Look Inside
Kahani Vastu Aur Antarvastu
Kahani Vastu Aur Antarvastu

Kahani Vastu Aur Antarvastu

Regular price Rs. 290
Sale price Rs. 290 Regular price Rs. 312
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kahani Vastu Aur Antarvastu

Kahani Vastu Aur Antarvastu

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी में कहानी-आलोचना पर्याप्त समृद्ध और बहुआयामी होते हुए भी आलोचना की मुख्यधारा में अनादृत ही रही है। हिन्दी में केवल कथाकार या कहानीकार तो बहुत-से मिल जाएँगे लेकिन केवल कथा या कहानी का आलोचक ढूँढ़ने पर बहुत मुश्किल से ही मिल पाएगा। जो दो-चार कहानी-आलोचक हमारे यहाँ रहे या हैं भी तो उनका कार्य इतना सीमित और कालबद्ध रहा है कि उससे कहानी-आलोचना की कोई सामान्य सैद्धान्तिकी निर्मित हो पाना सम्भव नहीं हो पाया।
हिन्दी की कहानी-समीक्षा पर अधिकांशतः एक आरोप यह लगाया जाता रहा है कि उसके प्रतिमान कविता-समीक्षा के क्षेत्र से आयत्त किए जाते हैं, हिन्दी-आलोचना के पास कहानी-समीक्षा के ऐसे प्रतिमान लगभग न के बराबर हैं, जो कहानी को कहानी की तरह देख सकें, जो नितरां कहानी-विधा के और उसी के लिए हों। फ़िलहाल यह कहना पर्याप्त होगा कि एक कहानी की समीक्षा एक कहानी की तरह ही की जानी चाहिए, उसे कविता या उपन्यास की तराजू में नहीं चढ़ा देना चाहिए।
कविता और उपन्यास के प्रतिमानों से यदा-कदा मदद तो ली जा सकती है, एक सप्लीमेंट के रूप में उनका उपयोग तो किया जा सकता है लेकिन कहानी-समीक्षा की असल ज़मीन तो स्वयं कहानी-विधा के संघटक तत्त्वों से ही निर्मित की जा सकती है। परम्परा में इस असल ज़मीन की पहचान कई बार की भी गई है। जहाँ नहीं है, या कहीं कोई चीज़ छूट गई है तो नए प्रयोगों द्वारा उसकी सम्भावनाओं की तलाश की जा सकती है। इससे परम्परा का मूल्यांकन भी होगा और आगे के नए रास्ते भी खुलेंगे। Hindi mein kahani-alochna paryapt samriddh aur bahuayami hote hue bhi aalochna ki mukhydhara mein anadrit hi rahi hai. Hindi mein keval kathakar ya kahanikar to bahut-se mil jayenge lekin keval katha ya kahani ka aalochak dhundhane par bahut mushkil se hi mil payega. Jo do-char kahani-alochak hamare yahan rahe ya hain bhi to unka karya itna simit aur kalbaddh raha hai ki usse kahani-alochna ki koi samanya saiddhantiki nirmit ho pana sambhav nahin ho paya. Hindi ki kahani-samiksha par adhikanshatः ek aarop ye lagaya jata raha hai ki uske pratiman kavita-samiksha ke kshetr se aayatt kiye jate hain, hindi-alochna ke paas kahani-samiksha ke aise pratiman lagbhag na ke barabar hain, jo kahani ko kahani ki tarah dekh saken, jo nitran kahani-vidha ke aur usi ke liye hon. Filhal ye kahna paryapt hoga ki ek kahani ki samiksha ek kahani ki tarah hi ki jani chahiye, use kavita ya upanyas ki taraju mein nahin chadha dena chahiye.
Kavita aur upanyas ke pratimanon se yada-kada madad to li ja sakti hai, ek sapliment ke rup mein unka upyog to kiya ja sakta hai lekin kahani-samiksha ki asal zamin to svayan kahani-vidha ke sanghtak tattvon se hi nirmit ki ja sakti hai. Parampra mein is asal zamin ki pahchan kai baar ki bhi gai hai. Jahan nahin hai, ya kahin koi chiz chhut gai hai to ne pryogon dvara uski sambhavnaon ki talash ki ja sakti hai. Isse parampra ka mulyankan bhi hoga aur aage ke ne raste bhi khulenge.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products