BackBack
-11%

Kavita Ka Amar Phal

Rs. 395 Rs. 352

लीलाधर जगूड़ी का मानना है कि कविता ने जैसे पहले अपने लिए गद्य को पद्य का रूप दिया उसी तरह आधुनिक समय में कविता को एक नए गद्य की ज़रूरत है जो पद्य की सरसता को एक नया रूप-विधान दे सके। 'कविता का अमर फल' जगूड़ी का आधुनिक लोकगाथाओं जैसा... Read More

BlackBlack
Description

लीलाधर जगूड़ी का मानना है कि कविता ने जैसे पहले अपने लिए गद्य को पद्य का रूप दिया उसी तरह आधुनिक समय में कविता को एक नए गद्य की ज़रूरत है जो पद्य की सरसता को एक नया रूप-विधान दे सके।
'कविता का अमर फल' जगूड़ी का आधुनिक लोकगाथाओं जैसा संग्रह है। समय और स्मृति एक-दूसरे के अविभाज्य रूप बन जाते हैं। लगता है कि स्मृति ही समय है। वही घटनाओं के अंश सँभाले हुए है। ऋतुओं और वनस्पतियों का फिर से आ जाना पृथ्वी और ब्रह्मांड की स्मृति का वार्षिक पुनर्जन्म है। कभी-कभी इनकी कविताओं को पढ़ते हुए लगता है कि नए जितनी पुरानी कोई दूसरी चीज़ नहीं होती। कोई भी आविष्कार अपने स्थापित स्वरूप में परिष्कार का ही काम करता है। इनकी कविता पढ़ते हुए भाषा के अनेक रूपाकार उभारने की रचनात्मक शक्ति पाठक को प्राप्त होती है।
भर्तृहरि इन कविताओं की प्रेरणा के मूल में हैं। उस महान कवि ने कविता को कैसे सम्भव किया। बहुत प्रकार के बादल रहते हैं आसमान में, कुछ तो सृ‌‌‌ष्टि को भिगो देते हैं और कुछ बेकार ही गरजकर चले जाते हैं। इसी तरह काव्यानुभव भी सब एक तरह के नहीं होते। कुछ तो अपना शिल्प और गल्प भी लेकर आते हैं।
जगूड़ी की कविताओं को ज़िन्दगी रक्त की भाषा में हवा, पानी और आग के मिट्टी में डाले जानेवाले बीज की तरह समेटे रहती है। वह सपनों के कर्म को शब्दों के मर्म में ढाल देती है। इन कविताओं के हर शब्द में अनुभव का रक्त बजता है जो स्याही से लिखे शब्दों में अपने अर्थ की अरुणाई फैला देते हैं। Liladhar jagudi ka manna hai ki kavita ne jaise pahle apne liye gadya ko padya ka rup diya usi tarah aadhunik samay mein kavita ko ek ne gadya ki zarurat hai jo padya ki sarasta ko ek naya rup-vidhan de sake. Kavita ka amar phal jagudi ka aadhunik lokgathaon jaisa sangrah hai. Samay aur smriti ek-dusre ke avibhajya rup ban jate hain. Lagta hai ki smriti hi samay hai. Vahi ghatnaon ke ansh sanbhale hue hai. Rituon aur vanaspatiyon ka phir se aa jana prithvi aur brahmand ki smriti ka varshik punarjanm hai. Kabhi-kabhi inki kavitaon ko padhte hue lagta hai ki ne jitni purani koi dusri chiz nahin hoti. Koi bhi aavishkar apne sthapit svrup mein parishkar ka hi kaam karta hai. Inki kavita padhte hue bhasha ke anek rupakar ubharne ki rachnatmak shakti pathak ko prapt hoti hai.
Bhartrihari in kavitaon ki prerna ke mul mein hain. Us mahan kavi ne kavita ko kaise sambhav kiya. Bahut prkar ke badal rahte hain aasman mein, kuchh to sri‌‌‌shti ko bhigo dete hain aur kuchh bekar hi garajkar chale jate hain. Isi tarah kavyanubhav bhi sab ek tarah ke nahin hote. Kuchh to apna shilp aur galp bhi lekar aate hain.
Jagudi ki kavitaon ko zindagi rakt ki bhasha mein hava, pani aur aag ke mitti mein dale janevale bij ki tarah samete rahti hai. Vah sapnon ke karm ko shabdon ke marm mein dhal deti hai. In kavitaon ke har shabd mein anubhav ka rakt bajta hai jo syahi se likhe shabdon mein apne arth ki arunai phaila dete hain.