BackBack
-11%

Isi hawa Mein Apni Bhi Do Chaar Sans Hai

Rs. 200 Rs. 178

जनजीवन के दैनिक प्रसंगों में शामिल होने का दावा करनेवाले, लेकिन हक़ीक़त में अभिजात काव्याभिरुचि की प्रतिष्ठा के लिए फ़िक्रमन्द, तमाम रूप-विकल कवियों में लगभग विजातीय की तरह दिखनेवाले अष्टभुजा शुक्ल की कविता का यथार्थ दरअसल भारतीय समाज के उस छोर का यथार्थ है, जिस पर ‘बाज़ार’ की नज़र तो... Read More

Description

जनजीवन के दैनिक प्रसंगों में शामिल होने का दावा करनेवाले, लेकिन हक़ीक़त में अभिजात काव्याभिरुचि की प्रतिष्ठा के लिए फ़िक्रमन्द, तमाम रूप-विकल कवियों में लगभग विजातीय की तरह दिखनेवाले अष्टभुजा शुक्ल की कविता का यथार्थ दरअसल भारतीय समाज के उस छोर का यथार्थ है, जिस पर ‘बाज़ार’ की नज़र तो है, लेकिन जो बाज़ार की वस्तु बन चुकने के अभिशाप से अभी बचा हुआ है। कह सकते हैं कि अष्टभुजा शुक्ल की कविता इसी ‘बचे हुए’ के ‘बचे होने’ के सत्यों और सत्त्वों के साथ साग्रह खड़े होने के साहस की कविता है। अष्टभुजा का यह साहस किसी विचार, विचारधारा या विमर्श के अकादमिक शोर में शामिल कवियों वाला साहस नहीं है। यह उस कवि का साहस है जो सचमुच ही खेती करते हुए—‘हाथा मारना’ जैसी कविता, यानी उत्पादन-प्रक्रिया में हिस्सेदारी करते हुए निजी तौर पर हासिल सजीव जीवन-बोध की कविताएँ लिखता है। न केवल लिखता है, बल्कि कविता और खेत के बीच लगातार बढ़ती हुई दूरी को मिटाकर अपने हस्तक्षेप से अन्योन्याश्रित बना डालता है। कविता में चौतरफ़ा व्याप्त मध्यवर्गीयताओं से बेपरवाह रहते हुए वह यह दावा करना भी नहीं भूलता कि जो खेत में लिख सकता है, वही काग़ज़ पर भी लिख सकता है।
मैं काग़ज़ पर उतना अच्छा नहीं लिख पाता
इसलिए खेत में लिख रहा था
यानी हाथा मार रहा था।
खेत में अच्छा और काग़ज़ पर ख़राब लिखने की आत्म-स्वीकृति उसी कवि के यहाँ सम्भव है जो कविता करने के मुक़ाबले किसानी करने को बड़ा मूल्य मानता हो यानी जो कविता का किसान बनने के लिए तैयार हो। यह किसी अकादमी, संस्थान या सभा-समारोह के मंच से किसी कवि द्वारा किया गया दावा नहीं, बल्कि खेत में खट रहे एक कवि का हलफ़िया बयान है। यही वजह है कि उसकी कविताओं में जहाँ-तहाँ बिखरी हुई तमाम घोषणाएँ, मसलन यह कि—मैं ऐसी कविताएँ लिखता हूँ/जो लौटकर कभी कवि के पास नहीं आतीं’, कहीं से दम्भप्रेरित या अविश्वसनीय नहीं लगतीं। कवि और कविता के सम्बन्धों की छानबीन करने की ज़रूरत की तरफ़ इशारा करती हुई इन कविताओं में छिपी हुई चुनौती पर आज की आलोचना को ग़ौर करना चाहिए। यों ही नहीं है कि भारतीय मानस के अनुभवों की विश्वसनीय अभिव्यक्ति का संकट झेल रही आज की कविता से निराश पाठकों के एक बड़े हिस्से को, चमकीली चिन्ताओं से सजी-धजी कविताओं की तुलना में अष्टभुजा की कविता का धूसर रंग कहीं अधिक आकर्षक नज़र आता है।
