Look Inside
Kavita Ka Ganit
Kavita Ka Ganit

Kavita Ka Ganit

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kavita Ka Ganit

Kavita Ka Ganit

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘पहाड़ की पगडंडियाँ’ के बाद यह प्रकाश थपलियाल का दूसरा कहानी-संग्रह है। इसमें जहाँ जीवन की कई साधारण घटनाओं को कथाकार नए नज़रिए के साथ पेश करता है, वहीं उसका व्यंग्य भी पाठक को अन्दर तक उद्वेलित करता है।
प्रकाश थपलियाल की कहानियाँ समकालीन जीवन को तिर्यक दृष्टि से ही देखती हैं। जीविका और श्रद्धा के बीच का द्वन्द्व ‘लाल सलाम’ जैसी कहानियों में खुलकर उभरता है तो ‘बोरी’ और ‘मजमा’ जैसी कहानियों में राजनीति और बाज़ार की सीढ़ियों से ऊपर चढ़ते पात्र दिखाई देते हैं। ‘कीड़ा-जड़ी की खोज में’ कहानी कथाकार की क़िस्सागोई की अपनी ही तकनीक और बुनावट को सामने लाती है। कह सकते हैं कि इस कथा-संग्रह में हर कहानी का अपना ही सलीक़ा और रंग है।
‘गाली’ कहानी को ही लें, इसे पढ़कर पाठक सोचने को मजबूर हो जाता है कि ऐसा क्यों है कि गाली हमेशा औरत को केन्द्र में रखकर ही दी जाती है?
‘मजमा’ कहानी पैसे की ताक़त की तरफ़ इंगित करती है और बताती है कि बाज़ार में क़ीमती वह चीज़ नहीं है जो ज़्यादा काम की है बल्कि वह है जिसे ज़्यादा काम की बताया जाता है, मुक़ाबला इसमें है कि बताने के इस फ़न में कौन कितना माहिर है।
प्रकाश थपलियाल का कहानी कहने का भी अपना भिन्न तरीक़ा है जिसमें वे जब-तब प्रयोग करते दिखाई देते हैं। अपनी कहानियों के बारे में स्वयं उनकी धारणा है कि हिन्दी की मुख्यधारा में पर्वतीय परिवेश के शब्दों की बहुत कमी है और पर्वतीय बोली-भाषा से अधिक से अधिक संवाद द्वारा यह कमी दूर की जा सकती है। इन कहानियों में उन्होंने यह संवाद बनाने की भी कोशिश की है। वे घटनाधर्मिता को कहानी की आत्मा मानते हैं और उनकी कहानियों की पठनीयता इसी घटनाधर्मिता से बनती है जिसे वे बिना हिंसा और मार-धाड़ के, मासूमियत से निभा जाते हैं और पाठक को नई दिशा में सोचने को प्रेरित करते हैं। ‘pahad ki pagdandiyan’ ke baad ye prkash thapaliyal ka dusra kahani-sangrah hai. Ismen jahan jivan ki kai sadharan ghatnaon ko kathakar ne nazariye ke saath pesh karta hai, vahin uska vyangya bhi pathak ko andar tak udvelit karta hai. Prkash thapaliyal ki kahaniyan samkalin jivan ko tiryak drishti se hi dekhti hain. Jivika aur shraddha ke bich ka dvandv ‘lal salam’ jaisi kahaniyon mein khulkar ubharta hai to ‘bori’ aur ‘majma’ jaisi kahaniyon mein rajniti aur bazar ki sidhiyon se uupar chadhte patr dikhai dete hain. ‘kida-jadi ki khoj men’ kahani kathakar ki qissagoi ki apni hi taknik aur bunavat ko samne lati hai. Kah sakte hain ki is katha-sangrah mein har kahani ka apna hi saliqa aur rang hai.
‘gali’ kahani ko hi len, ise padhkar pathak sochne ko majbur ho jata hai ki aisa kyon hai ki gali hamesha aurat ko kendr mein rakhkar hi di jati hai?
‘majma’ kahani paise ki taqat ki taraf ingit karti hai aur batati hai ki bazar mein qimti vah chiz nahin hai jo zyada kaam ki hai balki vah hai jise zyada kaam ki bataya jata hai, muqabla ismen hai ki batane ke is fan mein kaun kitna mahir hai.
Prkash thapaliyal ka kahani kahne ka bhi apna bhinn tariqa hai jismen ve jab-tab pryog karte dikhai dete hain. Apni kahaniyon ke bare mein svayan unki dharna hai ki hindi ki mukhydhara mein parvtiy parivesh ke shabdon ki bahut kami hai aur parvtiy boli-bhasha se adhik se adhik sanvad dvara ye kami dur ki ja sakti hai. In kahaniyon mein unhonne ye sanvad banane ki bhi koshish ki hai. Ve ghatnadharmita ko kahani ki aatma mante hain aur unki kahaniyon ki pathniyta isi ghatnadharmita se banti hai jise ve bina hinsa aur mar-dhad ke, masumiyat se nibha jate hain aur pathak ko nai disha mein sochne ko prerit karte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products