BackBack

Jugalbandi

Giriraj Kishore

Rs. 700

‘जुगलबन्दी’ उन द्वन्द्वात्मक स्थितियों की अभिव्यक्ति है जिनमें आज़ादी के तेवर हैं तो ग़ुलामी की मानसिकता भी। दूसरे विश्वयुद्ध से लेकर आज़ादी मिलने तक का समय जुगलबन्दी में सिमटा हुआ है। यह समय अजीब था...इसे न तो ग़ुलामी कहा जा सकता है और न आज़ादी। इसी गाथा की महाकाव्यात्मक परिणति... Read More

HardboundHardbound
Description

‘जुगलबन्दी’ उन द्वन्द्वात्मक स्थितियों की अभिव्यक्ति है जिनमें आज़ादी के तेवर हैं तो ग़ुलामी की मानसिकता भी। दूसरे विश्वयुद्ध से लेकर आज़ादी मिलने तक का समय जुगलबन्दी में सिमटा हुआ है। यह समय अजीब था...इसे न तो ग़ुलामी कहा जा सकता है और न आज़ादी। इसी गाथा की महाकाव्यात्मक परिणति है ‘जुगलबन्दी’।
इस उपन्यास में यह तथ्य उभरकर आया है कि रचनात्मक रूप में जो लोग क्रान्ति से जुड़े थे वे कुंठा-मुक्त नहीं थे और जिन्होंने ब्रिटिश शासन के दौरान उस व्यवस्था में अपना स्थान बना लिया था वे भी स्वयं को कुंठाग्रस्त पा रहे थे। ‘जुगलबन्दी’ में लेखक ने इसका हृदयस्पर्शी चित्रण करते हुए बहुत सजगता के साथ रेखांकित किया है कि इस द्वन्द्वात्मक स्थिति में एक तीसरी जमात भी थी जो न तो क्रान्ति में शामिल थी और न शासन में उसका कोई स्थान था। वह उस पूरे संघर्ष के दबाव को अपने शरीर और आँतों पर झेल रही थी।
टूटने और बनने की इस प्रक्रिया को ‘जुगलबन्दी’ में व्यापक कैनवस मिला है जिस पर उस पूरे युग का प्रतिबिम्बन है—आज की भाषा और आज के मुहावरों के साथ, मुग्धकारी और हृदयस्पर्शी। ‘jugalbandi’ un dvandvatmak sthitiyon ki abhivyakti hai jinmen aazadi ke tevar hain to gulami ki manasikta bhi. Dusre vishvyuddh se lekar aazadi milne tak ka samay jugalbandi mein simta hua hai. Ye samay ajib tha. . . Ise na to gulami kaha ja sakta hai aur na aazadi. Isi gatha ki mahakavyatmak parinati hai ‘jugalbandi’. Is upanyas mein ye tathya ubharkar aaya hai ki rachnatmak rup mein jo log kranti se jude the ve kuntha-mukt nahin the aur jinhonne british shasan ke dauran us vyvastha mein apna sthan bana liya tha ve bhi svayan ko kunthagrast pa rahe the. ‘jugalbandi’ mein lekhak ne iska hridyasparshi chitran karte hue bahut sajagta ke saath rekhankit kiya hai ki is dvandvatmak sthiti mein ek tisri jamat bhi thi jo na to kranti mein shamil thi aur na shasan mein uska koi sthan tha. Vah us pure sangharsh ke dabav ko apne sharir aur aanton par jhel rahi thi.
Tutne aur banne ki is prakriya ko ‘jugalbandi’ mein vyapak kainvas mila hai jis par us pure yug ka pratibimban hai—aj ki bhasha aur aaj ke muhavron ke saath, mugdhkari aur hridyasparshi.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126708062
Pages 360p
Publishing Year

Jugalbandi

‘जुगलबन्दी’ उन द्वन्द्वात्मक स्थितियों की अभिव्यक्ति है जिनमें आज़ादी के तेवर हैं तो ग़ुलामी की मानसिकता भी। दूसरे विश्वयुद्ध से लेकर आज़ादी मिलने तक का समय जुगलबन्दी में सिमटा हुआ है। यह समय अजीब था...इसे न तो ग़ुलामी कहा जा सकता है और न आज़ादी। इसी गाथा की महाकाव्यात्मक परिणति है ‘जुगलबन्दी’।
इस उपन्यास में यह तथ्य उभरकर आया है कि रचनात्मक रूप में जो लोग क्रान्ति से जुड़े थे वे कुंठा-मुक्त नहीं थे और जिन्होंने ब्रिटिश शासन के दौरान उस व्यवस्था में अपना स्थान बना लिया था वे भी स्वयं को कुंठाग्रस्त पा रहे थे। ‘जुगलबन्दी’ में लेखक ने इसका हृदयस्पर्शी चित्रण करते हुए बहुत सजगता के साथ रेखांकित किया है कि इस द्वन्द्वात्मक स्थिति में एक तीसरी जमात भी थी जो न तो क्रान्ति में शामिल थी और न शासन में उसका कोई स्थान था। वह उस पूरे संघर्ष के दबाव को अपने शरीर और आँतों पर झेल रही थी।
टूटने और बनने की इस प्रक्रिया को ‘जुगलबन्दी’ में व्यापक कैनवस मिला है जिस पर उस पूरे युग का प्रतिबिम्बन है—आज की भाषा और आज के मुहावरों के साथ, मुग्धकारी और हृदयस्पर्शी। ‘jugalbandi’ un dvandvatmak sthitiyon ki abhivyakti hai jinmen aazadi ke tevar hain to gulami ki manasikta bhi. Dusre vishvyuddh se lekar aazadi milne tak ka samay jugalbandi mein simta hua hai. Ye samay ajib tha. . . Ise na to gulami kaha ja sakta hai aur na aazadi. Isi gatha ki mahakavyatmak parinati hai ‘jugalbandi’. Is upanyas mein ye tathya ubharkar aaya hai ki rachnatmak rup mein jo log kranti se jude the ve kuntha-mukt nahin the aur jinhonne british shasan ke dauran us vyvastha mein apna sthan bana liya tha ve bhi svayan ko kunthagrast pa rahe the. ‘jugalbandi’ mein lekhak ne iska hridyasparshi chitran karte hue bahut sajagta ke saath rekhankit kiya hai ki is dvandvatmak sthiti mein ek tisri jamat bhi thi jo na to kranti mein shamil thi aur na shasan mein uska koi sthan tha. Vah us pure sangharsh ke dabav ko apne sharir aur aanton par jhel rahi thi.
Tutne aur banne ki is prakriya ko ‘jugalbandi’ mein vyapak kainvas mila hai jis par us pure yug ka pratibimban hai—aj ki bhasha aur aaj ke muhavron ke saath, mugdhkari aur hridyasparshi.