अष्टभुजा की कविता में मध्यवर्गीय निराशा और आत्मसंशय का लेश भी नहीं है। वहाँ तो साधनहीनताओं के बीच राह निकाल लेने का हठ और किसी चिनगारी की रोशनी के भरोसे घुप अँधेरी यात्राओं में निकल पड़ने का अदम्य साहस है। अष्टभुजा की कविता उस मनुष्य की खोज करती हुई कविता है जिसके ‘हिस्से का आकाश बहुत छोटा है’, लेकिन जो अपने छोटे से आकाश में ही ‘अपना तारामंडल’ बनाना चाहता है। उसकी कविता में ‘ग्यारहवीं की छात्रा’ इतना तेज़ साइकिल चलाती है कि समय उससे पीछे छूट जाता है और 12वें किलोमीटर पर पहुँचकर, 11वें किलोमीटर पर पीछे छूट गए समय का उसे इन्तज़ार करना पड़ता है।
अष्टभुजा की कविताओं में बाज़ार के विरोध का उद्घोष नहीं है। उसके समर्थन का तो कोई प्रश्न ही नहीं। मगर वहाँ विमर्शों की तमाम वैश्विक त्रासदियाँ अपने एकदम प्रकृत स्वर में अपनी गाथा पढ़ती हुई सुनाई देती हैं। ‘पुरोहित की गाय’ उनकी कविता में आकर सारी कथित मर्यादाओं के विरुद्ध विद्रोह पर उतारू ‘दलित-काम’ स्त्री का प्रतिरूप बन जाती है। ‘मशरूम वल्द कुकुरमुत्ता’ और ‘हलन्त’ जैसी कविताओं के बहाने जिस तरह भारतीय सांस्कृतिक जीवन-प्रतीकों में दलित जीवन की विडम्बनाओं को पकड़ने की कोशिश की गई है, वह काग़ज़ पर कविता लिखनेवाले कवियों के लिए क़तई कठिन चुनौती है।
‘चैत के बादल’, ‘पद-कुपद’ और ‘दुःस्वप्न भी आते हैं’ के बाद, अष्टभुजा का यह संग्रह हिन्दी कविता में पहले से ही प्रतिष्ठित उनके काव्य-संवेदन को प्रौढ़ता की अगली मंज़िल प्रदान करता है।
हर वह पाठक, जो कविता में एक निर्बन्ध भाषा, बेलौस साफ़गोई और आत्मविश्वास की वापसी का इच्छुक है, अष्टभुजा का यह संग्रह बार-बार पढ़ना चाहेगा।
—कपिलदेव Janjivan ke dainik prsangon mein shamil hone ka dava karnevale, lekin haqiqat mein abhijat kavyabhiruchi ki pratishta ke liye fikrmand, tamam rup-vikal kaviyon mein lagbhag vijatiy ki tarah dikhnevale ashtabhuja shukl ki kavita ka yatharth darasal bhartiy samaj ke us chhor ka yatharth hai, jis par ‘bazar’ ki nazar to hai, lekin jo bazar ki vastu ban chukne ke abhishap se abhi bacha hua hai. Kah sakte hain ki ashtabhuja shukl ki kavita isi ‘bache hue’ ke ‘bache hone’ ke satyon aur sattvon ke saath sagrah khade hone ke sahas ki kavita hai. Ashtabhuja ka ye sahas kisi vichar, vichardhara ya vimarsh ke akadmik shor mein shamil kaviyon vala sahas nahin hai. Ye us kavi ka sahas hai jo sachmuch hi kheti karte hue—‘hatha marna’ jaisi kavita, yani utpadan-prakriya mein hissedari karte hue niji taur par hasil sajiv jivan-bodh ki kavitayen likhta hai. Na keval likhta hai, balki kavita aur khet ke bich lagatar badhti hui duri ko mitakar apne hastakshep se anyonyashrit bana dalta hai. Kavita mein chautarfa vyapt madhyvargiytaon se beparvah rahte hue vah ye dava karna bhi nahin bhulta ki jo khet mein likh sakta hai, vahi kagaz par bhi likh sakta hai. Main kagaz par utna achchha nahin likh pata
Isaliye khet mein likh raha tha
Yani hatha maar raha tha.
