Look Inside
Kachhua Aur Khargosh
Kachhua Aur Khargosh
Kachhua Aur Khargosh
Kachhua Aur Khargosh

Kachhua Aur Khargosh

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kachhua Aur Khargosh

Kachhua Aur Khargosh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुछ रचनाएँ ऐसी भी होती हैं, जो बच्चों के लिए लिखी जाती हैं, लेकिन उनकी शिक्षा या सीख सार्वभौमिक और सार्वकालिक होती है। ‘कछुआ और ख़रगोश’ डॉ. जाकिर हुसैन की ऐसी ही ज्ञानवर्द्धक कहानियों का संकलन है, जिसमें पशु-पक्षियों के बहाने मनुष्य के जीवन के विभिन्न पक्षों को उकेरा गया है।
‘कछुआ और ख़रगोश’ कहानी में विद्वानों और शिक्षकों पर तीखा व्यंग्य किया गया है जो अपने ज्ञान के जाल में मकड़ी की तरह स्वयं उलझ जाते हैं। वास्तविकता और वास्तविक तथ्यों की ओर ध्यान न देकर इधर-उधर भटकते हैं और दूसरों को भटकाते हैं। विद्वान अपनी विद्वत्ता का प्रदर्शन करने के लिए ऐसी भाषा का प्रयोग करते हैं जो बहुत ही कठिन और गूढ़ होती है। वे यह भूल जाते हैं कि बात जिससे की जा रही है, वह उसे समझ भी रहा है या नहीं। इस कहानी में प्रो. कपचाक़, प्रो. फ़िलकौर और अलफ़लसेफुलहिन्दी ने कहीं-कहीं ऐसी ही भाषा का प्रयोग किया है जो पढ़नेवालों के छक्के छुड़ा देती है।
क़ैद का जीवन जब एक बकरी के लिए इतना कष्टदायक हो सकता है, तो मनुष्य के लिए कितना होगा—यह जानकारी हमें ‘अब्बू ख़ाँ की बकरी’ से मिलती है जिसे आज़ादी के लिए अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। इसी तरह ‘मुर्गी चली अजमेर’, ‘उसी से ठंडा उसी से गरम’, ‘जुलाहा और बनिया’, ‘सच्ची मुहब्बत’, ‘सईदा की अम्मा’ आदि ऐसी कहानियाँ हैं, जो जीवन के विभिन्न पक्षों को अपनी मनोरंजक शैली में प्रस्तुत करती हैं। बच्चों के लिए लिखी गई ये कहानियाँ बड़ों के लिए भी उपयोगी और मनोरंजक हैं। Kuchh rachnayen aisi bhi hoti hain, jo bachchon ke liye likhi jati hain, lekin unki shiksha ya sikh sarvbhaumik aur sarvkalik hoti hai. ‘kachhua aur khargosh’ dau. Jakir husain ki aisi hi gyanvarddhak kahaniyon ka sanklan hai, jismen pashu-pakshiyon ke bahane manushya ke jivan ke vibhinn pakshon ko ukera gaya hai. ‘kachhua aur khargosh’ kahani mein vidvanon aur shikshkon par tikha vyangya kiya gaya hai jo apne gyan ke jaal mein makdi ki tarah svayan ulajh jate hain. Vastavikta aur vastvik tathyon ki or dhyan na dekar idhar-udhar bhatakte hain aur dusron ko bhatkate hain. Vidvan apni vidvatta ka prdarshan karne ke liye aisi bhasha ka pryog karte hain jo bahut hi kathin aur gudh hoti hai. Ve ye bhul jate hain ki baat jisse ki ja rahi hai, vah use samajh bhi raha hai ya nahin. Is kahani mein pro. Kapchaq, pro. Filkaur aur alafalsephulhindi ne kahin-kahin aisi hi bhasha ka pryog kiya hai jo padhnevalon ke chhakke chhuda deti hai.
Qaid ka jivan jab ek bakri ke liye itna kashtdayak ho sakta hai, to manushya ke liye kitna hoga—yah jankari hamein ‘abbu khan ki bakri’ se milti hai jise aazadi ke liye apni jaan se hath dhona padta hai. Isi tarah ‘murgi chali ajmer’, ‘usi se thanda usi se garam’, ‘julaha aur baniya’, ‘sachchi muhabbat’, ‘saida ki amma’ aadi aisi kahaniyan hain, jo jivan ke vibhinn pakshon ko apni manoranjak shaili mein prastut karti hain. Bachchon ke liye likhi gai ye kahaniyan badon ke liye bhi upyogi aur manoranjak hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products