, achchhi rachna likhne ka sukh alag. Badi gazab ki vairaiti hai, ek-dusre se sarvtha bhinn. Jivan mein sukh aur du:kha ki na jane kitni qismen hoti hain. Ek achchhe rachnakar ko inki achuk pahchan hoti hai. Inhin se milkar anantrupi jivan ki rachna hoti hai. Rajendr shrivastav ki kahaniyan sabhyta ke is antarvirodhi charan mein aa chuke samaj ki dukhti ragon par ungali rakhti hain. Ye samaj jo ek saath sampann bhi hai aur daridr bhi, jivant bhi hai aur marnasann bhi. ‘janmdin ki parti mein jab vichitr tarah se vyanjnon ki suchi aati hai tab bhukh shabd ki upasthiti mahsus hoti hai. ‘tiraskar’ ki savitri, sadi ki sas-bahu, ‘har-jit’ ke maheshvri prsad aur ‘sampannta’ ke vinayak babu jaise charitr jivan ke ghat-pratighat se upje hain. Marm se bhari bhasha ne kahaniyon ko gati di hai. Sangrah ki ek kahani ‘puri likhi ja chuki kavita’ ka nihitarth samajh len to jivan aur shabd ka sahjivi rishta bhi jagamga uthta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products