Look Inside
Kahni Upkhan
Kahni Upkhan

Kahni Upkhan

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kahni Upkhan

Kahni Upkhan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुप्रसिद्ध कथाकार काशीनाथ सिंह पिछले चालीस वर्षों से हिन्दी कथा में सक्रिय और तरो-ताज़ा हैं। उन्होंने अपने लेखन के ज़रिए पाठकों की नई जमात तैयार की है—युवाओं की जमात ‘अपना मोर्चा’ लिखकर और साहित्य से कोई सरोकार न रखनेवाले सामान्य पाठकों के संस्मरण और ‘काशी का अस्सी’ लिखकर। लेकिन ऊपर से आरोप यह कि उन्होंने साहित्य की कुलीनता की धज्जियाँ उड़ाई हैं। इसके एवज़ में उन्होंने गालियाँ भी खाई हैं, उपेक्षाएँ भी झेली हैं और ख़तरे भी उठाए हैं। यह यों ही नहीं है कि कथा-कहानी में आनेवाली हर युवा पीढ़ी काशी को अपना समकालीन और सहयात्री समझती रही है। ऐसा क्यों है—यह देखना हो तो कहनी उपखान पढ़ना चाहिए।
कहनी उपखान काशी की सारी छोटी-बड़ी कहानियों का संग्रह है—अब तक की कुल जमा-पूँजी। मात्र चालीस कहानियाँ। देखा जाना चाहिए कि वह कौन-सी ख़ासियत है कि इतनी-सी पूँजी पर काशी लगातार कथा-चर्चा में बने रहे हैं और आलोचकों के लिए भी ‘अपरिहार्य’ रहे हैं।
काल और काल से छेड़छाड़ और मुठभेड़—पहचान है काशी की कहानियों की। काल के केन्द्र में है सामाजिक और आर्थिक विसंगतियों से घिरा आदमी—कभी अकेले, कभी परिवार में, कभी समाज में। इस आदमी से मिलना यानी कहानियों को पढ़ना हरी-भरी ज़िन्दगी के बीच चहलक़दमी करने जैसा है। न कहीं बोरियत, न एकरसता, न मनहूसियत, न दुहराव। उठने-गिरने, चलने-फिरने, लड़ने-हारने में भी हँसी-ठट्ठा और व्यंग्य-विनोद। ज़िन्दादिली कहीं भी पाठक का साथ नहीं छोड़ती। जियो तो हँसते हुए, मरो तो हँसते हुए—यही जैसे जीने का नुस्खा हो पात्रों के जीवन का।
जैसे-जैसे ज़़िन्दगी बदली है, वैसे-वैसे काशी की कहानी भी बदली है—अगर नहीं बदला है तो कहानी कहने का अन्दाज़। जातक, पंचतंत्र और लोकप्रचलित कथाशैलियाँ जैसे उनके कहानीकार के ख़ून में हैं। कई कहानियाँ तो चौपाल या अलाव के गिर्द बैठकर सुनने का सुख देती हैं।
आइए, वह सुख आप भी लीजिए ‘कहनी उपखान’ पढ़कर। कहनी (कहानी) और उपखान (उपाख्यान) कहकर तो काशी ने लिया है, आप भी लीजिए पढ़कर, क्योंकि काशी को पढ़ना ही सुनना है। Suprsiddh kathakar kashinath sinh pichhle chalis varshon se hindi katha mein sakriy aur taro-taza hain. Unhonne apne lekhan ke zariye pathkon ki nai jamat taiyar ki hai—yuvaon ki jamat ‘apna morcha’ likhkar aur sahitya se koi sarokar na rakhnevale samanya pathkon ke sansmran aur ‘kashi ka assi’ likhkar. Lekin uupar se aarop ye ki unhonne sahitya ki kulinta ki dhajjiyan udai hain. Iske evaz mein unhonne galiyan bhi khai hain, upekshayen bhi jheli hain aur khatre bhi uthaye hain. Ye yon hi nahin hai ki katha-kahani mein aanevali har yuva pidhi kashi ko apna samkalin aur sahyatri samajhti rahi hai. Aisa kyon hai—yah dekhna ho to kahni upkhan padhna chahiye. Kahni upkhan kashi ki sari chhoti-badi kahaniyon ka sangrah hai—ab tak ki kul jama-punji. Matr chalis kahaniyan. Dekha jana chahiye ki vah kaun-si khasiyat hai ki itni-si punji par kashi lagatar katha-charcha mein bane rahe hain aur aalochkon ke liye bhi ‘apariharya’ rahe hain.
Kaal aur kaal se chhedchhad aur muthbhed—pahchan hai kashi ki kahaniyon ki. Kaal ke kendr mein hai samajik aur aarthik visangatiyon se ghira aadmi—kabhi akele, kabhi parivar mein, kabhi samaj mein. Is aadmi se milna yani kahaniyon ko padhna hari-bhari zindagi ke bich chahalaqadmi karne jaisa hai. Na kahin boriyat, na ekarasta, na manhusiyat, na duhrav. Uthne-girne, chalne-phirne, ladne-harne mein bhi hansi-thattha aur vyangya-vinod. Zindadili kahin bhi pathak ka saath nahin chhodti. Jiyo to hansate hue, maro to hansate hue—yahi jaise jine ka nuskha ho patron ke jivan ka.
Jaise-jaise zindagi badli hai, vaise-vaise kashi ki kahani bhi badli hai—agar nahin badla hai to kahani kahne ka andaz. Jatak, panchtantr aur lokaprachlit kathashailiyan jaise unke kahanikar ke khun mein hain. Kai kahaniyan to chaupal ya alav ke gird baithkar sunne ka sukh deti hain.
Aaie, vah sukh aap bhi lijiye ‘kahni upkhan’ padhkar. Kahni (kahani) aur upkhan (upakhyan) kahkar to kashi ne liya hai, aap bhi lijiye padhkar, kyonki kashi ko padhna hi sunna hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products