BackBack
-11%

Kali-Katha : Via Bypass

Rs. 395 Rs. 352

‘श्रीकांत वर्मा पुरस्कार’ और 'साहित्य अकादेमी पुरस्कार' से सम्मानित यह उपन्यास अलका सरावगी की पहली औपन्यासिक रचना थी। इस उपन्यास ने न सिर्फ़ उन्हें हिन्दी साहित्य-जगत का सितारा लेखक बना दिया, बल्कि अब तक चली आ रही उपन्यास-परम्परा को भी एक नया मोड़ दिया। इसने कथा-लेखन की एक ठहरी और... Read More

Description

‘श्रीकांत वर्मा पुरस्कार’ और 'साहित्य अकादेमी पुरस्कार' से सम्मानित यह उपन्यास अलका सरावगी की पहली औपन्यासिक रचना थी। इस उपन्यास ने न सिर्फ़ उन्हें हिन्दी साहित्य-जगत का सितारा लेखक बना दिया, बल्कि अब तक चली आ रही उपन्यास-परम्परा को भी एक नया मोड़ दिया। इसने कथा-लेखन की एक ठहरी और इकहरी शैली से ऊबे हिन्दी पाठक को एक ऐसी भाषा और कहन दी जिससे उसने अचानक अपने को समृद्ध अनुभव किया।
एक मारवाड़ी परिवार की कई पीढ़ियों की दास्तान कहनेवाला यह उपन्यास शायद भाषा में उस दृष्टि को पिरोनेवाला पहला उपन्यास था जिसने नब्बे के दशक में देश में उदारीकरण के बाद जन्म लिया था। आज़ाद भारत में निर्मित सामाजिकता के प्रचलित पैमानों पर जीते मनुष्य की भीतरी अजनबीयत की पहचान से शुरू होती यह कथा अंग्रेज़ों द्वारा भारत में रेलवे लाने के शुरुआती दिनों से लेकर सन् 2000 तक के इतिहास का अवलोकन करती है। इसमें कोलकाता शहर का इतिहास भी पढ़ा जा सकता है, और मोटा-मोटी ढंग से भारत में सामाजिक-नैतिक मूल्यों के निर्माण और ध्वंस का भी।
कहानी किशोर बाबू की है जो अपनी बाइपास सर्जरी के बाद दुनिया को बिलकुल ही अलग सिरे से देखने लगते हैं, वे किशोर बाबू जो जीवन-भर दक्षिणी कोलकाता के अभिजात समाज का हिस्सा रहे अचानक ‘सड़कमाप’ बन जाते हैं, कोलकाता की अभद्र सड़कों पर भटकते दिखने लगते हैं और अपनी इसी यात्रा में अपने परिवार के पुरखों से लेकर अपनी तीन वर्षीय नातिन तक के समय को खँगाल देते हैं। ‘shrikant varma puraskar’ aur sahitya akademi puraskar se sammanit ye upanyas alka saravgi ki pahli aupanyasik rachna thi. Is upanyas ne na sirf unhen hindi sahitya-jagat ka sitara lekhak bana diya, balki ab tak chali aa rahi upanyas-parampra ko bhi ek naya mod diya. Isne katha-lekhan ki ek thahri aur ikahri shaili se uube hindi pathak ko ek aisi bhasha aur kahan di jisse usne achanak apne ko samriddh anubhav kiya. Ek marvadi parivar ki kai pidhiyon ki dastan kahnevala ye upanyas shayad bhasha mein us drishti ko pironevala pahla upanyas tha jisne nabbe ke dashak mein desh mein udarikran ke baad janm liya tha. Aazad bharat mein nirmit samajikta ke prachlit paimanon par jite manushya ki bhitri ajanbiyat ki pahchan se shuru hoti ye katha angrezon dvara bharat mein relve lane ke shuruati dinon se lekar san 2000 tak ke itihas ka avlokan karti hai. Ismen kolkata shahar ka itihas bhi padha ja sakta hai, aur mota-moti dhang se bharat mein samajik-naitik mulyon ke nirman aur dhvans ka bhi.
Kahani kishor babu ki hai jo apni baipas sarjri ke baad duniya ko bilkul hi alag sire se dekhne lagte hain, ve kishor babu jo jivan-bhar dakshini kolkata ke abhijat samaj ka hissa rahe achanak ‘sadakmap’ ban jate hain, kolkata ki abhadr sadkon par bhatakte dikhne lagte hain aur apni isi yatra mein apne parivar ke purkhon se lekar apni tin varshiy natin tak ke samay ko khangal dete hain.