Karobare Tamanna

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Karobare Tamanna

Karobare Tamanna

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

समस्या बड़ी हो या छोटी, उसका प्रभाव समाज के छोटे-से हिस्से पर हो या देशव्यापी हो, नियम-क़ानून द्वारा उस पर कितना क़ाबू किया जा सकता है? यह मुद्दा विचारणीय है। यह वास्तविकता है कि समस्या की जड़ में जाकर मूल कारणों की पहचान की जाए तो समस्या से मुक्ति मिल सकती है। इस दिशा में रचनाकार की भूमिका महत्त्वपूर्ण होती है। वह समस्या की जड़ में जाकर मूल कारणों की न केवल पहचान करता है, बल्कि उनके विरुद्ध अवाम की मानसिकता का निर्माण करने की ज़िम्मेदारी भी निभाता है।
वेश्यावृत्ति का ज्वलन्त मुद्दा उपन्यास ‘कारोबारे तमन्ना’ के केन्द्र में है। निम्नवर्गीय मुस्लिम समाज की आर्थिक और सामाजिक पृष्ठभूमि में वेश्यावृत्ति के कारणों की जाँच-पड़ताल की गई है। उपन्यास वेश्याओं की जटिल जीवन-शैली और उस वृत्ति के निर्माण की पूरी प्रक्रिया को यथार्थ के धरातल पर प्रस्तुत करता है। यह रचना अपनी सम्पूर्णता में उसका विरोध भी करती है।
राही मासूम रज़ा के औपन्यासिक कर्म की मुख्यधारा के बरक्स ‘कारोबारे तमन्ना’ की ख़ूबी इसके दिलचस्प होने में है। यह अपने कथ्य के आधार पर विशिष्ट है। हिन्दी साहित्य की मुख्यधारा में लिखे उपन्यासों से इतर राही ने शाहिद अख़्तर और आफ़ाक़ हैदर नाम से उर्दू भाषा में कई उपन्यासों की परम्परा में परिगणित होने के कारण कभी चर्चा के लायक़ ही नहीं समझे गए।
‘कारोबारे तमन्ना’ को डॉ. एम. फ़िरोज़ खाँ ने लिप्यन्तरित कर हिन्दी पाठकों के लिए उपलब्ध कराया है।
राही मासूम रज़ा के असंख्य पाठकों हेतु एक संग्रहणीय पुस्तक। Samasya badi ho ya chhoti, uska prbhav samaj ke chhote-se hisse par ho ya deshavyapi ho, niyam-qanun dvara us par kitna qabu kiya ja sakta hai? ye mudda vicharniy hai. Ye vastavikta hai ki samasya ki jad mein jakar mul karnon ki pahchan ki jaye to samasya se mukti mil sakti hai. Is disha mein rachnakar ki bhumika mahattvpurn hoti hai. Vah samasya ki jad mein jakar mul karnon ki na keval pahchan karta hai, balki unke viruddh avam ki manasikta ka nirman karne ki zimmedari bhi nibhata hai. Veshyavritti ka jvlant mudda upanyas ‘karobare tamanna’ ke kendr mein hai. Nimnvargiy muslim samaj ki aarthik aur samajik prishthbhumi mein veshyavritti ke karnon ki janch-padtal ki gai hai. Upanyas veshyaon ki jatil jivan-shaili aur us vritti ke nirman ki puri prakriya ko yatharth ke dharatal par prastut karta hai. Ye rachna apni sampurnta mein uska virodh bhi karti hai.
Rahi masum raza ke aupanyasik karm ki mukhydhara ke baraks ‘karobare tamanna’ ki khubi iske dilchasp hone mein hai. Ye apne kathya ke aadhar par vishisht hai. Hindi sahitya ki mukhydhara mein likhe upanyason se itar rahi ne shahid akhtar aur aafaq haidar naam se urdu bhasha mein kai upanyason ki parampra mein parignit hone ke karan kabhi charcha ke layaq hi nahin samjhe ge.
‘karobare tamanna’ ko dau. Em. Firoz khan ne lipyantrit kar hindi pathkon ke liye uplabdh karaya hai.
Rahi masum raza ke asankhya pathkon hetu ek sangrahniy pustak.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products