Look Inside
Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)
Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)
Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)
Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)

Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)

Regular price Rs. 1,297
Sale price Rs. 1,297 Regular price Rs. 1,395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)

Hindi Kahani Ka Itihas : Vol. 3 (1976-2000)

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

गोपाल राय हिन्दी कथा साहित्य के प्रतिष्ठित विश्लेषक और प्रामाणिक इतिहासकार हैं। हिन्दी कहानी के सुदीर्घ इतिहास के प्रत्येक पक्ष पर उन्होंने विस्तार से लिखा है। 'हिन्दी कहानी का इतिहास' शीर्षक से ये उद्भव से लेकर अब तक की हिन्दी कहानी की रचना-यात्रा को लिपिबद्ध कर रहे हैं। इस पुस्तक के दो खंड प्रकाशित हो चुके हैं। प्रस्तुत पुस्तक इसी महत्त्वपूर्ण योजना का तीसरा खंड है।
पहले खंड में 1900-1950 ई. तक की हिन्दी कहानी का इतिहास प्रस्तुत किया गया है। दूसरे खंड में 1951-1975 की हिन्दी कहानी का लेखा-जोखा है। इस तीसरे खंड में 1976 से 2000 के बीच विकसित हिन्दी कहानी का व्यवस्थित इतिहास है। लेखक के अनुसार, ‘इस अवधि में जो कहानी-साहित्य रचा गया, उसकी सीमाएँ तो हैं, पर उसका आलेखन और मूल्यांकन कम ज़रूरी नहीं है। इक्कीसवीं सदी में जो कहानी-साहित्य रचा जा रहा है, उसकी नींव के रूप में इसका विवेचन आवश्यक है।’
पुस्तक की ख़ास विशेषता यह भी है कि कहानी की सक्रियताओं के साथ लेखक ने उन विभिन्न सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक व सांस्कृतिक स्थितियों का भी विश्लेषण किया है। जिनका प्रभाव अनिवार्य रूप से रचनाशीलता पर पड़ता है, तथ्यों की प्रामाणिकता और प्रवृत्तियों के विश्लेषण की क्षमता इसे विशेष रूप से उल्लेखनीय कृति बनाती है।
हिन्दी कहानी के विकासेतिहास में रुचि रखनेवाले पाठकों, शोधार्थियों व लेखकों के लिए समान रूप से महत्त्वपूर्ण कृति। Gopal raay hindi katha sahitya ke prtishthit vishleshak aur pramanik itihaskar hain. Hindi kahani ke sudirgh itihas ke pratyek paksh par unhonne vistar se likha hai. Hindi kahani ka itihas shirshak se ye udbhav se lekar ab tak ki hindi kahani ki rachna-yatra ko lipibaddh kar rahe hain. Is pustak ke do khand prkashit ho chuke hain. Prastut pustak isi mahattvpurn yojna ka tisra khand hai. Pahle khand mein 1900-1950 ii. Tak ki hindi kahani ka itihas prastut kiya gaya hai. Dusre khand mein 1951-1975 ki hindi kahani ka lekha-jokha hai. Is tisre khand mein 1976 se 2000 ke bich viksit hindi kahani ka vyvasthit itihas hai. Lekhak ke anusar, ‘is avadhi mein jo kahani-sahitya racha gaya, uski simayen to hain, par uska aalekhan aur mulyankan kam zaruri nahin hai. Ikkisvin sadi mein jo kahani-sahitya racha ja raha hai, uski ninv ke rup mein iska vivechan aavashyak hai. ’
Pustak ki khas visheshta ye bhi hai ki kahani ki sakriytaon ke saath lekhak ne un vibhinn samajik, aarthik, rajnitik va sanskritik sthitiyon ka bhi vishleshan kiya hai. Jinka prbhav anivarya rup se rachnashilta par padta hai, tathyon ki pramanikta aur prvrittiyon ke vishleshan ki kshamta ise vishesh rup se ullekhniy kriti banati hai.
Hindi kahani ke vikasetihas mein ruchi rakhnevale pathkon, shodharthiyon va lekhkon ke liye saman rup se mahattvpurn kriti.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products