BackBack

Hashiye Ki Zindagi

Rs. 125

गत डेढ़ दशक से हाशिए के लोगों की ज़िन्दगी भारतीय साहित्य में केन्द्रीय विषय के रूप में प्रमुखता से रेखांकित हो रही है। पश्चिमी साहित्य में तो ऐसा पहले से ही था। व्यावहारिक तौर पर हाशिया और हाशिए के लोग, मुख्यधारा के पोषक, रक्षक और उसकी मान-मर्यादा-संस्कार-सौष्ठव के संरक्षक होते... Read More

BlackBlack
Description

गत डेढ़ दशक से हाशिए के लोगों की ज़िन्दगी भारतीय साहित्य में केन्द्रीय विषय के रूप में प्रमुखता से रेखांकित हो रही है। पश्चिमी साहित्य में तो ऐसा पहले से ही था। व्यावहारिक तौर पर हाशिया और हाशिए के लोग, मुख्यधारा के पोषक, रक्षक और उसकी मान-मर्यादा-संस्कार-सौष्ठव के संरक्षक होते हैं। मुख्यधारा के लोगों की जीवन-पद्धति के लिए वे बड़े उपयोगी, किन्तु बहुत जल्दी त्याज्य हो जाते हैं। उपयोग और उपेक्षा की यह अवधि इनके लिए इतनी वेदनामयी होती है कि मानवता के ढाँचे की बुनियाद हिल जाती है।
नुज़्हत हसन की सात कहानियों का यह संकलन ‘हाशिए की ज़िन्दगी’ समाज की ऐसी ही विडम्बनाओं का जीवन्त लेखा-जोखा है। हिन्दी में हाशिए के लोगों की ज़िन्दगी पर काफ़ी कुछ लिखा-पढ़ा गया है, बावजूद इसके अपने चिन्तन की ताज़गी के कारण ये कहानियाँ भारतीय पाठकों के लिए महत्त्वपूर्ण हैं। मानवीय संवेदनाओं की नाजुक परतें इन कहानियों में स्तब्ध हो उठती हैं। मृतात्माओं की अर्थी को शीश नवानेवाले इस देश में कोढ़ियों की लाश की क्या दुर्गति होती है, थोपे गए कलंक के कारण हत्या कर दिए गए व्यक्ति की सन्तान समाज में किस अपमान का शिकार होती है, एक जल्लाद के मन में अपनी सन्तान के लिए कैसी हलचल होती है...ये कहानियाँ इन तमाम बातों का जायज़ा विस्तार से लेती हैं। साहित्य में ये विषय अछूते नहीं हैं, पर यह कहने में कोई हिचक नहीं होनी चाहिए कि इन विषयों के आयाम एकदम से अछूते हैं। जिस कौशल और संवेदनाओं के जिस धरातल से इन कहानियों में बात उठाई गई है, वह लेखिका की जीवनदृष्टि और सामाजिक दायित्व का स्पष्ट फलक रेखांकित करता है। मूल अंग्रेज़ी से अनूदित इन कहानियों में हमारे आस-पास बिखरे कथा-सूत्र हमारी ही आँखों में उँगलियाँ डाल रही है। Gat dedh dashak se hashiye ke logon ki zindagi bhartiy sahitya mein kendriy vishay ke rup mein pramukhta se rekhankit ho rahi hai. Pashchimi sahitya mein to aisa pahle se hi tha. Vyavharik taur par hashiya aur hashiye ke log, mukhydhara ke poshak, rakshak aur uski man-maryada-sanskar-saushthav ke sanrakshak hote hain. Mukhydhara ke logon ki jivan-paddhati ke liye ve bade upyogi, kintu bahut jaldi tyajya ho jate hain. Upyog aur upeksha ki ye avadhi inke liye itni vednamyi hoti hai ki manavta ke dhanche ki buniyad hil jati hai. Nuzhat hasan ki saat kahaniyon ka ye sanklan ‘hashiye ki zindgi’ samaj ki aisi hi vidambnaon ka jivant lekha-jokha hai. Hindi mein hashiye ke logon ki zindagi par kafi kuchh likha-padha gaya hai, bavjud iske apne chintan ki tazgi ke karan ye kahaniyan bhartiy pathkon ke liye mahattvpurn hain. Manviy sanvednaon ki najuk parten in kahaniyon mein stabdh ho uthti hain. Mritatmaon ki arthi ko shish navanevale is desh mein kodhiyon ki lash ki kya durgati hoti hai, thope ge kalank ke karan hatya kar diye ge vyakti ki santan samaj mein kis apman ka shikar hoti hai, ek jallad ke man mein apni santan ke liye kaisi halchal hoti hai. . . Ye kahaniyan in tamam baton ka jayza vistar se leti hain. Sahitya mein ye vishay achhute nahin hain, par ye kahne mein koi hichak nahin honi chahiye ki in vishyon ke aayam ekdam se achhute hain. Jis kaushal aur sanvednaon ke jis dharatal se in kahaniyon mein baat uthai gai hai, vah lekhika ki jivandrishti aur samajik dayitv ka spasht phalak rekhankit karta hai. Mul angrezi se anudit in kahaniyon mein hamare aas-pas bikhre katha-sutr hamari hi aankhon mein ungliyan daal rahi hai.