Look Inside
Ichchhayen
Ichchhayen

Ichchhayen

Regular price ₹ 279
Sale price ₹ 279 Regular price ₹ 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ichchhayen

Ichchhayen

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मैं कुमार अंबुज की कविताओं का तो प्रशंसक रहा हूँ लेकिन मुझे दूर-दूर तक यह ख़याल नहीं था कि वे कहानी की दुनिया में भी क़दम रखेंगे। क़दम भी ऐसा कि कहानी की परिभाषा ही बदल दी है। ये चित्रों में कही गई कहानियाँ हैं। एक कैमरे की आँख है जो एक-एक बारीक दृश्य को देखती है। भाषा अंबुज की इन कहानियों की सबसे बड़ी ताक़त है जो हर दृश्य की सूक्ष्म परतों को खोलती चली जाती है।
—नामवर सिंह
इन कहानियों की रेंज बहुत व्यापक है, प्राय: ही अपने समय, समाज और जीवन का बहुत कुछ घेरते हुए। छोटे-छोटे उदाहरण या ब्यौरों से कुमार अंबुज क़िस्सागोई की कला को जैसे एक नया आयाम देते हैं। इन्हीं छोटी-छोटी चीज़ों से वे समाज और राष्ट्र की बड़ी चिन्ता से जुड़ते हैं, यहीं से वे भूमंडलीकरण और बाज़ारवाद के बढ़ते संक्रमण के प्रतिवाद और प्रतिरोध के सूत्र उठाते हैं। ये प्रच्छन्न इच्छाएँ ही वस्तुत: एक दुनिया के प्रतिवाद के साथ दूसरी वैकल्पिक दुनिया का संकेत देती हैं। ये गहरे में जाकर मनुष्य को मानवीय बनाने और बने रहने के उद्यम के अंग हैं। कुमार अंबुज की ये कहानियाँ बार-बार पढ़े जाने को उकसाएँगी।
—मधुरेश
ये कहानियाँ हमारे जीवन के बेहद मामूली अनुभवों के बीच से असाधारणता का विरल तत्त्व खोजने का जो साहस दिखाती हैं, वह हिन्दी के सन्दर्भ में बेहद औचक और नया है। समूचे सामाजिक एवं बौद्धिक जीवन में जो ठहराव धीरे-धीरे घर कर रहा है, उसकी तह तक पहुँचने, उसे तोड़ने और उसका सर्जनात्मक विकल्प तैयार करने का महत्त्वपूर्ण काम ये कहानियाँ सहजता और बेहद सादगी के साथ करती हैं। यही इन विलक्षण कहानियों की सबसे बड़ी सफलता भी है।
—जितेन्द्र भाटिया Main kumar ambuj ki kavitaon ka to prshansak raha hun lekin mujhe dur-dur tak ye khayal nahin tha ki ve kahani ki duniya mein bhi qadam rakhenge. Qadam bhi aisa ki kahani ki paribhasha hi badal di hai. Ye chitron mein kahi gai kahaniyan hain. Ek kaimre ki aankh hai jo ek-ek barik drishya ko dekhti hai. Bhasha ambuj ki in kahaniyon ki sabse badi taqat hai jo har drishya ki sukshm parton ko kholti chali jati hai. —namvar sinh
In kahaniyon ki renj bahut vyapak hai, pray: hi apne samay, samaj aur jivan ka bahut kuchh gherte hue. Chhote-chhote udahran ya byauron se kumar ambuj qissagoi ki kala ko jaise ek naya aayam dete hain. Inhin chhoti-chhoti chizon se ve samaj aur rashtr ki badi chinta se judte hain, yahin se ve bhumandlikran aur bazarvad ke badhte sankrman ke prativad aur pratirodh ke sutr uthate hain. Ye prachchhann ichchhayen hi vastut: ek duniya ke prativad ke saath dusri vaikalpik duniya ka sanket deti hain. Ye gahre mein jakar manushya ko manviy banane aur bane rahne ke udyam ke ang hain. Kumar ambuj ki ye kahaniyan bar-bar padhe jane ko uksayengi.
—madhuresh
Ye kahaniyan hamare jivan ke behad mamuli anubhvon ke bich se asadharanta ka viral tattv khojne ka jo sahas dikhati hain, vah hindi ke sandarbh mein behad auchak aur naya hai. Samuche samajik evan bauddhik jivan mein jo thahrav dhire-dhire ghar kar raha hai, uski tah tak pahunchane, use todne aur uska sarjnatmak vikalp taiyar karne ka mahattvpurn kaam ye kahaniyan sahajta aur behad sadgi ke saath karti hain. Yahi in vilakshan kahaniyon ki sabse badi saphalta bhi hai.
—jitendr bhatiya

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products