Jas Ka Phool

Regular price Rs. 557
Sale price Rs. 557 Regular price Rs. 599
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Jas Ka Phool

Jas Ka Phool

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रकट में तो यह उपन्यास एक हिन्दू लड़के और मुस्लिम लड़की की प्रेम कहानी है, जिसकी छोटे शहर से चलकर बड़े शहर तक की यात्रा रोमांच, रोमांस और इनके बीच जीवन-यथार्थ के अच्छे-बुरे और कड़वे-मीठे अनुभवों से गुज़रती है। अनचाहे, अनजाने ही ऐसी स्थिति बनती है कि नायक, वह हिन्दू लड़का दोस्तों के बीच शाहरुख़ और मुस्लिम लड़की यानी नायिका, काजोल के नाम से पुकारे जाने लगते हैं। यह एक आम घटना है जो अक्सर कहीं भी घटित होती है। प्रेम प्राय: असफलता से नालबद्ध है। अक्सर ऐसे प्रेम की परिणति हताशा की राह चलकर शराबख़ाने से होती हुई ‘देवदासीय मृत्यु’ है। लेकिन इस उपन्यास में प्रेम उस शक्तिपुंज की भाँति अदृश्य रूप से मौजूद है जो एक अर्द्धशिक्षित लड़के को फ़‍िल्मों जैसी आभासी दुनिया से बाहर लाकर तमाम हताशा, कुंठा और अभावों के बावजूद उसके भीतर के करुण मनुष्य को पूरी मानवीय मार्मिकता के साथ सुरक्षित रखता है। नायक शाहरुख़ प्रेम की उस तरल उपस्थिति के कारण ही अपनी विपरीत परिस्थितियों से प्रतिरोध की शक्ति हासिल करता है।
इसी के साथ उपन्यास में उसके वे तमाम दोस्त हैं जो हिन्दू-मुस्लिम होते हुए, और अपनी अशिक्षा के बावजूद, अपनी ज़रूरी मनुष्यता के साथ अपने अबोध मन की मार्मिक सांगिकता लिए मित्रता के लम्बे और अटूट रिश्तों से वचनबद्ध हैं। बाज़ार का क्रूर आगमन और भूमंडलीकरण द्वारा तेज़ी से बदलता समय समाज और रिश्तों को कैसे और कितनी तेज़ी से प्रभावित कर रहा है, इससे वे अनभिज्ञ हैं। यह भी हमारे समय का एक भयावह सच है, जो इस उपन्यास में कथ्यात्मक ज़रूरत के साथ मौजूद है।
पाठकों को यह दिलचस्प लगेगा कि इन पात्रों की उपस्थिति और अबोध जिज्ञासाएँ अपनी मासूमियत में एक ऐसा रोचक संसार भी रचती हैं जिसकी जटिलता से वे अनजान हैं। इस उपन्यास में व्यंग्य की एक समानान्‍तर धारा पात्रों की ‘मौलिक धज’ को प्रकट करने के कारण ज़रूरी थी, लेकिन वह सहज ही रोचक भी लगेगी। बहरहाल उक्त सामाजिक दबावों और विसंगतियों के अतिरिक्त यह उपन्यास प्रेम, अलगाव और नायक की ज़‍िन्‍दगी में आए अनचाहे सेक्स अनुभवों को भी रोचक भाषा के साथ प्रस्तुत करता है। Prkat mein to ye upanyas ek hindu ladke aur muslim ladki ki prem kahani hai, jiski chhote shahar se chalkar bade shahar tak ki yatra romanch, romans aur inke bich jivan-yatharth ke achchhe-bure aur kadve-mithe anubhvon se guzarti hai. Anchahe, anjane hi aisi sthiti banti hai ki nayak, vah hindu ladka doston ke bich shahrukh aur muslim ladki yani nayika, kajol ke naam se pukare jane lagte hain. Ye ek aam ghatna hai jo aksar kahin bhi ghatit hoti hai. Prem pray: asaphalta se nalbaddh hai. Aksar aise prem ki parinati hatasha ki raah chalkar sharabkhane se hoti hui ‘devdasiy mrityu’ hai. Lekin is upanyas mein prem us shaktipunj ki bhanti adrishya rup se maujud hai jo ek arddhshikshit ladke ko fa‍ilmon jaisi aabhasi duniya se bahar lakar tamam hatasha, kuntha aur abhavon ke bavjud uske bhitar ke karun manushya ko puri manviy marmikta ke saath surakshit rakhta hai. Nayak shahrukh prem ki us taral upasthiti ke karan hi apni viprit paristhitiyon se pratirodh ki shakti hasil karta hai. Isi ke saath upanyas mein uske ve tamam dost hain jo hindu-muslim hote hue, aur apni ashiksha ke bavjud, apni zaruri manushyta ke saath apne abodh man ki marmik sangikta liye mitrta ke lambe aur atut rishton se vachanbaddh hain. Bazar ka krur aagman aur bhumandlikran dvara tezi se badalta samay samaj aur rishton ko kaise aur kitni tezi se prbhavit kar raha hai, isse ve anbhigya hain. Ye bhi hamare samay ka ek bhayavah sach hai, jo is upanyas mein kathyatmak zarurat ke saath maujud hai.
Pathkon ko ye dilchasp lagega ki in patron ki upasthiti aur abodh jigyasayen apni masumiyat mein ek aisa rochak sansar bhi rachti hain jiski jatilta se ve anjan hain. Is upanyas mein vyangya ki ek samanan‍tar dhara patron ki ‘maulik dhaj’ ko prkat karne ke karan zaruri thi, lekin vah sahaj hi rochak bhi lagegi. Baharhal ukt samajik dabavon aur visangatiyon ke atirikt ye upanyas prem, algav aur nayak ki za‍in‍dagi mein aae anchahe seks anubhvon ko bhi rochak bhasha ke saath prastut karta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products