BackBack
-11%

Janwar Aur Unka Bhojan

Rs. 200 Rs. 178

पेड़-पौधों को खाकर जीनेवाले जानवर कौन-से होते हैं? कीड़े-मकोड़े हमारे लिए क्या करते हैं? अलग-अलग जानवरों के दाँत, पैर आदि किस तरह अलग-अलग होते हैं। मौसमों के अनुसार हमें कौन से पक्षी, कीड़े आदि दिखाई देते हैं? और इसी तरह के ढेरों प्रश्नों के जवाब बच्चे चित्रों की सहायता से... Read More

BlackBlack
Description

पेड़-पौधों को खाकर जीनेवाले जानवर कौन-से होते हैं? कीड़े-मकोड़े हमारे लिए क्या करते हैं? अलग-अलग जानवरों के दाँत, पैर आदि किस तरह अलग-अलग होते हैं। मौसमों के अनुसार हमें कौन से पक्षी, कीड़े आदि दिखाई देते हैं? और इसी तरह के ढेरों प्रश्नों के जवाब बच्चे चित्रों की सहायता से इस पुस्तक में पाएँगे।
पानी के प्राणियों के साथ पानी और उसके विभिन्न रूपों पर भी एक अध्याय है, और पृथ्वी के विषय में जानकारी देनेवाली कुछ सामग्री भी इस पुस्तक में रखी गई है।
इस पुस्तक का उद्देश्य स्कूली छात्रों को अपने आसपास के परिवेश के विषय में वैज्ञानिक जानकारी देना है। सरल प्रयोगों, प्रश्न-अभ्यासों और ‘स्वयं करके देखो’ जैसी प्रविधियों से प्रयास किया गया है कि यह ज्ञान बच्चों की सोच का हिस्सा बन जाए; और वे आगे चलकर विज्ञान सम्मत सोच को अपने जीवन का हिस्सा बना सकें। Ped-paudhon ko khakar jinevale janvar kaun-se hote hain? kide-makode hamare liye kya karte hain? alag-alag janavron ke dant, pair aadi kis tarah alag-alag hote hain. Mausmon ke anusar hamein kaun se pakshi, kide aadi dikhai dete hain? aur isi tarah ke dheron prashnon ke javab bachche chitron ki sahayta se is pustak mein payenge. Pani ke praniyon ke saath pani aur uske vibhinn rupon par bhi ek adhyay hai, aur prithvi ke vishay mein jankari denevali kuchh samagri bhi is pustak mein rakhi gai hai.
Is pustak ka uddeshya skuli chhatron ko apne aaspas ke parivesh ke vishay mein vaigyanik jankari dena hai. Saral pryogon, prashn-abhyason aur ‘svayan karke dekho’ jaisi pravidhiyon se pryas kiya gaya hai ki ye gyan bachchon ki soch ka hissa ban jaye; aur ve aage chalkar vigyan sammat soch ko apne jivan ka hissa bana saken.