Look Inside
Joothan-2
Joothan-2

Joothan-2

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Joothan-2

Joothan-2

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जूठन’ ओमप्रकाश वाल्मीकि की आत्मकथा है। इसका पहला भाग बरसों पहले प्रकाशित होकर, आज हिन्दी दलित साहित्य और खासकर आत्मकथाओं की शृंखला में एक विशेष स्थान प्राप्त कर चुका है। वाल्मीकि जी अब हमारे बीच नहीं हैं, अपने जीवन-काल में उन्होंने 'जूठन’ के बाद साहित्य, समाज और संवेदना के दायरों में एक लम्बी यात्रा पूरी की। कई कथात्मक और आलोचनात्मक कृतियों के साथ उनके काव्य-संग्रह भी आए। 'जूठन’ का यह दूसरा भाग उनके उसी दौर का आख्यान है। आत्मकथा के इस दूसरे भाग की शुरुआत उन्होंने देहरादून की आर्डिनेंस फैक्ट्री में अपनी नियुक्ति से की है। नई जगह पर अपनी पहचान को लेकर आई समस्याओं के साथ-साथ यहाँ मजदूरों के साथ जुड़ी अपनी गतिविधियों का जिक्र करते हुए उन्होंने अपनी साहित्यिक सक्रियता का भी विस्तार से उल्लेख किया है। सहज, प्रवाहपूर्ण और आत्मीय भाषा में लिखी गई यह पुस्तक देहरादून से जबलपुर और वहाँ से पुन: देहरादून की यात्रा करती हुई शिमला उच्च अध्ययन संस्थान और फिर उनके अस्वस्थ होने तक जाती है। दलित साहित्य के वर्तमान परिदृश्य में 'जूठन’ के इस दूसरे भाग को पढ़ना एक अलग अनुभव है। Juthan’ omaprkash valmiki ki aatmaktha hai. Iska pahla bhag barson pahle prkashit hokar, aaj hindi dalit sahitya aur khaskar aatmakthaon ki shrinkhla mein ek vishesh sthan prapt kar chuka hai. Valmiki ji ab hamare bich nahin hain, apne jivan-kal mein unhonne juthan’ ke baad sahitya, samaj aur sanvedna ke dayron mein ek lambi yatra puri ki. Kai kathatmak aur aalochnatmak kritiyon ke saath unke kavya-sangrah bhi aae. Juthan’ ka ye dusra bhag unke usi daur ka aakhyan hai. Aatmaktha ke is dusre bhag ki shuruat unhonne dehradun ki aardinens phaiktri mein apni niyukti se ki hai. Nai jagah par apni pahchan ko lekar aai samasyaon ke sath-sath yahan majduron ke saath judi apni gatividhiyon ka jikr karte hue unhonne apni sahityik sakriyta ka bhi vistar se ullekh kiya hai. Sahaj, prvahpurn aur aatmiy bhasha mein likhi gai ye pustak dehradun se jabalpur aur vahan se pun: dehradun ki yatra karti hui shimla uchch adhyyan sansthan aur phir unke asvasth hone tak jati hai. Dalit sahitya ke vartman paridrishya mein juthan’ ke is dusre bhag ko padhna ek alag anubhav hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products