BackBack
-11%

Hindutva Ka Mohini Mantra

Rs. 200 Rs. 178

भारत के वर्तमान सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य में दलित एक बड़ी चुनावी ताक़त के रूप में उभरकर आए हैं और लगभग सभी राजनीतिक दलों के लिए यह अनिवार्य हो गया है कि वे उन्हें अपने पाले में लाने की कोशिश करें। ‘हिन्दुत्व का मोहिनी मंत्र’ पुस्तक हिन्दुत्ववादी शक्तियों द्वारा दलितों को अपनी... Read More

BlackBlack
Description

भारत के वर्तमान सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य में दलित एक बड़ी चुनावी ताक़त के रूप में उभरकर आए हैं और लगभग सभी राजनीतिक दलों के लिए यह अनिवार्य हो गया है कि वे उन्हें अपने पाले में लाने की कोशिश करें।
‘हिन्दुत्व का मोहिनी मंत्र’ पुस्तक हिन्दुत्ववादी शक्तियों द्वारा दलितों को अपनी तरफ़ खींचने की मोहक रणनीतियों का विखंडन दिखाती है कि कैसे ये ताक़तें दलित जातियों के लोकप्रिय मिथकों, स्मृतियों और किंवदन्तियों को खोजकर उनकी हिन्दुत्ववादी व्याख्या करती हैं। उत्तर प्रदेश और बिहार में किए गए मौलिक शोध पर आधारित इस पुस्तक में बताया गया है कि दलित नायकों को मुस्लिम आक्रान्ताओं के विरुद्ध लडऩेवाले योद्धाओं के रूप में प्रस्तुत करते हुए हिन्दुत्ववादी शक्तियाँ उन्हें हिन्दू धर्म और संस्कृति के रक्षकों के रूप में पुनर्व्याख्यायित करती हैं, या फिर उन्हें राम का अवतार बताकर दलित मिथकों को एक बड़े और एकीकृत हिन्दू महावृत्तान्त से जोड़ने का प्रयास करती हैं। लेखक ने पुस्तक में उत्तर भारत के ग्रामीण समाज में ‘पॉपुलर’ की संरचना और उसमें पिरोए गए साम्प्रदायिक तत्त्वों को भी समझने की कोशिश की है। सबसे दिलचस्प तथ्य पुस्तक में यह निकलकर आता है कि दलितों के अतीत की हिन्दुत्ववादी पुनर्व्याख्या को दलित समुदाय एक शक्तिशाली पूँजी के रूप में लेते हैं जिसे वे एक तरफ़ ऊपरी जातियों में अपनी स्वीकार्यता बढ़ाने और दूसरी तरफ़ सवर्ण प्रभुत्व को क्षीण करने के लिए साथ-साथ इस्तेमाल करते हैं। इतिहास, राजनीति, नृतत्त्वशास्त्र और दलित अध्ययन में रुचि रखनेवाले छात्रों, शोधार्थियों और राजनीतिक कार्यकर्ताओं के लिए समान रूप से उपयोगी पुस्तक। Bharat ke vartman samajik-rajnitik paridrishya mein dalit ek badi chunavi taqat ke rup mein ubharkar aae hain aur lagbhag sabhi rajnitik dalon ke liye ye anivarya ho gaya hai ki ve unhen apne pale mein lane ki koshish karen. ‘hindutv ka mohini mantr’ pustak hindutvvadi shaktiyon dvara daliton ko apni taraf khinchne ki mohak rannitiyon ka vikhandan dikhati hai ki kaise ye taqten dalit jatiyon ke lokapriy mithkon, smritiyon aur kinvdantiyon ko khojkar unki hindutvvadi vyakhya karti hain. Uttar prdesh aur bihar mein kiye ge maulik shodh par aadharit is pustak mein bataya gaya hai ki dalit naykon ko muslim aakrantaon ke viruddh ladnevale yoddhaon ke rup mein prastut karte hue hindutvvadi shaktiyan unhen hindu dharm aur sanskriti ke rakshkon ke rup mein punarvyakhyayit karti hain, ya phir unhen raam ka avtar batakar dalit mithkon ko ek bade aur ekikrit hindu mahavrittant se jodne ka pryas karti hain. Lekhak ne pustak mein uttar bharat ke gramin samaj mein ‘paupular’ ki sanrachna aur usmen piroe ge samprdayik tattvon ko bhi samajhne ki koshish ki hai. Sabse dilchasp tathya pustak mein ye nikalkar aata hai ki daliton ke atit ki hindutvvadi punarvyakhya ko dalit samuday ek shaktishali punji ke rup mein lete hain jise ve ek taraf uupri jatiyon mein apni svikaryta badhane aur dusri taraf savarn prbhutv ko kshin karne ke liye sath-sath istemal karte hain. Itihas, rajniti, nritattvshastr aur dalit adhyyan mein ruchi rakhnevale chhatron, shodharthiyon aur rajnitik karykartaon ke liye saman rup se upyogi pustak.