BackBack
-11%

Hindi Dalit Sahitya Sanchayita

Rs. 850 Rs. 757

सवर्णवाद के सामाजिक-सांस्कृतिक वर्चस्व को चुनौती देनेवाले दलित साहित्य का आधार आधुनिक संवैधानिक मूल्य, मानव की सार्वभौमिक समानता और प्रजातंत्र में विश्वास है, और प्रेरणा का स्रोत उस अनन्त पीड़ा में है जो इस देश की दलित जातियों ने सदियों-सदियों अकारण और बिना कोई प्रतिरोध किए सही है। सन् 1914... Read More

Description

सवर्णवाद के सामाजिक-सांस्कृतिक वर्चस्व को चुनौती देनेवाले दलित साहित्य का आधार आधुनिक संवैधानिक मूल्य, मानव की सार्वभौमिक समानता और प्रजातंत्र में विश्वास है, और प्रेरणा का स्रोत उस अनन्त पीड़ा में है जो इस देश की दलित जातियों ने सदियों-सदियों अकारण और बिना कोई प्रतिरोध किए सही है। सन् 1914 में ‘सरस्वती’ में प्रकाशित हीरा डोम की कविता ‘अछूत की शिकायत’ से आरम्भ मानी जानेवाली दलित साहित्य की यात्रा अठारहवीं-उन्नीसवीं सदी के सामाजिक-राजनीतिक अदालतों और आज़ादी के बाद संविधान से मिले नए स्पेस से होती हुई आज एक स्थापित धारा का रूप ले चुकी है। मात्र प्रतिरोध और आक्रोश की कलाहीन अभिव्यक्ति के आरोपों को झुठलाते हुए अपनी रचनात्मकता को उसने एक भिन्न सौन्दर्यशास्त्रीय ज़मीन भी दी है।
प्रस्तुत संचयिता पिछली पूरी शताब्दी की दलित मनीषा के प्रमुख पड़ावों को संकलित करने का हिन्दी में सम्भवतः पहला सर्वांगीण प्रयास है। विद्रोह की तीव्र आकांक्षा को बेलाग स्वर में वाणी देनेवाली कविता, दलित जन के संघर्ष को गहराई से रेखांकित करनेवाली कहानी, दलित जीवन के अन्तर्बाह्य रेशों की व्याख्या करनेवाले उपन्यासों की स्वानुभूत पीड़ा की प्रामाणिक अभिव्यक्ति, आत्मकथा और अपनी पहचान के लिए लड़ रही रचना को ठोस वैचारिक आधार प्रदान करनेवाली आलोचना, सभी विधाओं का सम्यक् प्रतिनिधित्व इसमें हुआ है। उद्देश्य यही है कि दलित साहित्य के पाठकों, अध्येताओं और छात्रों को पीड़ा और प्रतिकार से उपजी सन्दर्भमूलक रचनाएँ एक जिल्द में उपलब्ध हो सकें; और दलित साहित्य का मूल स्वर कुछ प्रमुख रचनाओं के माध्यम से सामने लाया जाए।
संचयिता में उनतीस कवियों की कविताएँ, तेरह कहानियाँ, सात महत्त्वपूर्ण उपन्यास-अंश, छह आत्मकथा-अंश और आठ आलोचनात्मक आलेख शामिल हैं। Savarnvad ke samajik-sanskritik varchasv ko chunauti denevale dalit sahitya ka aadhar aadhunik sanvaidhanik mulya, manav ki sarvbhaumik samanta aur prjatantr mein vishvas hai, aur prerna ka srot us anant pida mein hai jo is desh ki dalit jatiyon ne sadiyon-sadiyon akaran aur bina koi pratirodh kiye sahi hai. San 1914 mein ‘sarasvti’ mein prkashit hira dom ki kavita ‘achhut ki shikayat’ se aarambh mani janevali dalit sahitya ki yatra atharahvin-unnisvin sadi ke samajik-rajnitik adalton aur aazadi ke baad sanvidhan se mile ne spes se hoti hui aaj ek sthapit dhara ka rup le chuki hai. Matr pratirodh aur aakrosh ki kalahin abhivyakti ke aaropon ko jhuthlate hue apni rachnatmakta ko usne ek bhinn saundaryshastriy zamin bhi di hai. Prastut sanchayita pichhli puri shatabdi ki dalit manisha ke prmukh padavon ko sanklit karne ka hindi mein sambhvatः pahla sarvangin pryas hai. Vidroh ki tivr aakanksha ko belag svar mein vani denevali kavita, dalit jan ke sangharsh ko gahrai se rekhankit karnevali kahani, dalit jivan ke antarbahya reshon ki vyakhya karnevale upanyason ki svanubhut pida ki pramanik abhivyakti, aatmaktha aur apni pahchan ke liye lad rahi rachna ko thos vaicharik aadhar prdan karnevali aalochna, sabhi vidhaon ka samyak pratinidhitv ismen hua hai. Uddeshya yahi hai ki dalit sahitya ke pathkon, adhyetaon aur chhatron ko pida aur pratikar se upji sandarbhmulak rachnayen ek jild mein uplabdh ho saken; aur dalit sahitya ka mul svar kuchh prmukh rachnaon ke madhyam se samne laya jaye.
Sanchayita mein untis kaviyon ki kavitayen, terah kahaniyan, saat mahattvpurn upanyas-ansh, chhah aatmaktha-ansh aur aath aalochnatmak aalekh shamil hain.