BackBack
-11%

Khul Gaya Hai Dwar Ek

Rs. 400 Rs. 356

अशोक वाजपेयी को पहले ‘देह और गेह का कवि’ कहा गया था। यह कहना निराधार नहीं था, लेकिन शनै:-शनै: उनकी दैहिक और गैहिक भावना का ऐसा विस्तार हुआ कि उसमें प्रकृति ही नहीं, सम्पूर्ण पृथ्वी सिमट आई। वे नई कविता के आख़िरी दौर के कवि हैं। उसके बाद से हिन्दी... Read More

BlackBlack
Description

अशोक वाजपेयी को पहले ‘देह और गेह का कवि’ कहा गया था। यह कहना निराधार नहीं था, लेकिन शनै:-शनै: उनकी दैहिक और गैहिक भावना का ऐसा विस्तार हुआ कि उसमें प्रकृति ही नहीं, सम्पूर्ण पृथ्वी सिमट आई। वे नई कविता के आख़िरी दौर के कवि हैं। उसके बाद से हिन्दी कविता में कई प्रकार के बदलाव हुए, पर उन्होंने अपना मार्ग कभी नहीं बदला। कारण यह कि उनकी कविता में स्वयं ऐसे आयाम प्रकट होते गए कि उन्हें कभी उसकी ज़रूरत ही नहीं पड़ी। उनकी काव्य-यात्रा एक लम्बी काव्य-यात्रा है, जिसमें कवि ने कई मंज़िलें पार की हैं। आज उनकी कविता के बारे में दिनकर के शब्दों में यही कहा जा सकता है कि ‘वर्षा का मौसम गया, बाढ़ भी साथ गई, जो बचा आज वह स्वच्छ नीर का सोता है...।’
अशोक जी हमेशा ऊँचे सरकारी पदों पर रहे, लेकिन यह प्रीतिकर आश्चर्य की बात है कि उनकी कविता का नायक अभिजन न होकर साधारण जन है। इस साधारण जन को वे नज़दीक से जानते हैं और उसकी समस्त पीड़ाओं के साथ उसकी इतिहास-निर्मात्री शक्ति से भी परिचित हैं। स्वभावत: उनमें नक़ली क्रान्ति के लिए कोई बेचैनी नहीं है, जैसी कथित प्रगतिशीलों और जनवादियों में देखी जाती है। उनकी तरह वे समाज को साहित्य के ऊपर नहीं रखते, बल्कि साहित्य के अनुशासन में ही समाज और इसके अन्य पक्षों को स्वीकार करते हैं। साधारण जन का शत्रु कौन है? यह कवि से छिपा नहीं है, इसलिए बिना कविता को छोड़े वह उससे उसे आगाह करता है। आशा है, यह चयन हिन्दी के बृहत्तर पाठक-समुदाय को पसन्द आएगा, क्योंकि यह उसी को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। यह उसे समकालीन हिन्दी कविता का एक ऐसा दृश्य भी दिखलाएगा, जो अन्यत्र देखने को नहीं मिलता। Ashok vajpeyi ko pahle ‘deh aur geh ka kavi’ kaha gaya tha. Ye kahna niradhar nahin tha, lekin shanai:-shanai: unki daihik aur gaihik bhavna ka aisa vistar hua ki usmen prkriti hi nahin, sampurn prithvi simat aai. Ve nai kavita ke aakhiri daur ke kavi hain. Uske baad se hindi kavita mein kai prkar ke badlav hue, par unhonne apna marg kabhi nahin badla. Karan ye ki unki kavita mein svayan aise aayam prkat hote ge ki unhen kabhi uski zarurat hi nahin padi. Unki kavya-yatra ek lambi kavya-yatra hai, jismen kavi ne kai manzilen paar ki hain. Aaj unki kavita ke bare mein dinkar ke shabdon mein yahi kaha ja sakta hai ki ‘varsha ka mausam gaya, badh bhi saath gai, jo bacha aaj vah svachchh nir ka sota hai. . . . ’Ashok ji hamesha uunche sarkari padon par rahe, lekin ye pritikar aashcharya ki baat hai ki unki kavita ka nayak abhijan na hokar sadharan jan hai. Is sadharan jan ko ve nazdik se jante hain aur uski samast pidaon ke saath uski itihas-nirmatri shakti se bhi parichit hain. Svbhavat: unmen naqli kranti ke liye koi bechaini nahin hai, jaisi kathit pragatishilon aur janvadiyon mein dekhi jati hai. Unki tarah ve samaj ko sahitya ke uupar nahin rakhte, balki sahitya ke anushasan mein hi samaj aur iske anya pakshon ko svikar karte hain. Sadharan jan ka shatru kaun hai? ye kavi se chhipa nahin hai, isaliye bina kavita ko chhode vah usse use aagah karta hai. Aasha hai, ye chayan hindi ke brihattar pathak-samuday ko pasand aaega, kyonki ye usi ko dhyan mein rakhkar taiyar kiya gaya hai. Ye use samkalin hindi kavita ka ek aisa drishya bhi dikhlayega, jo anyatr dekhne ko nahin milta.