Look Inside
Jugani
Jugani

Jugani

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jugani

Jugani

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अपनी दूसरी पुस्तक ‘जुगनी’ में पन्द्रह कहानियों के माध्यम से भावना शेखर ने आसपास घटती साधारण घटनाओं को भी असाधारण बनाने की अपनी संवेदनशीलता का परिचय दिया है। सरल भाषा में परिपक्व भावनाओं को गूँथा गया है। अधिकांश कहानियाँ नारी पात्रों के इर्द-गिर्द घूमती हैं और सफलतापूर्वक उनके अन्तर्मन में झाँकने का प्रयास करती हैं। भावना शेखर नारी-मन की कुशल चितेरी हैं—कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी।
सदियों से दमित-कुंठित और शोषित नारी का चित्रण करना लेखिका का अभीष्ट नहीं वरन् अन्याय से लोहा लेती नारी को अन्ततः विजयी दर्शाना इन्हें अवश्य प्रिय लगता है। प्रायः हर कहानी एक ‘पॉजिटिव नोट’ पर समाप्त होती है।
वृन्दा हो या नीलांजना, देव या जुगनी—पात्रों का चरित्र-चित्रण तो प्रभावशाली है ही, पुरुष और नारी पात्रों की देहयष्टि का वर्णन भी लेखिका बेबाकी से कर जाती हैं—चाहे वह ‘त्रिकोण’ का हेमन्त हो या ‘वन्ध्या’ की अम्बिका या गोगो या ‘मलेच्छन’ की नैन्सी।
भावना शेखर के लेखन में प्रकृति के साथ पात्रों का सहज ही साहचर्य स्थापित हो जाता है। पहाड़ों से अपने जुड़ाव के कारण वे पाठकों को भी प्रकृति-भ्रमण की ओर बरबस खींच लेती हैं। अपनी कहानियों के माध्यम से न केवल बचपन में बार-बार लौटती हैं, अपितु सम्पूर्ण मानव जीवन की गतिविधियों पर एक दर्शनशास्त्री की तरह अपनी निश्छल टिप्पणी भी देती हैं।
संक्षेप में, पुस्तक की सभी कहानियाँ धारदार और असरदार हैं। अतः निस्सन्देह पठनीय और संग्रहणीय हैं।
—डॉ. नरेन्द्रनाथ पांडेय Apni dusri pustak ‘jugni’ mein pandrah kahaniyon ke madhyam se bhavna shekhar ne aaspas ghatti sadharan ghatnaon ko bhi asadharan banane ki apni sanvedanshilta ka parichay diya hai. Saral bhasha mein paripakv bhavnaon ko guntha gaya hai. Adhikansh kahaniyan nari patron ke ird-gird ghumti hain aur saphaltapurvak unke antarman mein jhankane ka pryas karti hain. Bhavna shekhar nari-man ki kushal chiteri hain—kahna atishyokti nahin hogi. Sadiyon se damit-kunthit aur shoshit nari ka chitran karna lekhika ka abhisht nahin varan anyay se loha leti nari ko antatः vijyi darshana inhen avashya priy lagta hai. Prayः har kahani ek ‘paujitiv not’ par samapt hoti hai.
Vrinda ho ya nilanjna, dev ya jugni—patron ka charitr-chitran to prbhavshali hai hi, purush aur nari patron ki dehyashti ka varnan bhi lekhika bebaki se kar jati hain—chahe vah ‘trikon’ ka hemant ho ya ‘vandhya’ ki ambika ya gogo ya ‘malechchhan’ ki nainsi.
Bhavna shekhar ke lekhan mein prkriti ke saath patron ka sahaj hi sahcharya sthapit ho jata hai. Pahadon se apne judav ke karan ve pathkon ko bhi prkriti-bhrman ki or barbas khinch leti hain. Apni kahaniyon ke madhyam se na keval bachpan mein bar-bar lautti hain, apitu sampurn manav jivan ki gatividhiyon par ek darshanshastri ki tarah apni nishchhal tippni bhi deti hain.
Sankshep mein, pustak ki sabhi kahaniyan dhardar aur asardar hain. Atः nissandeh pathniy aur sangrahniy hain.
—dau. Narendrnath pandey

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products