BackBack
-11%

Jyotish Vikas, Prakar Aur Jyotirvid

Rs. 350 Rs. 312

ज्योतिष शब्द का नाम आते ही हमारा ध्यान भाग्यफल या फलित ज्योतिष की ओर जाता है। आज टी.वी. चैनलों और अख़बारों में ज्योतिष विद्या और ज्योतिषियों की बाढ़ आई हुई है। लोग सड़क पर, मन्दिर में बैठे ज्योतिषियों से अपने भविष्य और भाग्य का पता लगाते रहते हैं। इस तरह... Read More

BlackBlack
Description

ज्योतिष शब्द का नाम आते ही हमारा ध्यान भाग्यफल या फलित ज्योतिष की ओर जाता है। आज टी.वी. चैनलों और अख़बारों में ज्योतिष विद्या और ज्योतिषियों की बाढ़ आई हुई है। लोग सड़क पर, मन्दिर में बैठे ज्योतिषियों से अपने भविष्य और भाग्य का पता लगाते रहते हैं। इस तरह लोक-व्यवहार में, ज्योतिष का अर्थ हो गया है—फलित ज्योतिष, यानी ग्रह-नक्षत्रों के शुभाशुभ फल बतानेवाली विद्या। परन्तु आरम्भ में इस शब्द का यह अर्थ नहीं था। वस्तुत: ज्योतिष खगोल विज्ञान का हिस्सा है। यह सूर्यादि ग्रह और काल का बोध करानेवाला शास्त्र है। आदिमानव से लेकर आज तक मानव को काल-ज्ञान, स्थिति-ज्ञान और दिशा-ज्ञान की जिज्ञासा रही है। उसने इसी जिज्ञासा के समाधान के लिए प्रयत्न किया और इसी से ज्योतिष का उदय हुआ। आकाशीय ज्योतियों अर्थात् सूर्यादि नक्षत्रों तथा ग्रहों आदि की गतियों को जानना और उनकी गणना करना मुख्य रूप से इसके अन्तर्गत आता है।
गुणाकर मुळे स्वयं खगोल विज्ञान के विद्यार्थी थे। नक्षत्रों और ग्रहों के बारे में उन्होंने गहन अध्ययन किया था। उन्होंने 'ज्योतिष : विकास, प्रकार और ज्योतिर्विद्’ पुस्तक में ज्योतिष के विकास-क्रम पर तो प्रकाश डाला ही है, ज्योतिष के वैज्ञानिक और तार्किक पक्ष को भी उभारा है। उन्होंने इस पुस्तक में यह भी स्थापित किया है कि फलित ज्योतिष अवैज्ञानिक और अभारतीय है। Jyotish shabd ka naam aate hi hamara dhyan bhagyphal ya phalit jyotish ki or jata hai. Aaj ti. Vi. Chainlon aur akhbaron mein jyotish vidya aur jyotishiyon ki badh aai hui hai. Log sadak par, mandir mein baithe jyotishiyon se apne bhavishya aur bhagya ka pata lagate rahte hain. Is tarah lok-vyavhar mein, jyotish ka arth ho gaya hai—phalit jyotish, yani grah-nakshatron ke shubhashubh phal batanevali vidya. Parantu aarambh mein is shabd ka ye arth nahin tha. Vastut: jyotish khagol vigyan ka hissa hai. Ye suryadi grah aur kaal ka bodh karanevala shastr hai. Aadimanav se lekar aaj tak manav ko kal-gyan, sthiti-gyan aur disha-gyan ki jigyasa rahi hai. Usne isi jigyasa ke samadhan ke liye pryatn kiya aur isi se jyotish ka uday hua. Aakashiy jyotiyon arthat suryadi nakshatron tatha grhon aadi ki gatiyon ko janna aur unki ganna karna mukhya rup se iske antargat aata hai. Gunakar muळe svayan khagol vigyan ke vidyarthi the. Nakshatron aur grhon ke bare mein unhonne gahan adhyyan kiya tha. Unhonne jyotish : vikas, prkar aur jyotirvid’ pustak mein jyotish ke vikas-kram par to prkash dala hi hai, jyotish ke vaigyanik aur tarkik paksh ko bhi ubhara hai. Unhonne is pustak mein ye bhi sthapit kiya hai ki phalit jyotish avaigyanik aur abhartiy hai.