BackBack
-11%

Koi Baat Nahin

Rs. 195 Rs. 174

“तभी हवा का एक झोंका न जाने क्या सोचकर एक बड़े से काग़ज़ के टुकड़े को शशांक के पास ले आया। उसने घास से उठाकर उसे पढ़ा—‘आदमी का मन एक गाँव है, जिसमें वही एक अकेला नहीं रहता।’ शशांक ने सोचा, आदमी मन में ही तो अपने को और अपनी... Read More

BlackBlack
Description

“तभी हवा का एक झोंका न जाने क्या सोचकर एक बड़े से काग़ज़ के टुकड़े को शशांक के पास ले आया। उसने घास से उठाकर उसे पढ़ा—‘आदमी का मन एक गाँव है, जिसमें वही एक अकेला नहीं रहता।’ शशांक ने सोचा, आदमी मन में ही तो अपने को और अपनी सारी बातों को छिपाकर रख सकता है...’’
‘कोई बात नहीं’ जैसे एक मंत्र है—हार न मानने की ज़िद और नई शुरुआतों के नाम। समय के एक ऐसे दौर में जब प्रतियोगिता जीवन का परम मूल्य है और सारे निर्णय ताक़तवर और
समर्थ के हाथ में हैं, वेदना, जिजीविषा और सहयोग का यह आख्यान ऐसे तमाम मूल्यों का प्रत्याख्यान है।
मोटे तौर पर इसे शारीरिक रूप से कुछ अक्षम एक बेटे और उसकी माँ के प्रेम और दु:ख की
साझेदारी की कथा के रूप में देखा जा सकता है, पर इसका मर्म एक सुन्दर और सम्मानपूर्ण जीवन की आकांक्षा है, बल्कि इस हक़ की माँग है। शशांक सत्रह साल का एक लड़का है जो दूसरों से अलग है क्योंकि वह दूसरों की तरह चल और बोल नहीं सकता। कलकत्ता के एक नामी मिशनरी स्कूल में पढ़ते वक़्त अपनी ग़ैरबराबरी को जीते हुए, उसका साबिका उन तरह-
तरह की दूसरी ग़ैरबराबरियों से भी होता रहता है, जो हमारे समाज में आसपास कुलबुलाती रहती है। स्कूल में शशांक का एकमात्र दोस्त है—एक एंग्लो-इंडियन लड़का आर्थर सरकार जो उसी की तरह एक क़िस्म का जाति-बाहर या आउटकास्ट है—अलबत्ता बिलकुल अलग कारणों से।
शशांक का जीवन चारों तरफ़ से तरह-तरह के कथा-क़िस्सों से घिरा है। एक तरफ़ उसकी आरती मौसी है, जिसकी प्रायः खेदपूर्वक वापस लौट आनेवाली कहानियों का अन्त और आरम्भ शशांक को कभी समझ में नहीं आता। दूसरी तरफ़ उसकी दादी की कहानियाँ हैं—दादी के अपने घुटन-भरे बीते जीवन की, बार-बार उन्हीं शब्दों और मुहावरों में दोहराई जाती कहानियाँ, जिनका कोई शब्द कभी अपनी जगह नहीं बदलता। लेकिन सबसे विचित्र कहानियाँ उस तक पहुँचती हैं जतीन दा के मार्फ़त, जिनसे वह बिना किसी और के जाने, हर शनिवार विक्टोरिया मेमोरियल के मैदान में मिलता है। ये सभी कहानियाँ आतंक और हिंसा के जीवन से जुड़ी कहानियाँ हैं जिनके बारे में हर बार शशांक को सन्देह होता है कि वे आत्मकथात्मक हैं, पर इस सन्देह के निराकरण का उसके पास कोई रास्ता नहीं है।
तभी शशांक के जीवन में वह भयानक घटना घटती है जिससे उसके जीवन के परखच्चे उड़ जाते हैं। ऐसे समय में यह कथा-अमृत ही है जो उसे इस आघात से उतारता है; साथ ही उसे संजीवन मिलता है उस सरल, निश्छल, अद् भुत प्रेम और सहयोग से जो सब कुछ के बावजूद दुनिया को बचाए रखता आ रहा है। और तब उसकी अपनी यह कथा, जो आरती मौसी द्वारा लिखी जा रही थी, पुनः जीवित हो उठती है—कथामृत के आस्वादन से जागी कथा। “tabhi hava ka ek jhonka na jane kya sochkar ek bade se kagaz ke tukde ko shashank ke paas le aaya. Usne ghas se uthakar use padha—‘admi ka man ek ganv hai, jismen vahi ek akela nahin rahta. ’ shashank ne socha, aadmi man mein hi to apne ko aur apni sari baton ko chhipakar rakh sakta hai. . . ’’‘koi baat nahin’ jaise ek mantr hai—har na manne ki zid aur nai shuruaton ke naam. Samay ke ek aise daur mein jab pratiyogita jivan ka param mulya hai aur sare nirnay taqatvar aur
Samarth ke hath mein hain, vedna, jijivisha aur sahyog ka ye aakhyan aise tamam mulyon ka pratyakhyan hai.
Mote taur par ise sharirik rup se kuchh aksham ek bete aur uski man ke prem aur du:kha ki
Sajhedari ki katha ke rup mein dekha ja sakta hai, par iska marm ek sundar aur sammanpurn jivan ki aakanksha hai, balki is haq ki mang hai. Shashank satrah saal ka ek ladka hai jo dusron se alag hai kyonki vah dusron ki tarah chal aur bol nahin sakta. Kalkatta ke ek nami mishanri skul mein padhte vaqt apni gairabrabri ko jite hue, uska sabika un tarah-
Tarah ki dusri gairabrabariyon se bhi hota rahta hai, jo hamare samaj mein aaspas kulabulati rahti hai. Skul mein shashank ka ekmatr dost hai—ek englo-indiyan ladka aarthar sarkar jo usi ki tarah ek qism ka jati-bahar ya aautkast hai—albatta bilkul alag karnon se.
Shashank ka jivan charon taraf se tarah-tarah ke katha-qisson se ghira hai. Ek taraf uski aarti mausi hai, jiski prayः khedpurvak vapas laut aanevali kahaniyon ka ant aur aarambh shashank ko kabhi samajh mein nahin aata. Dusri taraf uski dadi ki kahaniyan hain—dadi ke apne ghutan-bhare bite jivan ki, bar-bar unhin shabdon aur muhavron mein dohrai jati kahaniyan, jinka koi shabd kabhi apni jagah nahin badalta. Lekin sabse vichitr kahaniyan us tak pahunchati hain jatin da ke marfat, jinse vah bina kisi aur ke jane, har shanivar viktoriya memoriyal ke maidan mein milta hai. Ye sabhi kahaniyan aatank aur hinsa ke jivan se judi kahaniyan hain jinke bare mein har baar shashank ko sandeh hota hai ki ve aatmakthatmak hain, par is sandeh ke nirakran ka uske paas koi rasta nahin hai.
Tabhi shashank ke jivan mein vah bhayanak ghatna ghatti hai jisse uske jivan ke parkhachche ud jate hain. Aise samay mein ye katha-amrit hi hai jo use is aaghat se utarta hai; saath hi use sanjivan milta hai us saral, nishchhal, ad bhut prem aur sahyog se jo sab kuchh ke bavjud duniya ko bachaye rakhta aa raha hai. Aur tab uski apni ye katha, jo aarti mausi dvara likhi ja rahi thi, punः jivit ho uthti hai—kathamrit ke aasvadan se jagi katha.