Look Inside
Kavi Man Jani Man
Kavi Man Jani Man
Kavi Man Jani Man
Kavi Man Jani Man
Kavi Man Jani Man
Kavi Man Jani Man

Kavi Man Jani Man

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kavi Man Jani Man

Kavi Man Jani Man

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आदिवासी जनी (स्त्री) मन का धरातल बिलकुल दूसरी तरह का है। आदिवासियत के दर्शन पर खड़ा। समभाव जिसकी मूल प्रकृति है। प्राकृतिक विभेद के अलावा जहाँ इनसान अथवा सत्ता द्वारा कृत्रिम रूप से थोपा हुआ कोई दूसरा भेद नहीं है। हालाँकि कुछ बन्दिशें हैं, परन्तु सामन्ती क्रूरता और धार्मिक आडम्बरों के क़िले में आदिवासी स्त्री बिलकुल क़ैद नहीं है। ‘कवि मन जनी मन’ संकलन में वृहत्तर झारखंड के आदिवासी समुदायों की स्त्री-रचनाकारों की कविताएँ शामिल हैं। कवियों में से एक या दो को छोड़कर प्राय: सभी अपनी-अपनी आदिवासी मातृभाषाओं में लिखती हैं। परन्तु संकलन में शामिल कविताएँ मूल रूप से हिन्दी में रची गई हैं। कुछ का हिन्दी अनुवाद है जिसे कवयित्रियों ने स्वयं किया है। हिन्दी में आदिवासी स्त्री-कविताओं का मूल या अनुवाद लाना इसलिए ज़रूरी लगा कि यह समझ बिलकुल साफ़ हो जाए कि नसों में दौड़नेवाला लहू चाहे कितनी पीढ़ियों का सफ़र तय कर ले, अपना मूल स्वभाव नहीं छोड़ता। यानी रचने का, गढ़ने का और बचाने का स्वभाव। अपने लिए ही नहीं बल्कि सबके लिए सम्पूर्ण समष्टि की चिन्ता का स्वभाव। पहाड़ी नदी की तरह चंचल, पोखरे की तरह गम्भीर, घर के बीचोंबीच खड़ा मज़बूत स्तम्भ या कि आर्थिक-सांस्कृतिक पौष्टिकता लिये महुआ-सी महिलाएँ अपने समुदाय की रीढ़ हैं। ठीक वैसे ही उनका लेखन है। वे अपनी कविताओं से विमर्श करती हैं। उनके विमर्श में वर्चस्व की आक्रामकता नहीं बचाव के युद्धगीत हैं। और है रचने का दुर्दम्य आग्रह जिसका सबूत यह संकलन है। Aadivasi jani (stri) man ka dharatal bilkul dusri tarah ka hai. Aadivasiyat ke darshan par khada. Sambhav jiski mul prkriti hai. Prakritik vibhed ke alava jahan insan athva satta dvara kritrim rup se thopa hua koi dusra bhed nahin hai. Halanki kuchh bandishen hain, parantu samanti krurta aur dharmik aadambron ke qile mein aadivasi stri bilkul qaid nahin hai. ‘kavi man jani man’ sanklan mein vrihattar jharkhand ke aadivasi samudayon ki stri-rachnakaron ki kavitayen shamil hain. Kaviyon mein se ek ya do ko chhodkar pray: sabhi apni-apni aadivasi matribhashaon mein likhti hain. Parantu sanklan mein shamil kavitayen mul rup se hindi mein rachi gai hain. Kuchh ka hindi anuvad hai jise kavyitriyon ne svayan kiya hai. Hindi mein aadivasi stri-kavitaon ka mul ya anuvad lana isaliye zaruri laga ki ye samajh bilkul saaf ho jaye ki nason mein daudnevala lahu chahe kitni pidhiyon ka safar tay kar le, apna mul svbhav nahin chhodta. Yani rachne ka, gadhne ka aur bachane ka svbhav. Apne liye hi nahin balki sabke liye sampurn samashti ki chinta ka svbhav. Pahadi nadi ki tarah chanchal, pokhre ki tarah gambhir, ghar ke bichombich khada mazbut stambh ya ki aarthik-sanskritik paushtikta liye mahua-si mahilayen apne samuday ki ridh hain. Thik vaise hi unka lekhan hai. Ve apni kavitaon se vimarsh karti hain. Unke vimarsh mein varchasv ki aakramakta nahin bachav ke yuddhgit hain. Aur hai rachne ka durdamya aagrah jiska sabut ye sanklan hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products