BackBack
-11%

Kabhi Ke Baad Abhi

Rs. 295 Rs. 263

हिन्दी कविता के लोकतंत्र और लोकायतन में विनोद कुमार शुक्ल की कविता अनूठी सहजता के साथ उपस्थित मिलती है। विनोद कुमार शुक्ल जीवन के विपुल वैविध्य को नगण्य प्रतीत होते उदाहरणों में अनुभव करते हैं। यह ‘मुलायम मामूलीपन’ उनकी कविता में आकर संवेदना का अक्षर-आलेख बन जाता है। कभी के... Read More

BlackBlack
Description

हिन्दी कविता के लोकतंत्र और लोकायतन में विनोद कुमार शुक्ल की कविता अनूठी सहजता के साथ उपस्थित मिलती है। विनोद कुमार शुक्ल जीवन के विपुल वैविध्य को नगण्य प्रतीत होते उदाहरणों में अनुभव करते हैं। यह ‘मुलायम मामूलीपन’ उनकी कविता में आकर संवेदना का अक्षर-आलेख बन जाता है।
कभी के बाद अभी विनोद कुमार शुक्ल की कविताओं का वह संग्रह है जिस पर कवि के लम्बे जीवनानुभव की सजग छायाएँ हैं। इन छायाओं के बीच जितना दिखना चाहिए उतना ही दिखता है, अतिरिक्त कुछ भी नहीं। शब्दों की अन्तर्ध्वनियों और उनके सहजीवन के पारखी विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ मन्द्र स्वरों में व्यक्त होती हैं। वे कहते हैं, ‘चुप रहने को भी सुन लेना/जीवन की उम्मीद से।’
घर, पड़ोस, मृत्यु, जन्म सरीखे बीज-शब्द इस संग्रह की रचनाओं में अँखुए की तरह उकसे दिखाई देते हैं। ऐसे बहुतेरे शब्दों से हरे-भरे जीवन की शाश्वत सरलता पर कवि मुग्ध है।
मनुष्य और प्रकृति के बीच सम्बन्धों के साझा-सौन्दर्य को कवि भाँति-भाँति से व्यक्त करता है। इसके पश्चात् भी जाने कितना है जो अल्पविराम के बाद और पूर्णविराम से पहले अनुभव किया जा सकता है। अपूर्णता की गरिमा और सार्थकता को भी विनोद कुमार शुक्ल ने रेखांकित किया है। इसका महत्त्व चीन्हते हुए लिखते हैं, ‘इस असमाप्त अधूरे से भरे जीवन को/अभी अधूरा न माना जाए/कि जीवन भरपूर जिया गया।’
प्रस्तुत कविता-संग्रह विनोद कुमार शुक्ल की रचनाशीलता की अद्वितीय आभा का एक और आयाम है। Hindi kavita ke loktantr aur lokaytan mein vinod kumar shukl ki kavita anuthi sahajta ke saath upasthit milti hai. Vinod kumar shukl jivan ke vipul vaividhya ko naganya prtit hote udaharnon mein anubhav karte hain. Ye ‘mulayam mamulipan’ unki kavita mein aakar sanvedna ka akshar-alekh ban jata hai. Kabhi ke baad abhi vinod kumar shukl ki kavitaon ka vah sangrah hai jis par kavi ke lambe jivnanubhav ki sajag chhayayen hain. In chhayaon ke bich jitna dikhna chahiye utna hi dikhta hai, atirikt kuchh bhi nahin. Shabdon ki antardhvaniyon aur unke sahjivan ke parkhi vinod kumar shukl ki kavitayen mandr svron mein vyakt hoti hain. Ve kahte hain, ‘chup rahne ko bhi sun lena/jivan ki ummid se. ’
Ghar, pados, mrityu, janm sarikhe bij-shabd is sangrah ki rachnaon mein ankhue ki tarah ukse dikhai dete hain. Aise bahutere shabdon se hare-bhare jivan ki shashvat saralta par kavi mugdh hai.
Manushya aur prkriti ke bich sambandhon ke sajha-saundarya ko kavi bhanti-bhanti se vyakt karta hai. Iske pashchat bhi jane kitna hai jo alpaviram ke baad aur purnaviram se pahle anubhav kiya ja sakta hai. Apurnta ki garima aur sarthakta ko bhi vinod kumar shukl ne rekhankit kiya hai. Iska mahattv chinhte hue likhte hain, ‘is asmapt adhure se bhare jivan ko/abhi adhura na mana jaye/ki jivan bharpur jiya gaya. ’
Prastut kavita-sangrah vinod kumar shukl ki rachnashilta ki advitiy aabha ka ek aur aayam hai.