Khet mein achchha aur kagaz par kharab likhne ki aatm-svikriti usi kavi ke yahan sambhav hai jo kavita karne ke muqable kisani karne ko bada mulya manta ho yani jo kavita ka kisan banne ke liye taiyar ho. Ye kisi akadmi, sansthan ya sabha-samaroh ke manch se kisi kavi dvara kiya gaya dava nahin, balki khet mein khat rahe ek kavi ka halafiya bayan hai. Yahi vajah hai ki uski kavitaon mein jahan-tahan bikhri hui tamam ghoshnayen, maslan ye ki—main aisi kavitayen likhta hun/jo lautkar kabhi kavi ke paas nahin aatin’, kahin se dambhaprerit ya avishvasniy nahin lagtin. Kavi aur kavita ke sambandhon ki chhanbin karne ki zarurat ki taraf ishara karti hui in kavitaon mein chhipi hui chunauti par aaj ki aalochna ko gaur karna chahiye. Yon hi nahin hai ki bhartiy manas ke anubhvon ki vishvasniy abhivyakti ka sankat jhel rahi aaj ki kavita se nirash pathkon ke ek bade hisse ko, chamkili chintaon se saji-dhaji kavitaon ki tulna mein ashtabhuja ki kavita ka dhusar rang kahin adhik aakarshak nazar aata hai.
Ashtabhuja ki kavita mein madhyvargiy nirasha aur aatmsanshay ka lesh bhi nahin hai. Vahan to sadhanhintaon ke bich raah nikal lene ka hath aur kisi chingari ki roshni ke bharose ghup andheri yatraon mein nikal padne ka adamya sahas hai. Ashtabhuja ki kavita us manushya ki khoj karti hui kavita hai jiske ‘hisse ka aakash bahut chhota hai’, lekin jo apne chhote se aakash mein hi ‘apna taramandal’ banana chahta hai. Uski kavita mein ‘gyarahvin ki chhatra’ itna tez saikil chalati hai ki samay usse pichhe chhut jata hai aur 12ven kilomitar par pahunchakar, 11ven kilomitar par pichhe chhut ge samay ka use intzar karna padta hai.
Ashtabhuja ki kavitaon mein bazar ke virodh ka udghosh nahin hai. Uske samarthan ka to koi prashn hi nahin. Magar vahan vimarshon ki tamam vaishvik trasadiyan apne ekdam prkrit svar mein apni gatha padhti hui sunai deti hain. ‘purohit ki gay’ unki kavita mein aakar sari kathit maryadaon ke viruddh vidroh par utaru ‘dalit-kam’ stri ka pratirup ban jati hai. ‘mashrum vald kukurmutta’ aur ‘halant’ jaisi kavitaon ke bahane jis tarah bhartiy sanskritik jivan-prtikon mein dalit jivan ki vidambnaon ko pakadne ki koshish ki gai hai, vah kagaz par kavita likhnevale kaviyon ke liye qatii kathin chunauti hai.
‘chait ke badal’, ‘pad-kupad’ aur ‘duःsvapn bhi aate hain’ ke baad, ashtabhuja ka ye sangrah hindi kavita mein pahle se hi prtishthit unke kavya-sanvedan ko praudhta ki agli manzil prdan karta hai.
Har vah pathak, jo kavita mein ek nirbandh bhasha, belaus safgoi aur aatmvishvas ki vapsi ka ichchhuk hai, ashtabhuja ka ye sangrah bar-bar padhna chahega.
—kapildev