BackBack
-11%

Joothan-1

Rs. 199 Rs. 177

आज़ादी के पाँच दशक पूरे होने और आधुनिकता के तमाम आयातित अथवा मौलिक रूपों को भीतर तक आत्मसात् कर चुकने के बावजूद आज भी हम कहीं-न-कहीं सवर्ण और अवर्ण के दायरों में बँटे हुए हैं। सिद्धान्तों और किताबी बहसों से बाहर, जीवन में हमें आज भी अनेक उदाहरण मिल जाएँगे,... Read More

BlackBlack
Description

आज़ादी के पाँच दशक पूरे होने और आधुनिकता के तमाम आयातित अथवा मौलिक रूपों को भीतर तक आत्मसात् कर चुकने के बावजूद आज भी हम कहीं-न-कहीं सवर्ण और अवर्ण के दायरों में बँटे हुए हैं। सिद्धान्तों और किताबी बहसों से बाहर, जीवन में हमें आज भी अनेक उदाहरण मिल जाएँगे, जिनमें हमारी जाति और वर्णगत असहिष्णुता स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है। ‘जूठन' ऐसे ही उदाहरणों की श्रृंखला है जिन्हें एक दलित व्यक्ति ने अपनी पूरी संवेदनशीलता के साथ ख़ुद भोगा है।
इस आत्मकथा में लेखक ने स्वाभाविक ही अपने उस 'आत्म' की तलाश करने की कोशिश की है जिसे भारत का वर्ण-तंत्र सदियों से कुचलने का प्रयास करता रहा है, कभी परोक्ष रूप में, कभी प्रत्यक्षत:। इसलिए इस पुस्तक की पंक्तियों में पीड़ा भी है, असहायता भी है, आक्रोश और क्रोध भी और अपने आपको आदमी का दर्जा दिए जाने की सहज मानवीय इच्छा भी। Aazadi ke panch dashak pure hone aur aadhunikta ke tamam aayatit athva maulik rupon ko bhitar tak aatmsat kar chukne ke bavjud aaj bhi hum kahin-na-kahin savarn aur avarn ke dayron mein bante hue hain. Siddhanton aur kitabi bahson se bahar, jivan mein hamein aaj bhi anek udahran mil jayenge, jinmen hamari jati aur varngat ashishnuta spasht drishtigochar hoti hai. ‘juthan aise hi udaharnon ki shrrinkhla hai jinhen ek dalit vyakti ne apni puri sanvedanshilta ke saath khud bhoga hai. Is aatmaktha mein lekhak ne svabhavik hi apne us atm ki talash karne ki koshish ki hai jise bharat ka varn-tantr sadiyon se kuchalne ka pryas karta raha hai, kabhi paroksh rup mein, kabhi pratyakshat:. Isaliye is pustak ki panktiyon mein pida bhi hai, ashayta bhi hai, aakrosh aur krodh bhi aur apne aapko aadmi ka darja diye jane ki sahaj manviy ichchha bhi.