Look Inside
Kareeb Se
Kareeb Se

Kareeb Se

Regular price Rs. 410
Sale price Rs. 410 Regular price Rs. 441
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kareeb Se

Kareeb Se

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

ज़ोहरा सहगल की यह आत्मकथा मंच और फ़िल्मी पर्दे पर उनकी लगभग सौ साल लम्बी मौजूदगी का एक बड़ा फलक पेश करती है। भारत और इंग्लैंड दोनों जगह समान रूप से सक्रिय रहीं ज़ोहरा सहगल इसमें अपने बचपन से लेकर अब तक की ज़िन्दगी का दिलचस्प ख़ाका खींचती हैं।
1930 में ज़ोहरा आपा ड्रेस्डेन, जर्मनी में मैरी विगमैन के डांस-स्कूल में आधुनिक नृत्य का प्रशिक्षण लेने के लिए गईं। नवाबों की पारिवारिक पृष्ठभूमि से आईं एक भारतीय युवती के लिए यह फ़ैसला अस्वाभाविक था। लेकिन कुछ अलग हटकर करने का नाम ज़ोहरा सहगल है। 1933 में वे वापस आईं और 1935 में उदयशंकर की अल्मोड़ा स्थित प्रसिद्ध नाट्य दल से जुड़ीं। कामेश्वर सहगल भी इसी कम्पनी में थे जिनसे 1942 में उनकी शादी हुई।
इस दौर के अपने सफ़र के बाद ज़ोहरा सहगल इस आत्मकथा में पृथ्वी थिएटर और पृथ्वीराज कपूर से जुड़े अपने लम्बे और गहरे अनुभव के दिनों का लेखा-जोखा देती हैं। पृथ्वी थिएटर में अपने चौदह साल उन्होंने भारतीय रंगमंच के एक महत्त्वपूर्ण अध्याय के बीचोबीच बिताए। इप्टा का बनना और फिर निष्क्रिय हो जाना भी उन्होंने नज़दीक से देखा। इस पूरे दौर का बहुत पास से लिया गया जायज़ा इस आत्मकथा में शामिल है।
इसके बाद इंग्लैंड में बीबीसी टेलीविज़न, ब्रिटिश ड्रामा लीग, और अनेक धारावाहिकों तथा फ़िल्मों के साथ अभिनेत्री के रूप में उनका जुड़ाव, और इस दौरान ब्रिटिश रंगमंच की महान हस्तियों से उनकी मुलाक़ातों के विवरण, ‘मुल्ला नसीरुद्दीन’ जैसे भारतीय धारावाहिकों में काम करने के अनुभव, इस आत्मकथा को एक ख़ास दिलचस्पी से पढ़े जाने की दावत देते हैं। साथ में ज़ोहरा आपा का चुटीला अन्दाज़, उसके तो कहने ही क्या! Zohra sahgal ki ye aatmaktha manch aur filmi parde par unki lagbhag sau saal lambi maujudgi ka ek bada phalak pesh karti hai. Bharat aur inglaind donon jagah saman rup se sakriy rahin zohra sahgal ismen apne bachpan se lekar ab tak ki zindagi ka dilchasp khaka khinchti hain. 1930 mein zohra aapa dresden, jarmni mein mairi vigmain ke dans-skul mein aadhunik nritya ka prshikshan lene ke liye gain. Navabon ki parivarik prishthbhumi se aain ek bhartiy yuvti ke liye ye faisla asvabhavik tha. Lekin kuchh alag hatkar karne ka naam zohra sahgal hai. 1933 mein ve vapas aain aur 1935 mein udayshankar ki almoda sthit prsiddh natya dal se judin. Kameshvar sahgal bhi isi kampni mein the jinse 1942 mein unki shadi hui.
Is daur ke apne safar ke baad zohra sahgal is aatmaktha mein prithvi thiyetar aur prithviraj kapur se jude apne lambe aur gahre anubhav ke dinon ka lekha-jokha deti hain. Prithvi thiyetar mein apne chaudah saal unhonne bhartiy rangmanch ke ek mahattvpurn adhyay ke bichobich bitaye. Ipta ka banna aur phir nishkriy ho jana bhi unhonne nazdik se dekha. Is pure daur ka bahut paas se liya gaya jayza is aatmaktha mein shamil hai.
Iske baad inglaind mein bibisi telivizan, british drama lig, aur anek dharavahikon tatha filmon ke saath abhinetri ke rup mein unka judav, aur is dauran british rangmanch ki mahan hastiyon se unki mulaqaton ke vivran, ‘mulla nasiruddin’ jaise bhartiy dharavahikon mein kaam karne ke anubhav, is aatmaktha ko ek khas dilchaspi se padhe jane ki davat dete hain. Saath mein zohra aapa ka chutila andaz, uske to kahne hi kya!

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products