Khattar Kaka

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Khattar Kaka

Khattar Kaka

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

धर्म और इतिहास, पुराण के अस्वस्थ, लोकविरोधी प्रसंगों की दिलचस्प लेकिन कड़ी आलोचना प्रस्तुत करनेवाली, बहुमुखी प्रतिभा के धनी हरिमोहन झा की बहुप्रशंसित, उल्लेखनीय व्यंग्यकृति है—‘खट्टर काका’।
आज से लगभग पचास वर्ष पूर्व खट्टर काका मैथिली भाषा में प्रकट हुए। जन्म लेते ही वह प्रसिद्ध हो उठे। मिथिला के घर-घर में उनका नाम चर्चित हो गया। जब उनकी कुछ विनोद-वार्त्ताएँ ‘कहानी’, ‘धर्मयुग’ आदि में छपीं तो हिन्दी पाठकों को भी एक नया स्वाद मिला। गुजराती पाठकों ने भी उनकी चाशनी चखी। वह इतने बहुचर्चित और लोकप्रिय हुए कि दूर-दूर से चिट्ठियाँ आने लगीं—“यह खट्टर काका कौन हैं, कहाँ रहते हैं, उनकी और-और वार्त्ताएँ कहाँ मिलेंगी?”
खट्टर काका मस्त जीव हैं। ठंडाई छानते हैं और आनन्द-विनोद की वर्षा करते हैं। कबीरदास की तरह खट्टर काका उलटी गंगा बहा देते हैं। उनकी बातें एक-से-एक अनूठी, निराली और चौंकानेवाली होती हैं। जैसे—“ब्रह्मचारी को वेद नहीं पढ़ना चाहिए। सती-सावित्री के उपाख्यान कन्याओं के हाथ नहीं देना चाहिए। पुराण बहू-बेटियों के योग्य नहीं हैं। दुर्गा की कथा स्त्रैणों की रची हुई है। गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन को फुसला दिया है। दर्शनशास्त्र की रचना रस्सी देखकर हुई। असली ब्राह्मण विदेश में हैं। मूर्खता के प्रधान कारण हैं पंडितगण! दही-चिउड़ा-चीनी सांख्य के त्रिगुण हैं। स्वर्ग जाने से धर्म भ्रष्ट हो जाता है...।”
खट्टर काका हँसी-हँसी में भी जो उलटा-सीधा बोल जाते हैं, उसे प्रमाणित किए बिना नहीं छोड़ते। श्रोता को अपने तर्क-जाल में उलझाकर उसे भूल-भुलैया में डाल देना उनका प्रिय कौतुक है। वह तसवीर का रुख़ तो यों पलट देते हैं कि सारे परिप्रेक्ष्य ही बदल जाते हैं। रामायण, महाभारत, गीता, वेद, वेदान्त, पुराण—सभी उलट जाते हैं। बड़े-बड़े दिग्गज चरित्र बौने-विद्रूप बन जाते हैं। सिद्धान्तवादी सनकी सिद्ध होते हैं, और जीवमुक्त मिट्टी के लोंदे। देवतागण गोबर-गणेश प्रतीत होते हैं। धर्मराज अधर्मराज, और सत्यनारायण असत्यनारायण भासित होते हैं। आदर्शों के चित्र कार्टून जैसे दृष्टिगोचर होते हैं...। वह ऐसा चश्मा लगा देते हैं कि दुनिया ही उलटी नज़र आती है।
स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर प्रकाशित हिन्दी पाठकों के लिए एक अनुपम कृति—‘खट्टर काका’। Dharm aur itihas, puran ke asvasth, lokavirodhi prsangon ki dilchasp lekin kadi aalochna prastut karnevali, bahumukhi pratibha ke dhani harimohan jha ki bahuprshansit, ullekhniy vyangykriti hai—‘khattar kaka’. Aaj se lagbhag pachas varsh purv khattar kaka maithili bhasha mein prkat hue. Janm lete hi vah prsiddh ho uthe. Mithila ke ghar-ghar mein unka naam charchit ho gaya. Jab unki kuchh vinod-varttayen ‘kahani’, ‘dharmyug’ aadi mein chhapin to hindi pathkon ko bhi ek naya svad mila. Gujrati pathkon ne bhi unki chashni chakhi. Vah itne bahucharchit aur lokapriy hue ki dur-dur se chitthiyan aane lagin—“yah khattar kaka kaun hain, kahan rahte hain, unki aur-aur varttayen kahan milengi?”
Khattar kaka mast jiv hain. Thandai chhante hain aur aanand-vinod ki varsha karte hain. Kabirdas ki tarah khattar kaka ulti ganga baha dete hain. Unki baten ek-se-ek anuthi, nirali aur chaunkanevali hoti hain. Jaise—“brahmchari ko ved nahin padhna chahiye. Sati-savitri ke upakhyan kanyaon ke hath nahin dena chahiye. Puran bahu-betiyon ke yogya nahin hain. Durga ki katha strainon ki rachi hui hai. Gita mein shrikrishn ne arjun ko phusla diya hai. Darshanshastr ki rachna rassi dekhkar hui. Asli brahman videsh mein hain. Murkhta ke prdhan karan hain panditgan! dahi-chiuda-chini sankhya ke trigun hain. Svarg jane se dharm bhrasht ho jata hai. . . . ”
Khattar kaka hansi-hansi mein bhi jo ulta-sidha bol jate hain, use prmanit kiye bina nahin chhodte. Shrota ko apne tark-jal mein uljhakar use bhul-bhulaiya mein daal dena unka priy kautuk hai. Vah tasvir ka rukh to yon palat dete hain ki sare pariprekshya hi badal jate hain. Ramayan, mahabharat, gita, ved, vedant, puran—sabhi ulat jate hain. Bade-bade diggaj charitr baune-vidrup ban jate hain. Siddhantvadi sanki siddh hote hain, aur jivmukt mitti ke londe. Devtagan gobar-ganesh prtit hote hain. Dharmraj adharmraj, aur satynarayan asatynarayan bhasit hote hain. Aadarshon ke chitr kartun jaise drishtigochar hote hain. . . . Vah aisa chashma laga dete hain ki duniya hi ulti nazar aati hai.
Svarn jayanti ke avsar par prkashit hindi pathkon ke liye ek anupam kriti—‘khattar kaka’.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products