Jati Hi Puchho Sadhu ki

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Jati Hi Puchho Sadhu ki

Jati Hi Puchho Sadhu ki

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जीवन के स्याह पक्षों को निर्मम पर्यवेक्षण से उजागर करने के लिए प्रसिद्ध रहे विजय तेन्दुलकर का यह नाटक समकालीन सामाजिक विद्रूप को थोड़ा व्यंग्यात्मक नज़रिए से खोलता है।
एम.ए. की डिग्री से लैस होकर महीपत नौकरी की जिस खोज-यात्रा से गुज़रता है, वह शिक्षा की वर्तमान दशा, समाज के विभिन्न शैक्षिक स्तरों के परस्पर संघर्ष और स्थानीय स्तर पर सत्ता के विभिन्न केन्द्रों के टकराव की अनेक परतों को खोलती जाती है।
इस नाटक को पढ़ते-देखते हुए हमें स्वातंत्र्योत्तर भारत की कई ऐसी छवियों का साक्षात्कार होता है जो धीरे-धीरे हमारे सामाजिक और व्यक्तिगत जीवन का हिस्सा हो चुकी हैं। वे हमें स्वीकार्य लगती हैं लेकिन उन्हीं के चलते धीरे-धीरे हमारा सामूहिक चरित्र खोखला होता जा रहा है।
अपने दो-टूकपन, सामाजिक सरोकार और व्यंग्य की तीव्रता के कारण अनेक निर्देशकों, अभिनेताओं और असंख्य दर्शकों की पसन्द रहे इस नाटक के दिल्ली में ही शताधिक मंचन हो चुके हैं। मूल मराठी से वसन्त देव द्वारा किए गए इस अनुवाद की गुणवत्ता तो इसी तथ्य से साबित हो जाती है कि पुस्तक रूप में इस नाटक के पाठ और मंच पर उसके प्रदर्शन में कोई बिन्दु ऐसा नहीं आता, जहाँ हिन्दी पाठक किसी अभिव्यक्ति या व्यंजना को अपने लिए अपरिचित महसूस करता हो। Jivan ke syah pakshon ko nirmam paryvekshan se ujagar karne ke liye prsiddh rahe vijay tendulkar ka ye natak samkalin samajik vidrup ko thoda vyangyatmak nazariye se kholta hai. Em. e. Ki digri se lais hokar mahipat naukri ki jis khoj-yatra se guzarta hai, vah shiksha ki vartman dasha, samaj ke vibhinn shaikshik stron ke paraspar sangharsh aur sthaniy star par satta ke vibhinn kendron ke takrav ki anek parton ko kholti jati hai.
Is natak ko padhte-dekhte hue hamein svatantryottar bharat ki kai aisi chhaviyon ka sakshatkar hota hai jo dhire-dhire hamare samajik aur vyaktigat jivan ka hissa ho chuki hain. Ve hamein svikarya lagti hain lekin unhin ke chalte dhire-dhire hamara samuhik charitr khokhla hota ja raha hai.
Apne do-tukpan, samajik sarokar aur vyangya ki tivrta ke karan anek nirdeshkon, abhinetaon aur asankhya darshkon ki pasand rahe is natak ke dilli mein hi shatadhik manchan ho chuke hain. Mul marathi se vasant dev dvara kiye ge is anuvad ki gunvatta to isi tathya se sabit ho jati hai ki pustak rup mein is natak ke path aur manch par uske prdarshan mein koi bindu aisa nahin aata, jahan hindi pathak kisi abhivyakti ya vyanjna ko apne liye aparichit mahsus karta ho.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products