Is Shahar Mein Tumhen Yaad Kar

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Is Shahar Mein Tumhen Yaad Kar

Is Shahar Mein Tumhen Yaad Kar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस शहर में तुम्हें याद कर' संग्रह की कविताएँ इसी दुनिया में एक ऐसी धरती की कविताएँ हैं, जहाँ आसमान में जब काले बादल मँडराते हैं, धरती बिवाइयों की तरह फटती है और अपनी पीड़ा किसी से नहीं कह पाती; जहाँ कुछ लोग बाज और चील की तरह अपनी उड़ान में शामिल हैं और कुछ उन तोते-मैना की तरह हैं जिनके पंख काट दिए गए हैं; जहाँ दया और प्रेम की हत्याएँ होती हैं तो अपराधियों के अपराध की सज़ा एक निरपराध को भुगतना पड़ता है; जहाँ एक भागा हुआ आदमी भागकर भी कहीं नहीं भाग पाता, वापस वहीं आ जाता है अपनी ग़लती पुन: दुहराने; जहाँ बूट रौंदते हैं सड़कों को तो आह में बस पिघलने को अभिशप्त पर्वत देखते रह जाते हैं कि रात में श्रमिकों की ख़ुशियों को जलानेवाले ही दिन में संरक्षक हैं...। ऐस में कवि की यह अदम्य जिजीविषा ही है कि वह अपनी आग से सृजन की ही कामना करता है और कहता है—'...तुम्हारे कारावास से परे/जो जीवन है/नितान्त नवीन जीवन/वहीं से गुज़रने दो/कि मैं तुम्हारी ईश्वरीय दुनिया में/पुन: एक युग ईश्वरहीन होकर जी सकूँ!
इस संग्रह की कविताएँ अपनी पीठ पर अपना बोझ लेकर अपने पैरों से यात्रा करनेवाले कवि की कविताएँ हैं, जो अपने वितान-उद्देश्य में जितनी मनुष्यों की उतनी ही प्रकृति की हैं—सुख, दु:ख, संघर्ष और सौन्दर्य के साथ; अपनी बोली-बानी, संस्कृति और सभ्यता के साथ; बदलते समय में सत्ता और समाज के बीच निरन्तर प्रदूषित होते कारकों के साथ—इसीलिए ये कविताएँ अपने पाठक से मुखर होकर संवाद भी करती हैं।
प्रेम है, बिछुड़न है और उसकी यादें भी हैं जो कवि की अपनी ज़मीन की ऋतुओं और पर्वतों की तरह जीने की कला में शामिल हैं, और इस तरह जैसे थाह के आगे अथाह की अभिव्यक्ति हों; वह कैनवस हों जहाँ कहने-भूलने के सम्बन्धों की हार-जीत का कोई भी चित्र बनाना बेमानी है। ईश्वर है तो आध्यात्मिक चेतना के उस रूप में जिससे कुछ कहा जा सके, जिसका कुछ सुना जा सके। आँसुओं में मन की बातें देखने-समझने की ये कविताएँ जो अनूदित होने के बावजूद अपरिचित नहीं लगतीं—साथ जगते हुए जीने की कविताएँ हैं। Is shahar mein tumhein yaad kar sangrah ki kavitayen isi duniya mein ek aisi dharti ki kavitayen hain, jahan aasman mein jab kale badal mandrate hain, dharti bivaiyon ki tarah phatti hai aur apni pida kisi se nahin kah pati; jahan kuchh log baaj aur chil ki tarah apni udan mein shamil hain aur kuchh un tote-maina ki tarah hain jinke pankh kaat diye ge hain; jahan daya aur prem ki hatyayen hoti hain to apradhiyon ke apradh ki saza ek nirapradh ko bhugatna padta hai; jahan ek bhaga hua aadmi bhagkar bhi kahin nahin bhag pata, vapas vahin aa jata hai apni galti pun: duhrane; jahan but raundte hain sadkon ko to aah mein bas pighalne ko abhishapt parvat dekhte rah jate hain ki raat mein shramikon ki khushiyon ko jalanevale hi din mein sanrakshak hain. . . . Ais mein kavi ki ye adamya jijivisha hi hai ki vah apni aag se srijan ki hi kamna karta hai aur kahta hai—. . . Tumhare karavas se pare/jo jivan hai/nitant navin jivan/vahin se guzarne do/ki main tumhari iishvriy duniya men/pun: ek yug iishvarhin hokar ji sakun!Is sangrah ki kavitayen apni pith par apna bojh lekar apne pairon se yatra karnevale kavi ki kavitayen hain, jo apne vitan-uddeshya mein jitni manushyon ki utni hi prkriti ki hain—sukh, du:kha, sangharsh aur saundarya ke sath; apni boli-bani, sanskriti aur sabhyta ke sath; badalte samay mein satta aur samaj ke bich nirantar prdushit hote karkon ke sath—isiliye ye kavitayen apne pathak se mukhar hokar sanvad bhi karti hain.
Prem hai, bichhudan hai aur uski yaden bhi hain jo kavi ki apni zamin ki rituon aur parvton ki tarah jine ki kala mein shamil hain, aur is tarah jaise thah ke aage athah ki abhivyakti hon; vah kainvas hon jahan kahne-bhulne ke sambandhon ki har-jit ka koi bhi chitr banana bemani hai. Iishvar hai to aadhyatmik chetna ke us rup mein jisse kuchh kaha ja sake, jiska kuchh suna ja sake. Aansuon mein man ki baten dekhne-samajhne ki ye kavitayen jo anudit hone ke bavjud aparichit nahin lagtin—sath jagte hue jine ki kavitayen hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products