BackBack
-11%

Hindi Ki Sahitiyak Sanskriti Aur Bhartiya Adhunikata

Rs. 400 Rs. 356

हिन्दी की आधुनिक संस्कृति का विकास भारतीय सभ्यता को एक आधुनिक औद्योगिक राष्ट्र में रूपान्तरित कर देने के वृहत् अभियान के हिस्से के रूप में हुआ। इस प्रक्रिया में गांधी जैसे चिन्तकों के विचारों की अनदेखी तो की ही गई, मार्क्स के चिन्तन को भी बहुत ही सपाट और यांत्रिक... Read More

Description

हिन्दी की आधुनिक संस्कृति का विकास भारतीय सभ्यता को एक आधुनिक औद्योगिक राष्ट्र में रूपान्तरित कर देने के वृहत् अभियान के हिस्से के रूप में हुआ। इस प्रक्रिया में गांधी जैसे चिन्तकों के विचारों की अनदेखी तो की ही गई, मार्क्स के चिन्तन को भी बहुत ही सपाट और यांत्रिक ढंग से समझने और लागू करने का प्रयास किया गया। यह पुस्तक गांधी और मार्क्स का एक नया भाष्य ही नहीं प्रस्तुत करती, बल्कि भारतीय आधुनिकता की विलक्षणताओं को भी रेखांकित करने का उपक्रम करती है। आधुनिकता की परियोजना के संकटग्रस्त हो जाने और उत्तर-आधुनिक-उत्तर-औपनिवेशिक चिन्तकों द्वारा उसकी विडम्बनाओं को उजागर कर दिए जाने के उपरान्त गांधी और मार्क्स का ग़ैर-पश्चिमी समाज के परिप्रेक्ष्य में पुनर्पाठ एक राजनीतिक और रणनीतिक ज़रूरत है। इस ज़रूरत का एहसास भारतीय और पश्चिमी समाज वैज्ञानिकों के लेखन में इन दिनों बहुत शिद्दत से उभरकर आ रहा है। विडम्बना ये है कि हिन्दी की दुनिया ने अभी भी इस प्रकार के चिन्तन को ज़्यादा तवज्जो नहीं दी है। इस दृष्टि से विचार करने पर आधुनिकता के साथ पूँजीवाद, उपनिवेशवाद, राष्ट्रवाद, विज्ञान, तर्कबुद्धि और लोकतंत्र का वैसा सम्बन्ध ग़ैर-पश्चिमी सभ्यताओं के साथ नहीं बनता है, जैसा पश्चिमी सभ्यताओं के साथ दिखाई पड़ता है। इस बात का एहसास गांधी को ही नहीं, हिन्दी नवजागरण के यशस्वी लेखक प्रेमचन्द को भी था। यह अकारण नहीं है कि प्रेमचन्द ने आधुनिकता से जुड़े हुए राष्ट्रवाद समेत सभी अनुषंगों की तीखी आलोचना की और उसके विकल्प के रूप में कृषक संस्कृति, देशज कौशल, शिक्षा और न्याय-व्यवस्था के महत्त्व पर ज़ोर दिया। देशज ज्ञान को महत्त्व देनेवाला व्यक्ति ज्ञान के स्रोत के रूप में सिर्फ़ अंग्रेज़ी के माहात्म्य को स्वीकार नहीं कर सकता था। इसलिए गांधी और प्रेमचन्द ने हिन्दी और भारतीय भाषाओं के उत्थान पर इतना ज़ोर दिया। लेकिन, हिन्दी की साहित्यिक संस्कृति के अधिकांश में, भारतीय भाषाओं की अस्मिता और उनके साहित्य का अध्ययन भी यूरोपीय राष्ट्रों के साहित्य के वज़न पर किया गया। आधुनिक साहित्यिक विधाओं का चुनाव और विकास भी बहुत कुछ पश्चिमी देशों के साहित्य के निकष पर हुआ। यह सब हुआ जातीय साहित्य और जातीय परम्परा का ढिंढोरा पीटने के बावजूद। यह पुस्तक साहित्य के इतिहास-अध्ययन की इस प्रवृत्ति और साहित्यिक विधाओं के विकास की सीमाओं और विडम्बनाओं को भी अपनी चिन्ता का विषय बनाती है और सही मायने में अपनी जातीय साहित्यिक-सांस्कृतिक परम्परा को एक उच्चतर सर्जनात्मक स्तर पर पुनराविष्कृत करने की विचारोत्तेजक पेशकश करती है।
—पुरुषोत्तम अग्रवाल Hindi ki aadhunik sanskriti ka vikas bhartiy sabhyta ko ek aadhunik audyogik rashtr mein rupantrit kar dene ke vrihat abhiyan ke hisse ke rup mein hua. Is prakriya mein gandhi jaise chintkon ke vicharon ki andekhi to ki hi gai, marks ke chintan ko bhi bahut hi sapat aur yantrik dhang se samajhne aur lagu karne ka pryas kiya gaya. Ye pustak gandhi aur marks ka ek naya bhashya hi nahin prastut karti, balki bhartiy aadhunikta ki vilakshantaon ko bhi rekhankit karne ka upakram karti hai. Aadhunikta ki pariyojna ke sanktagrast ho jane aur uttar-adhunik-uttar-aupaniveshik chintkon dvara uski vidambnaon ko ujagar kar diye jane ke uprant gandhi aur marks ka gair-pashchimi samaj ke pariprekshya mein punarpath ek rajnitik aur rannitik zarurat hai. Is zarurat ka ehsas bhartiy aur pashchimi samaj vaigyanikon ke lekhan mein in dinon bahut shiddat se ubharkar aa raha hai. Vidambna ye hai ki hindi ki duniya ne abhi bhi is prkar ke chintan ko zyada tavajjo nahin di hai. Is drishti se vichar karne par aadhunikta ke saath punjivad, upaniveshvad, rashtrvad, vigyan, tarkbuddhi aur loktantr ka vaisa sambandh gair-pashchimi sabhytaon ke saath nahin banta hai, jaisa pashchimi sabhytaon ke saath dikhai padta hai. Is baat ka ehsas gandhi ko hi nahin, hindi navjagran ke yashasvi lekhak premchand ko bhi tha. Ye akaran nahin hai ki premchand ne aadhunikta se jude hue rashtrvad samet sabhi anushangon ki tikhi aalochna ki aur uske vikalp ke rup mein krishak sanskriti, deshaj kaushal, shiksha aur nyay-vyvastha ke mahattv par zor diya. Deshaj gyan ko mahattv denevala vyakti gyan ke srot ke rup mein sirf angrezi ke mahatmya ko svikar nahin kar sakta tha. Isaliye gandhi aur premchand ne hindi aur bhartiy bhashaon ke utthan par itna zor diya. Lekin, hindi ki sahityik sanskriti ke adhikansh mein, bhartiy bhashaon ki asmita aur unke sahitya ka adhyyan bhi yuropiy rashtron ke sahitya ke vazan par kiya gaya. Aadhunik sahityik vidhaon ka chunav aur vikas bhi bahut kuchh pashchimi deshon ke sahitya ke nikash par hua. Ye sab hua jatiy sahitya aur jatiy parampra ka dhindhora pitne ke bavjud. Ye pustak sahitya ke itihas-adhyyan ki is prvritti aur sahityik vidhaon ke vikas ki simaon aur vidambnaon ko bhi apni chinta ka vishay banati hai aur sahi mayne mein apni jatiy sahityik-sanskritik parampra ko ek uchchtar sarjnatmak star par punravishkrit karne ki vicharottejak peshkash karti hai. —purushottam agrval