BackBack
-11%

Janjatiye Mithak : Udiya Aadivasiyon Ki Kahaniyan

Rs. 850 Rs. 757

यह पुस्तक हमें ओड़िया की जनजातियों की लगभग एक हज़ार लोककथाओं से परिचित कराती है। इसमें भतरा, बिंझवार, गदबा, गोंड और मुरिया, झोरिया और पेंगू, जुआंग, कमार, कोंड, परेंगा, साँवरा आदि की लोककथाओं को संगृहीत किया गया है। इन कहानियों के माध्यम से आदिवासियों के जीवन को सही परिप्रेक्ष्य में... Read More

Description

यह पुस्तक हमें ओड़िया की जनजातियों की लगभग एक हज़ार लोककथाओं से परिचित कराती है। इसमें भतरा, बिंझवार, गदबा, गोंड और मुरिया, झोरिया और पेंगू, जुआंग, कमार, कोंड, परेंगा, साँवरा आदि की लोककथाओं को संगृहीत किया गया है।
इन कहानियों के माध्यम से आदिवासियों के जीवन को सही परिप्रेक्ष्य में देखा-परखा जा सकता है। इन जनजातियों में आपस में अनेक समानताएँ हैं। उनकी दैनन्दिन जीवन-शैली, उनकी अर्थव्यवस्था, उनके सामाजिक संगठन, यहाँ तक कि उनके विश्वासों और आचार-व्यवहार में भी समानता पाई जाती है। जहाँ भी उनमें विभिन्नताएँ हैं, वह जातीय वैशिष्ट्य के कारण नहीं, वरन् परिवेश, शिक्षा और हिन्दू प्रभाव के फलस्वरूप आई हैं। तुलनात्मक दृष्टि से एक आदिम कोंड एक आदिम दिदयि से अधिक समानता रखता है बजाय उत्तर-पश्चिम पर्वतीय क्षेत्र के किसी कोंड के जो रसेलकोंडा मैदानी क्षेत्र के कोंड के अधिक समीप लगता है।
इन रोचक कहानियों का क्रमवार व विषयवार संयोजन किया गया है, ताकि पाठक की तारतम्यता बनी रहे। सदियों से दबे आदिवासियों की ये कहानियाँ जहाँ सामान्य पाठक के लिए ज्ञानवर्द्धक हैं, वहीं शोधकर्त्ताओं को शोध के लिए एक नई ज़मीन भी मुहैया कराती हैं। Ye pustak hamein odiya ki janjatiyon ki lagbhag ek hazar lokakthaon se parichit karati hai. Ismen bhatra, binjhvar, gadba, gond aur muriya, jhoriya aur pengu, juang, kamar, kond, parenga, sanvara aadi ki lokakthaon ko sangrihit kiya gaya hai. In kahaniyon ke madhyam se aadivasiyon ke jivan ko sahi pariprekshya mein dekha-parkha ja sakta hai. In janjatiyon mein aapas mein anek samantayen hain. Unki dainandin jivan-shaili, unki arthavyvastha, unke samajik sangthan, yahan tak ki unke vishvason aur aachar-vyavhar mein bhi samanta pai jati hai. Jahan bhi unmen vibhinntayen hain, vah jatiy vaishishtya ke karan nahin, varan parivesh, shiksha aur hindu prbhav ke phalasvrup aai hain. Tulnatmak drishti se ek aadim kond ek aadim didayi se adhik samanta rakhta hai bajay uttar-pashchim parvtiy kshetr ke kisi kond ke jo raselkonda maidani kshetr ke kond ke adhik samip lagta hai.
In rochak kahaniyon ka kramvar va vishayvar sanyojan kiya gaya hai, taki pathak ki tartamyta bani rahe. Sadiyon se dabe aadivasiyon ki ye kahaniyan jahan samanya pathak ke liye gyanvarddhak hain, vahin shodhkarttaon ko shodh ke liye ek nai zamin bhi muhaiya karati hain.